देव प्रबोधिनी एकादशी

सुप्तेत्वयिजगन्नाथ जगत्सुप्तंभवेदिदम् । विबुद्धेत्वयिबुध्येतजगत्सर्वचराचरम् ॥

हे जगन्नाथ ! आपके सो जाने पर यह सारा जगत सो जाता है तथा आपके जागने पर समस्त चराचर पुनः जागृत हो जाता है तथा फिर से इसके समस्त कर्म पूर्ववत आरम्भ हो जाते हैं…

देव प्रबोधिनी एकादशी की सभी को हार्दिक शुभकामनाएँ…

http://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2017/10/31/%e0%a4%a6%e0%a5%87%e0%a4%b5-%e0%a4%aa%e0%a5%8d%e0%a4%b0%e0%a4%ac%e0%a5%8b%e0%a4%a7%e0%a4%bf%e0%a4%a8%e0%a5%80-%e0%a4%8f%e0%a4%95%e0%a4%be%e0%a4%a6%e0%a4%b6%e0%a5%80/

 

Advertisements

गोपाष्टमी

गोपाष्टमी पर्व के माध्यम से गौ को पूज्य बताकर उनकी रक्षा के विधान का श्रेय जाता है भगवन श्री कृष्ण को | उन्होंने अनुभव किया कि ग्रामवासी इन्द्र की तो पूजा करते हैं – जिसे हम देख भी नहीं सकते, लेकिन अपने आस पास की वस्तुओं तथा प्रकृति की उपेक्षा करते हैं | तब उन्होंने प्रकृति का महत्त्व समझाने तथा उसके प्रति लोगों के मन में श्रद्धा भाव उत्पन्न करने के लिए गोवर्धन पूजा का आरम्भ किया और गायों के प्रति सम्मान व्यक्त करने के लिए तथा उनकी रक्षा के उद्देश्य से गोपाष्टमी का आरम्भ किया | वर्तमान में भारत में प्रायः सभी भागों में गोपाष्टमी का पर्व धूम धाम से मनाया जाता है |

गौ माता को नमन के साथ सभी को गोपाष्टमी की हार्दिक बधाई…

http://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2017/10/28/%e0%a4%97%e0%a5%8b%e0%a4%aa%e0%a4%be%e0%a4%b7%e0%a5%8d%e0%a4%9f%e0%a4%ae%e0%a5%80/

छठ पूजा की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ

छठ पूजा मुख्य रूप से पूर्वी भारत के बिहार, झारखण्ड, पूर्वी उत्तर प्रदेश और नेपाल के तराई क्षेत्रों में मनाया जाने वाला भगवान भास्कर की आराधना का चार दिवसीय लोक पर्व है, जो कार्तिक शुक्ल चतुर्थी को आरम्भ होकर कार्तिक शुक्ल सप्तमी को सम्पन्न होता है |

ऊँ भूर्भुव: स्व: तत्सवितुर्वरेण्यं भर्गो देवस्य धीमहि । धियो यो न: प्रचोदयात् ।।

सृष्टिकर्ता प्रकाशमान भगवान आदित्यदेव हम सबके हृदयों से जड़ता का अन्धकार दूर कर चेतना, ज्ञान तथा सद्गुणों का प्रकाश पसारित करें, इसी कामना के साथ सभी को छठ पूजा की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएँ…

 

http://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2017/10/26/%e0%a4%9b%e0%a4%a0-%e0%a4%aa%e0%a5%82%e0%a4%9c%e0%a4%be-%e0%a4%95%e0%a5%80-%e0%a4%b9%e0%a4%be%e0%a4%b0%e0%a5%8d%e0%a4%a6%e0%a4%bf%e0%a4%95-%e0%a4%ac%e0%a4%a7%e0%a4%be%e0%a4%88-%e0%a4%94%e0%a4%b0/

 

यम द्वितीय और चित्रगुप्त जयन्ती की हार्दिक शुभकामनाएँ

यम द्वितीया यानी भाई दूज भाई बहन का एक स्नेह तथा उल्लासमय पर्व है | इस उल्लास तथा स्नेहमय पर्व की सभी को हार्दिक शुभकामनाएँ…

http://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2017/10/21/%e0%a4%af%e0%a4%ae-%e0%a4%a6%e0%a5%8d%e0%a4%b5%e0%a4%bf%e0%a4%a4%e0%a5%80%e0%a4%af%e0%a4%be-%e0%a4%94%e0%a4%b0-%e0%a4%9a%e0%a4%bf%e0%a4%a4%e0%a5%8d%e0%a4%b0%e0%a4%97%e0%a5%81%e0%a4%aa%e0%a5%8d/

 

धन्वन्तरी त्रयोदशी

देवताओं के वैद्य तथा आयुर्वेद के जनक वैद्य धन्वन्तरी को श्रद्धापूर्वक नमन करते हुए सभी को धन्वन्तरी त्रयोदशी – धनतेरस – की हार्दिक शुभकामनाएँ… इस आशा के साथ कि सभी स्वस्थ और सुखी रहें…

http://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2017/10/17/%e0%a4%a7%e0%a4%a8%e0%a5%8d%e0%a4%b5%e0%a4%a8%e0%a5%8d%e0%a4%a4%e0%a4%b0%e0%a5%80-%e0%a4%a4%e0%a5%8d%e0%a4%b0%e0%a4%af%e0%a5%8b%e0%a4%a6%e0%a4%b6%e0%a5%80-%e0%a4%95%e0%a5%80-%e0%a4%b9%e0%a4%be/

 

पाँच पर्वों की श्रृंखला दीपावली

धनतेरस, नरक चतुर्दशी, लक्ष्मी पूजन, गोवर्धन पूजा और भाई दूज – इन पाँच उल्लासमय पर्वों की एक “मालिका” है दीपमालिका का पर्व | सभी को इन पर्वों की हार्दिक शुभकामनाएँ…

http://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2017/10/16/%e0%a4%aa%e0%a4%be%e0%a4%81%e0%a4%9a-%e0%a4%89%e0%a4%b2%e0%a5%8d%e0%a4%b2%e0%a4%be%e0%a4%b8%e0%a4%ae%e0%a4%af-%e0%a4%aa%e0%a4%b0%e0%a5%8d%e0%a4%b5%e0%a5%8b%e0%a4%82-%e0%a4%95%e0%a5%80-%e0%a4%ae/