अहोई अष्टमी

via अहोई अष्टमी

Advertisements

अहोई अष्टमी

कल यानी 31 अक्टूबर को उत्तर भारत में महिलाएँ अहोई अष्टमी के व्रत का पालन करेंगी | अहोई अष्टमी व्रत का पालन मूलतः उत्तर भारत में ही किया जाता है | यह व्रत करवाचौथ के चार दिन बाद यानी कार्तिक कृष्ण अष्टमी को और दीपावली से आठ दिन पूर्व किया जाता है | प्राय: अहोई अष्टमी उसी वार की होती है जिस वार की दीपावली होती है | जैसे इस वर्ष 7 नवम्बर यानी बुधवार को दीपावली का पर्व है और कल भी बुधवार ही है | कल प्रातः ग्यारह बजकर नौ बजे तक सप्तमी तिथि है और उसके बाद कार्तिक कृष्ण अष्टमी आ जाएगी जो गुरूवार प्रातः नौ बजकर दस मिनट तक रहेगी | यह पर्व आँचलिक लोक पर्व है | इस दिन सभी माताएँ अपनी सन्तानों की दीर्घायु, सुख समृद्धि तथा मंगल कामना से सारा दिन उपवास रखकर सायंकाल अहोई माता की पूजा करके लोक परम्परा अथवा अपने अपने परिवार की परम्परा के अनुसार तारों अथवा चन्द्रमा को अर्घ्य देकर व्रत का पारायण करती हैं | Astrologers के अनुसार जो महिलाएँ तारों को अर्घ्य देकर व्रत का पारायण करती हैं उनके लिए सायं छह बजकर बारह मिनट से पारायण काल का मुहूर्त आरम्भ हो जाएगा, और जो महिलाएँ चन्द्रमा को अर्घ्य देकर व्रत का पारायण करती हैं उनके लिए रात्रि ग्यारह बजकर पचास मिनट अर्घ्य का समय है क्योंकि इसी समय चन्द्रमा के दर्शन होंगे | उत्तर भारत में ही कई स्थानों पर नि:सन्तान माताएँ सन्तानप्राप्ति की कामना से भी इस व्रत का पालन करती हैं | पूजा के समय अहोई अष्टमी व्रत से सम्बन्धित कथा सुनने की भी प्रथा है |

वैष्णव इस दिन बहुला अष्टमी मनाते हैं | जो मुख्यतः राधा-कृष्ण को समर्पित है | माना जाता है कि वृन्दावन में स्थित राधा कुण्ड और श्याम कुण्ड बहुला अष्टमी के दिन ही प्रकट हुए थे | अहोई अष्टमी की ही तरह इन कुण्डों के विषय में भी मान्यता है कि नि:सन्तान लोग यदि आज के दिन अर्द्धरात्रि को (निशीथ काल में) इन कुण्डों में स्नान करते हैं तो उन्हें सन्तान की प्राप्ति होती है |

मूलतः सभी अष्टमी माँ दुर्गा को समर्पित होती हैं और अहोई माता भी शक्ति का ही एक रूप है जो समस्त कष्टों से परिवार की रक्षा करके सुख समृद्धि प्रदान करती हैं |

एक और बात, केवल भारत में ही नहीं, बल्कि संसार के हर देश में जो भी धार्मिक कथाएँ कही सुनी या पढ़ी जाती हैं उन सबके पीछे कोई न कोई नैतिक शिक्षा अवश्य होती है | कथाओं के माध्यम से जो सीख लोगों को दी जाती है वह सहजगम्य होती है, इसीलिए सम्भवतः इस प्रकार की नैतिक कथाओं को पर्वों के साथ जोड़ा गया होगा | अहोई अष्टमी की भी अलग अलग स्थानीय परम्पराओं – अलग अलग स्थानीय जीवन शैलियों के आधार पर कई तरह की कहानियाँ प्रचार में हैं जिनको व्रत की पूजा के दौरान पढ़ा और सुना जाता है | यदि उन पर ध्यान दें तो पाएँगे कि उन सबमें दो नैतिक शिक्षाएँ प्रमुख रूप से निहित हैं – एक ये कि कोई भी कार्य भली भाँति सोच विचार कर करना चाहिए, बिना सोचे समझे किया गया कार्य अन्त में कष्ट का कारण बनता है | और दूसरी ये कि जीव ह्त्या नहीं करनी चाहिए, यदि भूल से ऐसा हो भी जाए तो उसका पता चलने पर हृदय से उसके लिए पश्चात्ताप तथा प्रायश्चित अवश्य करना चाहिए |

हम सभी सोच विचार कर हर कार्य करते हुए तथा जीव ह्त्या से बचते हुए आगे बढ़ते रहें, इसी भावना के साथ सभी माताओं तथा उनकी सन्तानों को अहोई अष्टमी और बहुला अष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ…

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2018/10/30/ahoi-ashtami/

 

करवाचौथ की हार्दिक शुभकामनाएँ

शनिवार को चन्द्रमा यदि रोहिणी नक्षत्र में हो तो सर्वार्थसिद्धि योग बनता है | ज्योतिषियों के अनुसार इस बार 27 अक्टूबर शनिवार को महिलाएँ अपने सुख सौभाग्य की कामना से करवाचौथ या करक चतुर्थी का व्रत रखेंगी, और सौभाग्य से इस दिन सर्वार्थसिद्ध योग भी बन रहा है | चन्द्रमा दूसरे दिन प्रातः 07:22 तक रोहिणी नक्षत्र पर ही रहेगा | इस शुभ योग में करवा चौथ की सभी को हार्दिक शुभकामनाएँ…

कल शनिवार 27 अक्टूबर को सायं छह बजकर सैंतीस मिनट तक तृतीया तिथि रहेगी और उसके बाद चतुर्थी तिथि आ जाएगी जो अगले दिन सायं 04:54 तक रहेगी | लेकिन करवाचौथ के व्रत का पारायण उस समय किया जाता है जब चन्द्रदर्शन के समय चतुर्थी तिथि रहे | इसीलिए तृतीया में व्रत रखकर तृतीया-चतुर्थी के सन्धिकाल – प्रदोष काल – में पूजा अर्चना का विधान है | कुछ स्थानों पर निशीथ काल – मध्य रात्रि – में भी करवा चौथ की पूजा अर्चना की जाती है | इस अवसर पर अन्य देवी देवताओं के साथ शिव परिवार की पूजा अर्चना की जाती है | 27 अक्टूबर को 18:37 तक तृतीया के साथ साथ विष्टि करण अर्थात भद्रा भी रहेगी इसलिए सन्धिकाल में पूजा नहीं की जा सकती | पूजा सायं 06:37 के बाद ही आरम्भ होगी | यद्यपि कुछ लोग जो भद्रा का विचार नहीं करते उनकी मान्यता है कि सन्धिकाल में भी पूजा की जा सकती है | दिल्ली में चन्द्रदर्शन का समय रात्रि 8 बजे के लगभग है | यों प्रायः सभी राज्यों में 07:55 से 08:20 के मध्य चन्द्रदर्शन का समय है |

करवाचौथ – जिसे करक चतुर्थी भी कहा जाता है – का पालन उत्तर भारत में प्रायः सभी विवाहित हिन्दू महिलाएँ चिर सौभाग्य की कामना से करती हैं और जिसमें पार्वती तथा गणेश की पूजा का विधान है | इस व्रत को पार्वती की तपस्या का प्रतीक भी माना जाता है | कुछ स्थानों पर उन लड़कियों से भी यह व्रत कराया जाता है जो विवाह योग्य होती हैं अथवा जिनका विवाह तय हो चुका है | यह व्रत पारिवारिक परम्पराओं तथा स्थानीय रीति रिवाज़ के अनुसार किया जाता है | व्रत की कहानियाँ भी अलग अलग हैं | लेकिन कहानी कोई भी हो, एक बात हर कहानी में समान है कि बहन को व्रत में भूखा प्यासा देख भाइयों ने नकली चाँद दिखाकर बहन को व्रत का पारायण करा दिया, जिसके फलस्वरूप उसके पति के साथ अशुभ घटना घट गई | कथा एक लोक कथा ही है | लेकिन इस लोक कथा में इस विशेष दुर्घटना का चित्र खींचकर एक बात पर विशेष रूप से बल दिया गया है कि जिस दिन व्यक्ति नियम संयम और धैर्य का पालन करना छोड़ देगा उसी दिन से उसके कार्यों में बाधा पड़नी आरम्भ हो जाएगी | नियमों का धैर्य के साथ पालन करते हुए यदि कार्यरत रहे तो समय अनुकूल बना रह सकता है |

हम सभी नियम संयम की डोर न टूटने दें इसी कामना के साथ सभी महिलाओं को करवाचौथ व्रत की हार्दिक शुभकामनाएँ – इस आशा के साथ कि ऋद्धि सिद्धि दायक भगवान गणेश सभी के परिवारों में सुख, समृद्धि, सौभाग्य तथा स्नेह प्रेम की वर्षा करते रहें…

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2018/10/26/happy-karwachauth-karak-chaturthi/