मेरी बातें

अभी शेष है

कितने ही दिन मास वर्ष युग कल्प थक गए कहते कहते
पर जीवन की रामकहानी कहते कहते अभी शेष है ||
हर क्षण देखो घटता जाता साँसों का यह कोष मनुज का
और उधर बढ़ता जाता है वह देखो व्यापार मरण का |
सागर सरिता सूखे जाते, चाँद सितारे टूटे जाते
पर पथराई आँखों में कुछ बहता पानी अभी शेष है ||
एक ईंट पर खड़ा महल है, तो दूजी पर कड़ी कब्र है
एक बार है लाश जी रही, एक बार मर रहा जीव है |
एक लहर जो चली कूल से, नाव तलक आ पार खो गया
जन्म मरण की इस द्विविधा में जीत हार तो अभी शेष है ||
एक दिये से सुबह जल उठी, एक दिये से रात ढल गई
एक हवा से चमन खिल उठा, एक हवा से कली बिखर गई |
किसी डाल पर पुष्प खिल गए, कोई सुमन संग धूल बन गई
संहारों और निर्माणों में जीवन का सच अभी शेष है ||
आज, आज का वर्तमान, पर कल का है अतीत कहलाता
और भविष्यत ? सिर्फ़ भूत का मूक गीत ही तो है गाता |
जीवन की चुटकी भर हलचल में हर एक पल मरण घुला है
पर हर बुझती हुई धड़कन में पीर पुरानी अभी शेष है ||

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s