मेरी बातें

है समय अब भी संभल जा

ओ सरल नादान मानव है समय अब भी संभल जा |
बन्द कर दे आज तो यह खेल जीवन और मरण का ||
मन में मीठी कल्पना ले, नीड़ स्वप्नों में बनाकर
जा रहे उड़ते विहग संकेत सा करते गगन में |
चाँद भी खोया गगन में, जो बना सबका सहारा
बन्द कर दे आज तो यह खेल जीवन और मरण का ||
हैं थकित तन और मन, हैं थक चुकीं अभिलाष सारी
साँस भी चलती थकित सी, झूमती पुतली नयन की |
है बड़ी हलचल जगत में, मिट गया सौन्दर्य नभ का
बन्द कर दे आज तो यह खेल जीवन और मरण का ||
खेल होगा बन्द कब तक, कौन जीतेगा यहाँ
हर कोई इससे अपरिचित लड़खड़ाता खेलता |
जबकि सम्मुख हो रहा है खून सबके सुख सपन का
बन्द कर दे आज तो यह खेल जीवन और मरण का ||

व्यथा

उर है मेरा व्यथित कहो फिर कैसे गीत मिलन के गाऊँ
रोती आँखों को कैसे मैं प्यार भरे सपने दिखलाऊँ ||
कहता है मन मेरा मुझसे कर पर पर विश्वास घनेरा
निज पर ही विश्वास मगर यह कर न सका आकुल मन मेरा |
नहीं आत्मविश्वास जगा फिर कैसे पर विश्वास जगाऊँ ||
किया अन्धविश्वास मनुज ने मानव मन के भोलेपन पर
किन्तु बना बारूद फटा वह मनुष्यता के कोमल तन पर |
क्यों न कहो फिर मानवता को दानवता के सम मैं पाऊँ ||
मानव के इस छल बल से तो दानवता भी है डर जाती
और क्रूरता भी अचरज में पड़ी मनुजता को निहारती |
स्वयं बना मन शत्रु स्वयं का, कैसे कोई मीत बनाऊँ ||
नहीं व्यथा यह केवल मेरी, पीड़ा यह जन जन के मन की
करनी है सब दूर वेदना मुझको जगती के मानस की |
क्यों न आज मैं पहले निज में, फिर पर में विश्वास जगाऊँ ||

आज मानवता है चिंतातुर बनी बैठी यहाँ

आज जीवन से सरल है मृत्यु बन बैठी यहाँ
और मानवता है चिंतातुर बनी बैठी यहाँ ||
एक हो कोई समस्या उसका हल भी मिले
पर यहाँ तो कितनी चिंताओं के हैं विषधर खड़े |
इनके दाँतों के ज़हर से मनुज बचता ना यहाँ |
और मानवता है चिंतातुर बनी बैठी यहाँ ||
भय के अनगिन बाज उसके पास हैं मंडरा रहे
और दुःख के व्याघ्र उसके पास गर्जन कर रहे |
इनसे बचने को नहीं कोई राह मिलती है यहाँ |
और मानवता है चिंतातुर बनी बैठी यहाँ ||
जिसको समझा नाव वह तो बोझ से बोझिल कोई
चरमराता टूटता सा काष्ठ का एक खण्ड था |
है डुबा डाला भँवर में, आज मन रोता यहाँ
और मानवता है चिंतातुर बनी बैठी यहाँ ||
आज नफ़रत के ज़हर का पान करता हर मनुज
और मानवता को तज कर देव बनता है मनुज |
कंठ है अवरुद्ध, ना जीता न मरता है यहाँ
और मानवता है चिंतातुर बनी बैठी यहाँ ||

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s