मेरी बातें

मनुज हृदय

मोम समान द्रवित होता था मनुज हृदय जो, आज उसे पत्थर सम निर्मम होते देखा |
परहित निज जीवन तज सकता, उसी मनुज को आज उच्च प्रस्तर भवनों में रहते देखा ||
लगी प्यास जब उसको, नदी तीर वह आया, देखा उसने बहुत स्वच्छ था जल नदिया का
बहुत पिया जल किन्तु रहा प्यासा का प्यासा, क्योंकि रक्त मनुज का ही तो उसको भाता |
शोणित हित उसको हमने ललचाते देखा, आज उसे पत्थर सम निर्मम होते देखा ||
हरे भरे ये खेत और खलिहान अनूठे, करते आकर्षित उसको वरदान प्रकृति के
किन्तु भूख न मिटती उसकी मधुर अन्न से, भूख मिटा सकता वह केवल रजत स्वर्ण से |
हीरे मोती हित उसको अकुलाते देखा, उसे उच्च प्रस्तर भवनों में रहते देखा ||
कहता था वह सत्य बोलना धर्म परम है, मात पिता गुरुजन की सेवा लक्ष्य चरम है
आज वही है सत्य बोलने से घबराया, उसके मात पिता गुरुजन सब केवल माया |
पाकर माया मुदित भाव इठलाते देखा, आज उसे पत्थर सम निर्मम होते देखा ||
रात अमावस की जब दीवाली सजती है, अँधियारी वह रात पूर्णिमा सी जगती है
धन की देवी का करता है वह अभिनन्दन, लक्ष्मी को लक्ष्मी ही करता है वह अर्पण |
स्वर्ण बना है देव, उसे हर्षाते देखा, उसे उच्च प्रस्तर भवनों में रहते देखा ||

एक अजूबा

एक अजूबा हमने देखा खड़ा हुआ फुटपाथ पर
पगला पगला कहकर बच्चे फेंक रहे पत्थर उस पर |
वह था चीख चीख कर बोला सुनो, नहीं मैं पगला हूँ
मैं तुम सबके दादा जैसा, मत मारो पत्थर मुझ पर ||
बहुत दिनों से भूखा प्यासा फिरता गली गली मारा
तन पर चिथड़ा धोती डाले भीख माँगता था दर दर |
कभी कोई तो दया करेगा इसीलिये भागा फिरता
पर लोगों ने बंद किये दरवाज़े उसको धकिया कर ||
जिनके हाथों में पत्थर थे कुछ पल को वे ठहर गए
मगर तभी कोई चिल्लाया, बरसाओ पत्थर इस पर |
बोला, यह या तो है पगला, या फिर कोई चोर उचक्का
या फिर है आतंकवादियों का कोई मुखिया यह नर ||
कुछ पल सोचा बच्चों ने फिर बरसाए पत्थर उस पर
लथपथ हुआ खून से तत्क्षण संज्ञाशून्य गिरा भू पर |
कहीं हुआ दंगा है सुनकर आई टुकड़ी एक पुलिस की
दूर भगाया बच्चों को फिर डंडे का दिखला कर डर ||
ज्यों ही मिली ख़बर दंगे की, मंत्री जी पहुँचे तत्क्षण
शव को देखा, कुछ पल सोचा, बैठे गाड़ी में जाकर |
अगले दिन ये छपी ख़बर थी अखबारों में प्रथम पृष्ठ पर
वीर पुलिस ने ढेर किया एक आतंकी चौराहे पर ||

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s