होली है

होली है, हुडदंग मचा लो, सारे बन्धन तोड़ दो |
और नियम संयम की सारी आज दीवारें तोड़ दो ||
कैसा नखरा, किसका नखरा, आज सभी को रंग डालो |
जो होगा देखा जाएगा, आज न रंग में भंग डालो ||
माना गोरी सर से पल्ला खिसकाके देगी गाली
तीखी धार कटारी की है, मत समझो भोली भाली |
पर टेसू के रंग में इसको सराबोर तुम आज करो
शहद पगी गाली के बदले मुख गुलाल से लाल करो ||
पूरा बरस दबा रक्खी थी साध, उसे पूरी कर लो
जी भरके गाली दो, मन की हर कालिख़ बाहर फेंको ||
नहीं कोई है रीत, नहीं है कोई बन्दिश होली में
मन को जिसमें ख़ुशी मिले, बस ऐसी तुम मस्ती भर लो ||
जो रूठा हो, आगे बढ़के उसको गले लगा लो आज
बाँहों में भरके आँखों से मन की तुम कह डालो आज |
शरम हया की बात करो मत, बन्धन ढीले आज करो
नाचो गाओ धूम मचाओ, पिचकारी में रंग भरो ||
गोरी चाहे प्यार के रंग में रंगना, मान उसका रख लो
कान्हा चाहे निज बाँहों में भरना, दिल उसका रख लो |
डालो ऐसा रंग, न छूटे बार बार जो धुलकर भी
तन मन पुलकित हो, कुछ ऐसा प्रेम प्यार का रंग भर दो ||

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s