Monthly Archives: September 2018

via Weekly Horoscope

Advertisements

आज का विचार

हमें कुछ भी कर्म करते हुए सबसे पहले स्वयं विचार करना चाहिए कि जो भी हम कर रहे हैं वह कर्म ऐसा न हो जिसे हम भुला पाने में असमर्थ हों | ईश्वर हर अनुचित कृत्य के लिए व्यक्ति को क्षमा कर सकता है, किन्तु व्यक्ति को इतनी सामर्थ्य नहीं देता कि वह स्वयं को क्षमा कर सके | अतः हमें कभी भी ऐसा कोई भी कार्य नहीं करना चाहिए जिसके लिए हम स्वयं को क्षमा न कर सकें | इसीलिए यदि किसी के प्रति भूल से भी कोई अपराध हो भी जाए तो उसके लिए आगे बढ़कर स्वयं ही हृदय की गहराइयों से क्षमायाचना कर लेनी चाहिए | सभी का आज का दिन मंगलमय हो…