यमगण्ड

पञ्चांग के पाँचों अंगों तथा राहुकाल के विषय में जानने के बाद अब यमगण्ड के विषय में चर्चा करते हैं | जैसा कि नाम से ही विदित होता है – Vedic Astrologers यमगण्ड को भी पूर्ण रूप से वर्जित काल ही मानते हैं | ऐसा माना जाता है कि इस अवधि में किसी भी कार्य का आरम्भ किया जाए तो उसके पूर्ण होने में सन्देह रहता है |

किन्तु इस सबसे ऊपर व्यक्ति का अपना कर्म होता है | व्यक्ति में कर्म करने की सामर्थ्य और योग्यता है तो अशुभ मुहूर्त को भी अनुकूल बना सकता है |

 

To read full article, go to:

 

http://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2017/12/27/%e0%a4%af%e0%a4%ae%e0%a4%97%e0%a4%a3%e0%a5%8d%e0%a4%a1/

 

 

 

 

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s