उमड़ घुमड़ बादल छाएँ

उमड़ घुमड़ कर बादल छाएँ, पिऊ पिऊ पपिहा गाए |
दमक दमक दम बिजली दमके, सनन सनन पुरवा डोले ||
ये बादल के टुकड़े लगते गोरी के मुखड़े जैसे
घूँघट में जो कभी जा छिपे, और कभी घूँघट खोले |
पिघला जाता है नभ ऐसे जैसे मीत कोई बिछड़े ||
चुपके चुपके हवा वो देखो आँखमिचौली है करती
और कभी सोने सी किरणें इनको पास बुला लेतीं |
तेज़ हवाओं से देखो ये कभी लगें सिकुड़े सिकुड़े ||
कभी ये खोते, कभी ये रोते, कभी ये धरती से मिलते
कभी उछलते, कभी मचलते, और कभी हैं लहराते |
कितनी कोई कर ले कोशिश, कभी न जाएँ ये जकड़े ||

19

1 thought on “उमड़ घुमड़ बादल छाएँ

  1. Pingback: उमड़ घुमड़ बादल छाएँ – purnimakatyayan

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s