व्रत और उपवास

व्रत और उपवास  

कल यानी तीन जून को उत्तर भारत के अधिकाँश क्षेत्रों में महिलाएँ वट सावित्री अमावस्या व्रत का पालन करेंगी | सर्वप्रथम व्रत रखने वाली सभी महिलाओं को वट सावित्री अमावस्या की हार्दिक शुभकामनाएँ…

केवल भारत में और हिन्दू धर्म में ही नहीं, प्रायः प्रत्येक देश में और लगभग सभी धर्म सम्प्रदायों में किसी न किसी प्रकार रूप में व्रत और उपवास का विधान है | और इस प्रकार व्रत शब्द का प्रचलित अर्थ है एक प्रकार का धार्मिक उपवास – Religious Fasting – जो निश्चित रूप से किसी कामना की पूर्ति के लिए किया जाता है | यह कामना भौतिक भी हो सकती है, धार्मिक भी और आध्यात्मिक भी | कुछ लोग अपने मार्ग में आ रही बाधाओं को दूर करने के लिए व्रत रखते हैं, कुछ रोग से मुक्ति के लिए, कुछ लक्ष्य प्राप्ति के लिए, कुछ आत्मज्ञान की प्राप्ति तथा आत्मोत्थान के लिए, तो कुछ केवल इसलिए कि पीढ़ियों से उनके परिवार में उस व्रत की परम्परा चली आ रही है और उन्हें उस परम्परा का निर्वाह करना है ताकि उनकी सन्तान भी वह सब सीख कर आगे उस परम्परा का निर्वाह करती रहे | मेरी एक मित्र हैं जो कहती हैं कि यदि मैं ये सारे व्रत नहीं रखूँगी तो कल मेरे बच्चे भला कैसे रखेंगे ? उन्हें भी तो कुछ अपने संस्कारों का, रीति रिवाजों का ज्ञान होना चाहिए |

रीति रिवाजों का ज्ञान तो फिर भी ठीक है, लेकिन संस्कार ? ये बात मेरे पल्ले नहीं पड़ती | संस्कार तो सन्तान को हमारे आदर्शों से प्राप्त होते हैं | व्रत उपवास का संस्कार से कुछ लेना देना है ऐसा कम से कम मुझे तो नहीं लगता | यदि हमारे आचरण में सत्यता, करुणा, अहिंसा जैसे गुण हैं तो हमारी सन्तान में निश्चित रूप से वे गुण आएँगे ही आएँगे |

वास्तव में वृ में क्त प्रत्यय लगाकर व्रत शब्द निष्पन्न हुआ है – जिसका अर्थ होता है वरण करना – चयन करना – संकल्प लेना | इस प्रकार व्रत का अर्थ हुआ किसी लक्ष्य की प्राप्ति के लिए संकल्प लेना | यह संकल्प किसी भौतिक लक्ष्य की उपलब्धि के लिए भी हो सकता है और आत्मज्ञान तथा आत्मोन्नति के प्रयास में सत्य तथा कायिक-वाचिक-मानसिक अहिंसा का पालन करने के लिए भी हो सकता है | इसका अर्थ यह कदापि नहीं कि हम भूखे रहकर अपने शरीर को कष्ट पहुँचाएँ | हाँ संकल्प दृढ़ होना चाहिए | हम अपने अज्ञान को दूर करने का व्रत लेते हैं वह वास्तव में सराहनीय है | हम व्रत लेते हैं कि किसी को कष्ट नहीं पहुँचाएँगे, सत्य और अहिंसा का पालन करेंगे, प्राणीमात्र के प्रति करुणाशील रहेंगे – सराहनीय है | किन्तु आज धर्म के साथ व्रत को जोडकर अनेक प्रकार के Rituals यानी रीति रिवाज़ व्रत का अंग बन चुके हैं |

सत्य तो यह है कि संसार का प्रत्येक प्राणी अपने अनुकूल सुख की प्राप्ति और अपने प्रतिकूल दु:ख की निवृत्ति चाहता है | मानव की इस परिस्थिति को अवगत कर त्रिकालज्ञ और परहित में रत ऋषि मुनियों ने वेद पुराणों तथा स्मृति आदि ग्रन्थों को आत्मसात करके सुख की प्राप्ति तथा दुःख से निवृत्ति के लिए अनेक उपाय बताए हैं | उन्हीं उपायों में से व्रत और उपवास मानव को सुगम्य प्रतीत होते हैं | व्रतों का विधान करने वाले ग्रन्थों में व्रत के अनेक अंग प्राप्त होते हैं, उपवास उन्हीं अंगों में से एक अंग है | व्रत वास्तव में संकल्प को कहते हैं और संकल्प किसी भी कार्य के निमित्त हो सकता है | किन्तु इसे केवल धर्म तक ही सीमित कर दिया गया है | आज संसार के हर धर्म में किसी न किसी रूप में व्रत और उपवास का पालन किया जाता है | माना जाता है कि व्रत के आचरण से पापों का नाश, पुण्य का उदय, शरीर और मन की शुद्धि, मनोरथ की प्राप्ति और शान्ति तथा परम पुरुषार्थ की सिद्धि होती है। सर्वप्रथम अग्नि उपासना का व्रत वेदों में उपलब्ध होता है जिसके लिए विधि विधानपूर्वक अग्नि का परिग्रह आवश्यक होता था | उसके बाद ही व्रती को यज्ञ का अधिकार प्राप्त होता था |

धार्मिक दृष्टि से देखें तो नित्य, नैमित्तिक और काम्य तीन प्रकार के व्रत होते हैं जिन्हें कर्म की संज्ञा भी दी गई है | जिस व्रत का आचरण सदा आवश्यक है जैसे शरीर शुद्धि, सत्य, इन्द्रियनिग्रह, क्षमा, अपरिग्रह इत्यादि नित्य व्रत हैं | किसी निमित्त के उपस्थित हो जाने पर किये जाने व्रत जैसे प्रदोष, एकादशी पूर्णिमा इत्यादि के व्रत नैमित्तिक व्रत हैं | तथा किसी कामना से किये गए व्रत काम्य व्रत हैं – जैसे सन्तान प्राप्ति के लिए लोग व्रत रखते हैं |

उपवास का शाब्दिक अर्थ है उप + वास अर्थात निकट बैठना – अपनी आत्मा के केन्द्र में स्थित हो जाना | जैसे उपनिषद | उपनिषद का अर्थ है समीप बैठकर कहना और सुनना – शिष्य ज्ञानप्राप्ति के लिए गुरु के निकट बैठता था और उस समय जो ज्ञान उसे प्राप्त हुआ वह उपनिषद कहलाया | इसी प्रकार उपवास का अर्थ भी है निकट उपस्थित होना | क्योंकि आत्मज्ञान का जिज्ञासु यदि स्वयं के केन्द्र में स्थित होगा तो उसके लिए प्रगति का मार्ग सरल हो जाएगा, सम्भव है इसीलिए उपवास में भोजन न करने का विधान रहा होगा | आज भी उपवास की मूलभूत भावना तो यही है | किन्तु हमने उसे भी अपनी सुविधा के अनुसार ढाल लिया है | आज व्रत में संकल्प लेते हैं उपवास करने का – भोजन न करने का, किन्तु किसी एक भोज्य पदार्थ के सेवन की अनुमति होती है | लिहाजा उस एक ही भोज्य पदार्थ को किस प्रकार अपने स्वाद के अनुसार बना लिया जाए – आज व्रती का सारा समय इसी विचार तथा प्रक्रिया में बीत जाता है | वास्तव में हम “उपवास” नहीं करते, हम व्रत ले लेते हैं – संकल्प धारण कर लेते हैं कि आज अमुक पदार्थ का सेवन नहीं करेंगे और इसे ही उपवास मान बैठते हैं | ऐसे में “आत्मस्थ” होने का अवसर ही कैसे मिल सकेगा ?

इसके अतिरिक्त शारीरिक स्वास्थ्य की दृष्टि से भी उपवास का अत्यन्त महत्त्व हमारे शास्त्रकारों ने माना है | एक दिन का भी उपवास ये सप्ताह में, पन्द्रह दिन में, एक माह में अथवा अपनी शारीरिक और मानसिक अवस्था को ध्यान में रखते हुए किया जाए तो समूचे पाचन तन्त्र पर इसका अनुकूल प्रभाव होता है | सम्भवतः इसलिए भी हमारे ऋषि मुनियों ने उपवास को मनुष्यों की धार्मिक भावना के साथ जोड़ा होगा | सभी व्रतोपवास के लिए भोजन सम्बन्धी जो नियम पौराणिक उपाख्यानों में उपलब्ध होते हैं वे ऋतुओं को ध्यान में रखकर ही बनाए गए थे | उनके पीछे उद्देश्य यही था कि किस ऋतु में किस प्रकार के भोजन से किस प्रकार की शारीरिक समस्याएँ हो सकती हैं तो उन पदार्थों का कुछ समय के लिए त्याग कर दिया जाए | साथ ही पूरे दिन के लिए सभी प्रकार के भोजन का त्याग करके उपवास करने को सबसे उत्तम उपवास माना गया और उसके पारायण के समय ऋतुओं के अनुकूल ही सात्त्विक भोज्य पदार्थों के सेवन का नियम रखा गया | शरीर स्वस्थ रहेगा तो व्रत यानी संकल्पों का पालन भी व्यक्ति पूर्ण निष्ठा के साथ कर सकता है – फिर चाहे वे संकल्प किसी प्रकार के भौतिक लक्ष्य की प्राप्त के लिए हों अथवा आध्यात्मिक दृष्टि से आत्मज्ञान और आत्मोत्थान की दिशा में प्रगति के लिए…

तो यदि वास्तव में व्रतोपवास का पालन करना है तो आत्मस्थ होने का संकल्प सबसे पहले लेना होगा – वह भी अपनी शारीरिक तथा मानसिक अवस्था और मौसम को देखते हुए… शेष तो सब भौतिक आडम्बर मात्र हैं…

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2019/06/02/vrat-and-upvas/

 

1 thought on “व्रत और उपवास

  1. Pingback: व्रत और उपवास – katyayani.purnimakatyayan

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s