ताओस पुएब्लो

अगले दिन यानी रविवार को पागोसा से ताओस के लिये रवाना होना था | पिछले दो दिनों से सुबह 7 बजते बजते कार में सवार हो जाते थे, लिहाज़ा रविवार को कुछ देर से जागने का सोचा गया | क्योंकि ताओस वहाँ से 157 मील की दूरी पर था, जो तीन घंटे से अधिक का समय नहीं लेती | तो रविवार को पागोसा में चाय नाश्ता करके 11 बजे के लगभग ताओस के लिये चल दिये, और जैसा सोचा था, दोपहर 2 बजे से कुछ पहले ही ताओस पहुँच गए थे | इस बार ताओस केवल पुएब्लो देखने के लिए ही आये थे, कयोंकि इससे पहले जब ताओस आये थे तो प्लाज़ा और दूसरी जगहें घूमने के चक्कर में इतनी देर हो गई थी कि पुएब्लो बंद हो चुका था | लिहाज़ा इस बार सोचा कि लंच बाद में करेंगे, पहले पुएब्लो देखकर आया जाए, और सबसे पहले वहीं का रुख़ किया | सौभाग्य से गाइडेड टूर का समय था, तो और दूसरे पर्यटकों के साथ हम भी गाइड के साथ हो लिये | ताओस पुएब्लो को यूनेस्को ने First Living World Heritage की श्रेणी में रखा है | जैसे भारत में पुराने ज़माने में गाँवों में मिट्टी के घर हुआ करते थे, यहाँ अभी भी उसी तरह के घर हैं, जिनमें सैंकड़ों सालों से पीढ़ी दर पीढ़ी ये लोग रहते आ रहे हैं – न यहाँ बिजली है न पानी… बहती नदी के पानी से अपनी रोजमर्राह की ज़रूरतें ये लोग पूरी करते हैं और सूरज ढलते ढलते अपने अपने घरों में घुस जाते हैं | पूरी तरह से प्राकृतिक वातावरण में जीते हैं ये लोग और इसी तरह भविष्य में भी रहना चाहते हैं | लगभग 25-30 आदिवासी नेटिव इन्डियन्स परिवार इस गाँव में रहते हैं जिनमें कई पीढ़ियों के लोग यानी पोते परपोते से लेकर दादा परदादा तक शामिल हैं और सब एक ही छत के नीचे रहते हैं | गाँव चारों तरफ से मिट्टी की चारदीवारी से घिरा हुआ है | घरों की छत पर जाने के लिये लकड़ी की सीढ़ियाँ इस्तेमाल की जाती हैं | खाना पकाने के लिये हर घर के बाहर मिट्टी का बड़ा सा तन्दूर बना हुआ है | यहाँ के इस ओवन में बेक की हुई ब्रेड्स लोकल बाज़ारों में भी बिकने के लिये आती हैं | इसके अतिरिक्त यहाँ के लोग पेंटिंग, फ़ोटोग्राफ़ी, मूर्तिकला, नृत्य-नाट्य, ड्रम बनाने, मिट्टी के बर्तन बनाने, मोतियों और तरह तरह के पत्थरों से आभूषण आदि बनाने और चमड़े के काम के बड़े अच्छे कारीगर हैं और यही सब इनके धनोपार्जन का ज़रिया भी हैं | गाँव में प्रवेश करते ही बड़ी खूबसूरत और गाँव वालों की कलात्मक रूचि का परिचय देती चर्च है, पर चर्च के फोटो लेने पर पाबन्दी है | ये लोग बहुत अधिक धर्मनिष्ठ लोग हैं और अपने पुराने रीति रिवाज़ों का कट्टरता से पालन करते हैं | जिस दिन कोई बड़ा धार्मिक आयोजन होता है उस दिन गाँव में पर्यटकों का प्रवेश वर्जित हो जाता है |

20151025_144234 20151025_144346 20151025_145155 20151025_145806

हर घर के बाहर ऐसे ही गोल गोल बड़े बड़े मिट्टी के ओवन यानी तंदूर बने होते हैं…

20151025_144550

हिमशिखर के नीचे बसा गाँव….

20151025_145104

1619 में नेटिव इण्डियन मज़दूरों से स्पेनिश प्रीस्ट ने ये चर्च बनवाई थी जो बहुत विशाल थी, कहते हैं नेटिव इन्डियन्स के विद्रोह के समय इसमें काफ़ी तादाद में महिलाएँ और बच्चे आकर छिप गये थे जिस कारण इसे उन शरणार्थियों के साथ ही बम से उड़ा दिया गया था | आज बस इसका ये Bell Tower ही बाक़ी हैं, और यहाँ पर क़ब्रिस्तान बना दिया गया है क्योंकि सैंकड़ों औरतें बच्चे जो यहाँ शरण लिये हुए थे यहाँ ज़िन्दा दफ़न हो गये थे…

20151025_145655 20151025_145752

ताओस पुएब्लो की रोमांचक यात्रा के बाद हम पहुँचे San Francisco De Asis Church, ये यहाँ की सबसे ज़्यादा फोटोग्राफ्ट चर्च मानी जाती है, यहाँ भी चर्च के भीतर की कलात्मकता के फोटो लेना तो वर्जित था, बाहर के ही कुछ फोटो ले सके……. ये चर्च के बाहर से ली गई फोटो…

20151025_161702 20151025_161718

चर्च के भीतर से बाहर का दृश्य…

20151025_161754

चर्च के मुख्य प्रवेश के भीतर का भाग…

20151025_161747 20151025_161808 20151025_161823 20151025_162033 20151025_162040 20151025_162104 20151025_162114 20151025_162128

चर्च का बाहरी भाग…

20151025_161601 20151025_161648 download images (4) images

चर्च के आस पास की कुछ बिल्डिंग्स… ये बिल्डिंग्स भी चर्च जितनी ही पुरानी हैं…

20151025_162206 20151025_162210 images (3)

Advertisements

Ouray

 

 

 

 

 

20151024_100418

कुछ देर सिल्वरस्टोन में बिताकर फिर आगे चले Ouray के लिये… जो सिल्वरस्टोन से महज़ 25 मील यानी लगभग 40 किलोमीटर की दूरी पर था और बर्फीले रास्तों से होते हुए Million Dollar Highway से जहाँ घंटे भर में पहुँच गए… रास्ते में Coal Bank Pass और Molas Pass से होते हुए Red Mountain Pass से गुज़रे, जो 11 हज़ार फिट से ज़्यादा की ऊँचाई पर था… Ouray में ही लंच करके और वहाँ की खूबसूरती को आँखों में समाकर पागोसा के लिये वापस चल दिये… इस पूरे क्षेत्र को “अमेरिका का स्विट्ज़रलैंड” कहा जाता है…

20151024_100425 20151024_100352 20151024_100517 20151024_105333 20151024_105342 20151024_110253 20151024_110259 20151024_110347 20151024_110437

1882 में बना ये स्कूल बताता है कि ये पर्वतीय नगर कम से कम डेढ़ सौ साल पुराना तो होगा ही…

 

20151024_110955

 

20151024_112340 20151024_112425

20151024_114923 20151024_115025 20151024_115033 20151024_115209 20151024_115252

720109247_40147 720107250_40146 720108351_39517 720109572_39798 720109247_40147 720313862_75138 830928332_1563 830928805_1560 830928602_1533 830928626_1514

Ouray का एक खूबसूरत घर…

850635767_83306

850633321_84255 850637181_83233 850637277_82875

 

पागोसा स्प्रिंग्स, कोलाराडो, अमेरिका

इस शुक्रवार को कोलाराडो में पागोसा स्प्रिंग्स और Ouray जाने का सुअवसर प्राप्त हुआ | Albuquerque से सुबह सुबह पागोसा के लिये निकले थे | 216 मील यानी लगभग 345 किलोमीटर की ड्राइव पौने चार घंटे में पूरी हो गई | शुरू से ही बर्फ से ढकी पहाड़ियाँ दिखाई देनी शुरू हुईं तो हम तीनों सारे रास्ते गाते गुनगुनाते पागोसा पहुँच गए | पागोसा में जिस रिसोर्ट में ठहरे थे उसमें हमारे कमरे के ठीक नीचे से ही बहुत बड़ी झील थी जो सारे रिसोर्ट में जा रही थी | झील के चारों तरफ कमरे बने थे | यहाँ गन्धक के Hot Springs हैं, जिनके लिए कहा जाता है कि त्वचा के लिए बहुत अच्छा होता है ये पानी | यही कारण है कि यात्रियों को लुभाने के लिए हर रिसोर्ट में इनके बाथ टब बने हुए हैं | इनमें बैठते ही वास्तव में ऐसा लगता है मानों कब कबकी थकान रफूचक्कर हो गई हो | हमारे कमरे के नीचे की झील से सुबह और शाम के नज़ारे…

20151023_182859 20151024_070648 20151024_070657 20151024_181558 20151024_181606 20151025_092159 20151025_092207 720111863_40501 720313888_75581 850633974_83895