Monthly Archives: May 2019

बुध का मिथुन में गोचर

बुध का मिथुन में गोचर

कल शनिवार रविवार यानी ज्येष्ठ कृष्ण चतुर्दशी अर्थात 1 जून को 24:17 (मध्यरात्रि में 12:17) के लगभग विष्टि करण और अतिगण्ड योग में बुध अपने मित्र शुक्र की वृषभ राशि से निकल कर अपनी स्वयं की राशि मिथुन में प्रविष्ट होगा | मिथुन राशि में प्रवेश के समय बुध मृगशिरा नक्षत्र में होगा तथा कुछ समय के लिए अस्त भी होगा, किन्तु दो जून को रात्रि नौ बजकर एक मिनट के लगभग बुधोदय हो जाएगा | यहाँ भ्रमण करते हुए पाँच जून को आर्द्रा नक्षत्र और तेरह जून को पुनर्वसु नक्षत्र पर भ्रमण करते हुए अन्त में इक्कीस जून को 26:27 (अर्धरात्र्योत्तर 2:27) के लगभग बुध कर्क राशि में प्रस्थान कर जाएगा | जैसा कि ऊपर लिखा, मिथुन बुध की स्वराशि है तथा बुध की उच्च राशि और मूल त्रिकोण राशि कन्या से मिथुन राशि दशम भाव यानी कर्म स्थान बनता है | ध्यान देने योग्य बात यह है कि मंगल और राहु यहाँ पहले से गोचर कर रहे हैं | बुध की अपनी राशि मिथुन से मंगल षष्ठेश और एकादशेश है तथा बुध की उच्च राशि कन्या से मंगल तृतीयेश और अष्टमेश है | इन समस्त तथ्यों के आधार पर आइये जानने का प्रयास करते हैं कि बुध के मिथुन राशि में गोचर के विभिन्न राशियों पर क्या सम्भावित प्रभाव हो सकते हैं…

किन्तु ध्यान रहे, ये परिणाम सामान्य हैं | किसी कुण्डली के विस्तृत फलादेश के लिए केवल एक ही ग्रह के गोचर को नहीं देखा जाता अपितु किसी योग्य Astrologer द्वारा उस कुण्डली का विभिन्न सूत्रों के आधार पर विस्तृत अध्ययन कराया जाना आवश्यक है |

मेष – आपके लिए तृतीयेश और षष्ठेश होकर बुध का गोचर आपके तृतीय भाव में अपनी ही राशि में हो रहा है | आपके लिए पहले से कहीं अधिक Competitive हो सकते हैं तथा आपकी निर्णायक क्षमता और उत्साह में वृद्धि की भी सम्भावना है जिसके कारण आप अपने कार्य समय पर पूर्ण करने में समर्थ हो सकते हैं | किन्तु साथ ही ऐसे मित्रों को पहचान कर उनसे दूरी बनाने की भी आवश्यकता है जो आपसे ईर्ष्या रखते हैं | सम्भावना कुछ ऐसी भी प्रतीत होती है कि आवश्यकता होने पर भाई बहनों का सहयोग प्राप्त हो सकता है | यद्यपि कुछ विवाद भी सम्भव है, किन्तु अन्त में परिणाम आपके पक्ष में ही होगा | स्वास्थ्य की ओर से सावधान रहने की आवश्यकता है |

वृषभ – आपका द्वितीयेश और पंचमेश होकर बुध का गोचर आपके दूसरे भाव में ही हो रहा है | आर्थिक दृष्टि से अनुकूलता होने के साथ ही आपकी वक्तव्यता तथा आपके लेखन में निखार इस अवधि में आ सकता है जिसके कारण आपसे लोग प्रभावित भी होंगे | आपके व्यवहार में उदारता, कोमलता एवं सौम्यता दिखाई देगी जिसका प्रभाव आपके व्यक्तिगत और व्यावसायिक जीवन पर निश्चित ही पड़ेगा | आपकी सन्तान के लिए भी समय अनुकूल प्रतीत होता है | ड्राइविंग के समय सावधान रहने की आवश्यकता है |

मिथुन – आपके लिए बुध योगकारक होकर अपनी ही राशि में लग्न में गोचर कर रहा है | परिवार में मंगलकार्यों का आयोजन हो सकता है | परिवार में परस्पर सौहार्द का वातावरण रहेगा और समय आमोद प्रमोद में व्यतीत होगा | सामाजिक गतिविधियों में भी वृद्धि की भी सम्भावना है | परिवारजनों का सहयोग आपको अपने कार्य में उपलब्ध होता रहेगा | साथ ही आप अपने लिए कोई नई प्रॉपर्टी भी इस अवधि में खरीद सकते हैं अथवा खरीदने की योजना बना सकते हैं | स्वास्थ्य की ओर से सावधान रहने की आवश्यकता है |

कर्क – कर्क राशि के लिए तृतीयेश और द्वादशेश होकर बुध का गोचर आपके बारहवें भाव में ही हो रहा है | भाई बहनों का सहयोग भी अपने कार्य में आपको प्राप्त रहने की सम्भावना है | कार्य के सिलसिले में आपको तथा आपके भाई बहनों को दूर पास की यात्राएँ भी करनी पड़ सकती हैं, किन्तु इन यात्राओं के दौरान आपको अपने तथा अपने भाई बहनों के स्वास्थ्य का ध्यान रखना होगा | साथ ही आप अपने कार्य में पैसा भी Invest कर सकते हैं, जिसका लाभ आपको भविष्य में अपने कार्य में प्राप्त हो सकता है |

सिंह – आपके लिए बुध द्वितीयेश और एकादशेश होकर आपके एकादश में ही गोचर कर रहा है | आपके लिए विशेष रूप से भाग्योदय का समय प्रतीत होता है | व्यवसाय में प्रगति, नौकरी में पदोन्नति तथा अर्थ और यश प्राप्ति के संकेत हैं | साथ ही यदि आप कोई नया कार्य आरम्भ करना चाहते हैं तो उसके लिए भी अनुकूल समय प्रतीत होता है | बड़े भाई तथा पिता का सहयोग आपको प्राप्त रह सकता है | आप परिवार के साथ कहीं यात्रा आदि के लिए भी जा सकते हैं |

कन्या – आपके लिए आपका लग्नेश तथा दशमेश होकर बुध योगकारक ग्रह है तथा दशम स्थान में गोचर कर रहा है | आपके जीवन में सकारात्मक परिवर्तन के योग हैं | समाज में आपका मान-सम्मान तथा प्रभाव में वृद्धि की सम्भावना है | साथ ही कार्य की दृष्टि से भी यह गोचर अनुकूल प्रतीत होता है | आपको नवीन प्रोजेक्ट्स प्राप्त होते रह सकते हैं और आप लम्बे समय तक उनमें व्यस्त रह सकते हैं तथा उनके माध्यम से धनलाभ कर सकते हैं | किन्तु यदि आपने अपने कण और आँख खुले नहीं रखे तो आपका कोई घनिष्ठ मित्र अथवा भाई ही आपके कार्य में विघ्न का कारण बन सकता है |

तुला – आपके लिए बुध भाग्येश तथा द्वादशेश भाग्य स्थान में ही गोचर कर रहा है | लम्बी विदेश यात्राओं के संकेत प्रतीत होते हैं | साथ ही यदि आपका कार्य किसी रूप में विदेशों से सम्बन्धित है तो उसमें उन्नति की भी सम्भावनाएँ हैं | इसके अतिरिक्त धर्म तथा आध्यात्मिकता की ओर आपकी रूचि बढ़ सकती है | आप किसी धार्मिक संस्था अथवा अस्पताल आदि के लिए धन दान भी करने की योजना बना सकते हैं | किन्तु पोंगा पण्डितों को पहचान कर उनसे बचने की आवश्यकता है अन्यथा बहुत सा धन अनावश्यक ही खर्च हो सकता है |

वृश्चिक – आपके लिए बुध अष्टमेश और एकादशेश है तथा आपके अष्टम भाव में गोचर कर रहा है | कहीं से आकस्मिक लाभ की सम्भावना है | व्यावसायिक रूप से भी अप्रत्याशित सफलता की सम्भावना है | किसी सीनियर के रिटायर होने के कारण आपको उस स्थान पर पदोन्नत भी किया जा सकता है | किन्तु बॉस के साथ पंगा आपके हित में नहीं रहेगा | साथ ही आपके स्वभाव में नकारात्मकता आपके व्यक्तिगत तथा व्यावसायिक जीवन पर विपरीत प्रभाव डाल सकती है | साथ ही स्वास्थ्य का ध्यान रखने की भी आवश्यकता है |

धनु – आपके लिए सप्तमेश और दशमेश होकर बुध योगकारक हो जाता है तथा आपकी राशि से सप्तम भाव में गोचर कर रहा है | आप तथा आपके जीवन साथी के लिए व्यावसायिक दृष्टि से यह गोचर अनुकूल प्रतीत होता है | पार्टनरशिप में कोई कार्य कर रहे हैं तो उसमें भी उन्नति की सम्भावना है | नौकरी में हैं तो पदोन्नति की भी सम्भावना है | लेखकों तथा बुद्धिजीवियों और मीडियाकर्मियों के लिए भी यह गोचर अनुकूल प्रतीत होता है | अविवाहित हैं तो जीवन साथी की खोज भी इस अवधि में पूर्ण हो सकती है | आपकी सन्तान की ओर से कोई शुभ समाचार भी आपको प्राप्त हो सकता है |

मकर – बुध आपका षष्ठेश और भाग्येश है तथा आपकी राशि से छठे भाव में गोचर कर रहा है | यदि कोई कोर्ट केस चल रहा है तो उसमें अनुकूल परिणाम की सम्भावना की जा सकती है | साथ ही बहुत समय से चली आ रही जोड़ों और माँसपेशियों में दर्द के इलाज़ का भी पता इस अवधि में लग सकता है | प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे लोगों के लिए समय अनुकूल फल देने वाला प्रतीत होता है किन्तु उन्हें परिश्रम अधिक करना पड़ेगा | कार्यस्थल पर सहकर्मियों का सहयोग आपको उपलब्ध रहेगा, किन्तु पारिवारिक क्लेश के कारण मानसिक तनाव सम्भव है |

कुम्भ –  आपका पंचमेश और अष्टमेश होकर बुध आपकी राशि से पंचम भाव में गोचर कर रहा है | किसी प्रकार की अप्रत्याशित घटना की सम्भावना की जा सकती है | कार्यस्थल पर वातावरण अनुकूल बना रह सकता है | आपकी सन्तान तथा विद्यार्थियों के लिए यह गोचर विशेष रूप से अनुकूल प्रतीत होता है | किन्तु इसके साथ ही सन्तान के स्वास्थ्य का भी ध्यान रखने की आवश्यकता है | साथ ही सन्तान के साथ किसी प्रकार की बहस से बचने का भी प्रयास आवश्यक है |

मीन – आपके लिए चतुर्थेश और सप्तमेश होकर बुध आपका योगकारक बन जाता है तथा आपके चतुर्थ भाव में ही गोचर कर रहा है | आपके तथा आपके जीवन साथी के लिए यह गोचर भाग्यवर्द्धक प्रतीत होता है | आप कोई नया घर खरीदने की योजना बना सकते हैं | आपको अपने परिवारजनों का तथा मित्रों का सहयोग प्राप्त होता रहेगा तथा परिवार में सौहार्द का वातावरण रहने की सम्भावना है, किन्तु आपको अपनी वाणी और Temperament को संयम में रखने की आवश्यकता है | परिवार में माँगलिक कार्यों की भी सम्भावना प्रतीत होती है |

अन्त में जैसा सदा लिखते हैं, ग्रहों के गोचर अपने नियत समय पर होते ही रहते हैं – यह एक ऐसी खगोलीय घटना है जिसका प्रभाव मानव सहित समस्त प्रकृति पर पड़ता है | वास्तव में सबसे प्रमुख तो व्यक्ति का अपना कर्म होता है | तो, कर्मशील रहते हुए अपने लक्ष्य की ओर हम सभी अग्रसर रहें यही कामना है…

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2019/05/31/mercury-transit-in-gemini-2019/

 

नक्षत्र – एक विश्लेषण

नक्षत्रों की योनियाँ

पिछले लेख में हमने नक्षत्रों की नाड़ियों पर बात की थी | सारे 27 नक्षत्र आद्या, मध्या और अन्त्या इन तीन नाड़ियों में विभक्त होते हैं और प्रत्येक नाड़ी में नौ नक्षत्र होते हैं | नाड़ियों के साथ साथ योनियों में भी नक्षत्रों का वर्गीकरण होता है | प्रत्येक नक्षत्र एक विशेष योनि से सम्बन्ध रखता है अथवा एक विशेष योनि का प्रतिनिधित्व करता है | योनि शब्द का चिर परिचत अर्थ है गर्भाशय, उत्पत्ति का कारक तथा जन्म का वास्तविक स्थान | इसके अतिरिक्त किसी वर्ग विशेष या मनुष्यों की किसी विशिष्ट प्रजाति के लिए भी योनि शब्द का प्रयोग होता है | विवाह के लिए कुण्डली मिलान करते समय अष्टकूट गुणों का मिलान करते हुए नाड़ी दोष की ही भाँती योनि भी मिलाकर देखी जाती हैं | वर वधू दोनों की योनि या तो एक होनी चाहियें या फिर एक दूसरे के लिए अनुकूल होनी चाहियें | इसका कारण यह है कि योनि से मनुष्य के स्वभाव का भी कुछ भान हो जाता है | इसलिए माना जाता है कि अनुकूल या एक ही योनि रहने पर दोनों पक्षों के मध्य अनुकूलता बनी रह सकती है, वहीं यदि एक दूसरे से शत्रु योनि होगी तो परस्पर क्लेश रह सकता है | इस सबके पीछे मान्यता यही है कि संसार का प्रत्येक जीव किसी न किसी योनि से सम्बन्ध रखता है | किन्तु इस सबके विषय में विस्तार से चर्चा “विवाह” प्रकरण में करेंगे | अभी तो नक्षत्रों का योनियों में वर्गीकरण…

जैसा कि ऊपर लिख चुके हैं, ज्योतिषीय गणना के आधार पर 14 योनियों में अभिजित सहित 28 नक्षत्रों को विभाजित किया गया है, जो निम्नवत है:

अश्व योनि : अश्व अर्थात घोड़ा | भगवान सूर्य के रथ में साथ घोड़े लगे होने के कारण अश्व शब्द सात के अंक का भी पर्यायवाची माना जाता है | अश्विनी और शतभिषज नक्षत्र इस योनि के अन्तर्गत आते हैं |

गज योनि : गज अर्थात हाथी | किसी वस्तु की लम्बाई की माप | आठ के अंक का भी पर्यायवाची गज को माना जाता है | साथ ही एक राक्षस का नाम भी गज है जिसका वध भगवान शिव ने किया था | इस योनि के अन्तर्गत भरणी और रेवती नक्षत्र आते हैं |

मेष योनि : मेष अर्थात भेड़ | इस योनि के अन्तर्गत पुष्य और कृत्तिका नक्षत्रों को रखा गया है |

सर्प योनि : सर्प अर्थात साँप, धीरे धीरे सरकने वाला, बहता हुआ, आगे बढ़ता हुआ, लहराता हुआ, टेढ़ा मेढ़ा बलखाता हुआ आदि अर्थों में सर्प शब्द का प्रयोग होता है | वृक्ष को भी सर्प कहा जाता है | प्राचीन काल की एक जनजाति भी सर्प कहलाती थी | रोहिणी और मृगशिरा नक्षत्र इस योनि के अन्तर्गत आते हैं |

श्वान योनि : कुत्ते को श्वान कहा जाता है | मूल और आर्द्रा नक्षत्र इस योनि का प्रतिनिधित्व करते हैं |

मार्जार योनि : मार्जार अर्थात बिल्ली | आश्लेषा और पुनर्वसु नक्षत्र इस योनि में आते हैं |

मूषक योनि : मूषक – चूहा | चोर के लिए भी मूषक शब्द का प्रयोग किया जाता है | इस योनि के अन्तर्गत मघा और पूर्वा फाल्गुनी नक्षत्र आते हैं |

गौ योनि : गौ – गाय | गौ शब्द के अर्थ बहुत विस्तृत हैं | समस्त पशुओं के लिए भी गौ शब्द का प्रयोग किया जाता है | आकाश में चमकते तारकदल को भी गौ कहा जाता है | इसके अतिरिक्त आकाश, इन्द्र का विद्युत्पाश, आकाश में चमकती बिजली, प्रकाश की किरण, हीरा पत्थर, स्वर्गलोक, बाण आदि के लिए भी गौ शब्द का प्रयोग किया जाता है | वाणी और शब्दों को भी गौ कहते हैं | माता के लिए गौ शब्द का प्रयोग सर्वविदित ही है | दिक्सूचक यन्त्र यानी Compass के लिए भी गौ कहा जाता है | जल तथा आँखों के लिए भी यह शब्द प्रयुक्त होता है | उत्तर फाल्गुनी और उत्तर भाद्रपद नक्षत्र इस योनि में रखे गए हैं |

महिष योनि : महिष अर्थात भैंस या भैंसा | महिष यानी भैंसे को धर्म तथा सन्तुलन के प्रतीक यमराज का वाहन भी माना जाता है | अत्यन्त धनाढ्य नरेश – जो कि बहुत से नरेशों का स्वामी हो – को भी महिष कहा जाता है | महिष एक आदरसूचक शब्द भी है जो किसी भी अपने से बड़े व्यक्ति अथवा सम्माननीय व्यक्तियों के लिए प्रयुक्त होता है | एक राक्षस का नाम भी महिष था जिसका संहार माँ दुर्गा ने किया था | महिष योनि में स्वाति और हस्त नक्षत्रों को रखा गया है |

व्याघ्र : व्याघ्र यानी सिंह | आदरसूचक शब्द भी है व्याघ्र, जो सर्वोत्तम अथवा सबसे अधिक सम्माननीय व्यक्ति के लिए प्रयोग किया जाता है | परिवार अथवा समाज अथवा राष्ट्र का मुखिया भी व्याघ्र कहलाता है | लाल रंग का अरण्डी का पौधा यानी Castor Oil Plant भी व्याघ्र कहलाता है | विशाखा और चित्रा नक्षत्र इस योनि में आते हैं |

मृग योनि : सामान्य रूप से किसी भी पशु के लिए मृग शब्द का प्रयोह किया जाता है, किन्तु विशेष रूप से हिरण को मृग कहा जाता है | जंगली जानवर और चन्द्रमा पर दीख पड़ने वाले काले धब्बे के लिए भी मृग शब्द का प्रयोग किया जाता है | अनुसरण करना, प्रयास करना, खोज करना, शिकार करना, परीक्षण करना आदि अर्थों में भी मृग शब्द का बहुतायत से प्रयोग किया जाता है | एक विशेष प्रकार के हाथी को भी मृग कहा जाता है | व्यक्तियों का एक विशिष्ट वर्ग तथा एक प्राचीनकालीन जनजाति भी मृग कहलाती है | ज्येष्ठा और अनुराधा नक्षत्र इस योनि के अन्तर्गत आते हैं |

वानर योनि : नाम से ही स्पष्ट है – बन्दर | बन्दरों से सम्बन्धित समस्त प्रजातियाँ जैसे भालू, Chimpanzee, रीछ आदि भी वानर ही कहलाते हैं | रक्त-श्वेत पुष्पों से युक्त लोध्र वृक्ष को भी वनार की संज्ञा दी जाती है | पूर्वाषाढ़ और श्रवण नक्षत्रों को इस योनि के अन्तर्गत रखा गया है |

नकुल योनि : नकुल यानी नेवला | पुत्र के लिए तथा छोटे व्यक्ति या भाई के लिए भी नकुल शब्द का प्रयोग किया जाता है | इस योनि के अन्तर्गत आने वाले नक्षत्रों के नाम हैं उत्तराषाढ़ और अभिजित |

सिंह योनि : सर्वविदित अर्थ है – शेर | हिंसा शब्द से सिंह शब्द निरूपित हुआ है – जिसका अर्थ ही है किसी को मारना | इसके अतिरिक्त सबसे उत्तम वस्तु या व्यक्ति आदि के लिए तथा समाज के विशिष्ट रूप से सम्मानित वर्ग के लिए भी सिंह शब्द का प्रयोग होता है | पूर्वा भाद्रपद और धनिष्ठा नक्षत्र इस योनि में आते हैं |

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2019/05/21/constellation-nakshatras-42/

 

नक्षत्र – एक विश्लेषण

नक्षत्रों की नाड़ियाँ

पिछले लेख में हमने बात की प्रत्येक नक्षत्र की संज्ञाओं और उनके आधार पर जातक के अनुमानित कर्तव्य कर्मों की | नक्षत्रों का विभाजन नाड़ी, योनि और तत्वों के आधार पर किया गया है | तो आज “नाड़ियों” पर संक्षिप्त चर्चा…

प्रत्येक नक्षत्र की अपनी एक नाड़ी होती है – या यों कह सकते हैं कि प्रत्येक नक्षत्र एक विशेष नाड़ी के अन्तर्गत आता है | ये नाड़ियाँ वास्तव में मानव शरीर के विशिष्ट प्रकार की प्रकृति यानी Constitution का प्रतिनिधित्व करती हैं | इन नाड़ियों का अध्ययन करके यह समझने का प्रयास किया जाता है कि जिस जातक की कुण्डली का हम निरीक्षण कर रहे हैं उस जातक की प्रकृति कफप्रधान यानी Phlegmatic है, या पित्त यानी Bile प्रधान है या वात यानी Air प्रधान है | जो लोग Medical Astrology करते हैं उनके लिए विशेष रूप से इन नाड़ियों का ज्ञान होना आवश्यक है क्योंकि इनके द्वारा रोगी की प्रकृति को समझकर उसके अनुसार उसके रोग का उपचार करने में सहायता प्राप्त होती है |

समय का एक भाग भी नाड़ी कहलाता है | भाचक्र की मध्य की खगोलीय रेखा यानी Celestial Equator भी नाड़ी कहलाती है | इसके अतिरिक्त गुलिका तथा सूर्य की किरण को भी नाड़ी कहा जाता है | मनुष्य के शरीर की नब्ज़ भी नाड़ी कहलाती है – जिसे हाथ से पकड़कर वैद्य रोगी के रोग की पहचान करता है | विवाह के समय दो व्यक्तियों की कुण्डली का मिलान करते हुए यदि नाड़ी दोष पाया जाता है तो या तो ज्योतिषी वहाँ विवाह की सलाह ही नहीं देते, और यदि देते भी हैं तो उसके लिए कुछ उपचार आदि भी बताते हैं | माना जाता है कि नाड़ी दोष में यदि विवाह कर दिया जाए – अर्थात दो व्यक्तियों की एक नाड़ी होने पर यदि विवाह कर दिया जाए – तो सन्तान के लिए हानिकारक होता है | किन्तु आज जब Medical Science इतनी तरक्क़ी कर चुकी है तो ऐसे में इन दोषों का कोई महत्त्व हमारे विचार से नहीं रह जाता | फिर भी इस विषय पर विस्तार से चर्चा “विवाह” प्रकरण में…

नाड़ी मुख्यतया तीन होती हैं, जिनमें 27 नक्षत्रों का विभाजन किया गया है | अर्थात प्रत्येक नाड़ी के अन्तर्गत नौ नक्षत्र आते हैं | जो निम्नवत हैं –

आद्या नाड़ी – शरीर की वात प्रकृति या वायु तत्व का प्रतिनिधित्व करती है | वात दोष से सम्बन्धित समस्याओं जैसे गठिया, आमवात, स्नायुतन्त्र से सम्बन्धित समस्या इत्यादि का ज्ञान इस नाड़ी से होता है | अश्विनी, आर्द्रा, पुनर्वसु, उत्तर फाल्गुनी, हस्त, ज्येष्ठ, मूल, शतभिषज और उत्तर भाद्रपद नक्षत्र आद्या नाड़ी के अन्तर्गत आते हैं |

मध्या नाड़ी – पित्त प्रकृति अर्थात शरीर में अग्नितत्व का प्रतिनिधित्व करती है तथा पित्त दोष से सम्बन्धित समस्याओं का ज्ञान इस नाड़ी से होता है | भरणी, मृगशिर, पुष्य, पूर्वा फाल्गुनी, चित्रा, अनुराधा, पूर्वाषाढ़, धनिष्ठा तथा उत्तर भाद्रपद नक्षत्र इस नाड़ी के अन्तर्गत आते हैं |

अन्त्या नाड़ी – यह नाड़ी मनुष्य के शरीर में कफ और जल तत्व का प्रतिनिधित्व करती है | कृत्तिका, रोहिणी, आश्लेषा, मघा, स्वाति, विशाखा, उत्तराषाढ़, श्रावण और रेवती नक्षत्र अन्त्या नाड़ी के अन्तर्गत आते हैं |

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2019/05/20/constellation-nakshatras-41/