Monthly Archives: April 2016

नूपुरपाश

हेमन्त रमपुरा  चला आया था और वहीं एक अलग मकान लेकर रहना शुरू कर दिया था | कान्ता सारा सारा दिन उसकी सेवा में लगी रहती थी और रात को मुजरे के लिए कोठे पर आ जाया करती थी | कैसे न करती, अपनी और हेमन्त …

स्रोत: नूपुरपाश

नूपुरपाश

हेमन्त की सगाई थी उस दिन | दोनों बहनों के नाच गाने ने सबका मन मोह लिया | “मोद मद से भरी लाज की निर्झरी, नव वधू आ गई लो वधू आ गई | गीत गाओ सखी शुभ मनाओ सखी…..” खूब सारे गहने, कपड़े और नगदी इनाम…

स्रोत: नूपुरपाश