Monthly Archives: November 2016

शुभ प्रभात

हम सभी आजकल नोट बन्दी पर चल रही पॉलिटिक्स में वैचारिक स्तर पर इतना उलझे हुए हैं कि दोस्तों को सुबह की राम-राम कहना भी भूल जाते हैं । मैं खुद भी इस बीमारी से अछूती नहीं हूँ और जाने अनजाने इसी जाल मे…

स्रोत: शुभ प्रभात