Monthly Archives: October 2019

छठ पूजा

छठ पूजा

शनिवार दो नवम्बर – कार्तिक शुक्ल षष्ठी – छठ पूजा का पावन पर्व – जिसका आरम्भ कल यानी कार्तिक शुक्ल चतुर्थी से ही हो जाएगा और सारा वातावरण “हमहूँ अरघिया देबई हे छठी मैया” और “कांच ही बाँस के बहंगिया बहंगी चालकत जाए” जैसे मधुर लोकगीतों से गुंजायमान हो उठेगा | सर्वप्रथम सभी को छठ पूजा की हार्दिक शुभकामनाएँ…

जैसा कि सभी जानते हैं, छठ पर्व हिन्दू समुदाय के लिए मूलतः भगवान सूर्य  की आराधना का पर्व है | वास्तव में देखा जाए तो हिन्दू धर्म के देवताओं में केवल सूर्य और चन्द्रमा ही ऐसे देवता हैं जिन्हें मूर्त रूप में देखा तथा अनुभव किया जा सकता है | सम्भवतः इसीलिए विभिन्न पर्वों पर इन्हीं की उपासना का विधान है | साथ ही इन पर्वों के द्वारा इस वास्तविकता का भी भान होता है कि प्राचीन काल में प्रकृति के प्रति कितना अधिक सम्मान का भाव न केवल समाज के एक विशिष्ट वर्ग अपितु जन साधारण के मन में भी था | दक्षिण भारत में इस पर्व को स्कन्द षष्ठी के रूप में भी मनाया जाता है | इस दिन भगवान शिव और पार्वती के पुत्र स्कन्द यानी कार्तिकेय की पूजा अर्चना का विधान है |

एक नवम्बर को 24:52 (अर्द्धरात्रि में बारह बजकर पावन मिनट के लगभग) षष्टी तिथि लग जाएगी जो तीन नवम्बर को 25:30 (अर्द्धरात्र्योत्तर एक बजकर तीस मिनट) तक रहेगी | दो तारीख को सूर्योदय प्रातः छह बजकर तैंतीस मिनट पर तथा सूर्यास्त सायं पाँच बजकर छत्तीस मिनट पर है | इस दिन व्रत रखने वाले लोग प्रत्यूषा काल में यानी डूबते सूर्य को जल देंगे | कार्तिक शुक्ल चतुर्थी से आरम्भ हुए चार दिवसीय छठ पूजा का समापन कार्तिक शुक्ल सप्तमी यानी तीन नवम्बर के भोर के स्नान के साथ होगा जिसमें उदित होते सूर्य को यानी प्रातः छह बजकर चौदह मिनट के लगभग भगवान भास्कर को अर्घ्य समर्पित करेंगे |

सूर्य की शक्तियों का मुख्य स्रोत हैं उनकी दो पत्नियाँ – उषा (भोर की प्रथम किरण) तथा प्रत्यूषा (सूर्यास्त के समय की अन्तिम किरण) अथवा सन्ध्या | छठ पर्व के अवसर पर सूर्य के साथ उनकी इन दोनों शक्तियों की भी आराधना की जाती है | प्रातःकाल में उषा की प्रथम किरण के साथ आरम्भ होकर प्रत्यूषा काल में सूर्य की अन्तिम किरण तक पूजा अर्चना चलती रहती है | ऐसा सम्भवतः इसलिए किया जाता रहा हो कि सूर्य को ऊर्जा तथा जीवनी शक्ति का स्रोत माना जाता है | यह पर्व वर्ष में दो बार मनाया जाता है – चैत्र शुक्ल षष्ठी को और कार्तिक शुक्ल षष्ठी को | जिनमें कार्तिक शुक्ल षष्ठी के छठ पर्व को विशेष धूम धाम के साथ मनाया जाता है | यह पर्व दीपावली के लगभग एक सप्ताह बाद पवित्र नदियों के तटों पर मनाया जाता है |

छठ पूजा के सम्बन्ध में अनेक कथाएँ प्रचलित हैं | माना जाता है कि भगवान राम और माता सीता जब चौदह वर्षों के वनवास के बाद अयोध्या वापस लौटे थे तो उन्होंने दीपावली के छः दिन बाद कार्तिक शुक्ल षष्ठी को उपवास रखकर छठ पूजा की थी | सूर्यवंशी होने के कारण भगवान राम के लिए भगवान सूर्य की प्रार्थना आवश्यक ही थी |

एक अन्य मान्यता के अनुसार सूर्यदेव और कुन्ती के पुत्र कर्ण ने षष्ठी पूजा के रूप में अपने पिता और समस्त चराचर के लिए ऊर्जा प्रदान करने वाले सूर्यदेव की उपासना आरम्भ की थी | उसने घण्टों जल के मध्य खड़े होकर भगवान भास्कर को अर्घ्य प्रदान किया था जिसके फलस्वरूप वह महान योद्धा बना | आज भी कमर तक जल के मध्य खड़े होकर भगवान भास्कर को अर्घ्य प्रदान किया जाता है |

एक अन्य मान्यता के अनुसार पाण्डवों के वनवास की अवधि में द्रौपदी ने कार्तिक शुक्ल षष्ठी को उपवास रखकर सूर्यदेव की उपासना की थी जिसके परिणामस्वरूप समस्त कुरुवंश का संहार करने में पाण्डव समर्थ हुए थे |

कुछ लोग इसे माता कात्यायनी के साथ भी जोड़ते हैं | षष्ठी तिथि माता कात्यायनी की पूजा के लिए मानी जाती है, क्योंकि नवदुर्गा में माता कात्यायनी का स्थान छठी देवी के रूप में माना जाता है |

एक मान्यता यह भी है कि कार्तिक शुक्ल पञ्चमी के सूर्यास्त तथा षष्ठी के सूर्योदय के मध्य किसी समय महर्षि वशिष्ठ की प्रेरणा से भगवान सूर्य की आराधना करते समय राजर्षि विश्वामित्र के मुख से अनायास ही गायत्री मन्त्र फूट पड़ा था |

मान्यताएँ अनेक हैं – पौराणिक भी और लोकमान्यताएँ भी – किन्तु मूल तथ्य यह है छठ पूजा मुख्य रूप से पूर्वी भारत के बिहार, झारखण्ड, पूर्वी उत्तर प्रदेश और नेपाल के तराई क्षेत्रों में मनाया जाने वाला भगवान भास्कर की आराधना का चार दिवसीय लोक पर्व है, जो कार्तिक शुक्ल चतुर्थी को आरम्भ होकर कार्तिक शुक्ल सप्तमी को सम्पन्न होता है |

ऊँ भूर्भुव: स्व: तत्सवितुर्वरेण्यं भर्गो देवस्य धीमहि । धियो यो न: प्रचोदयात् ।।

सृष्टिकर्ता प्रकाशमान भगवान आदित्यदेव हम सबके हृदयों से जड़ता का अन्धकार दूर कर चेतना, ज्ञान तथा सद्गुणों का प्रकाश पसारित करें, इसी कामना के साथ सभी को छठ पूजा की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएँ…

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2019/10/30/chhath-puja-2/

 

शुक्र का वृश्चिक में गोचर

दीपावली की गहमा गहमी समाप्त हुई, अब दो नवम्बर को छठ पूजा का आयोजन होगा, जिसका आरम्भ कल कार्तिक शुक्ल चतुर्थी से हो जाएगा | सभी को छठ पर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ…

इस बीच सोमवार 28 अक्तूबर को प्रातःकाल आठ बजकर बत्तीस मिनट के लगभग समस्त सांसारिक सुख, समृद्धि, विवाह, परिवार सुख, कला, शिल्प, सौन्दर्य, बौद्धिकता, राजनीति तथा समाज में मान प्रतिष्ठा में वृद्धि आदि का कारक शुक्र अपनी स्वयं की राशि तुला से निकलकर मंगल की वृश्चिक राशि में प्रविष्ट हो चुका है | शुक्र के वृश्चिक राशि में प्रवेश के समय कार्तिक कृष्ण अमावस्या तिथि, नाग करण और प्रीति योग था तथा बुध और गुरु के साथ शुक्र इस समय विशाखा नक्षत्र पर था | यहाँ से 31 से अनुराधा तथा दस नवम्बर से ज्येष्ठा नक्षत्र पर भ्रमण करते हुए अन्त में 21 नवम्बर को दिन में बारह बजकर तेईस मिनट के लगभग धनु राशि और मूल नक्षत्र पर प्रस्थान कर जाएगा | शुक्र की अपनी राशि वृषभ से वृश्चिक राशि सप्तम भाव तथा तुला के लिए वृश्चिक राशि द्वितीय भाव बन जाती है | साथ ही वृश्चिक राशि के लिए शुक्र द्वादशेश और सप्तमेश बन जाता है | इन्हीं समस्त तथ्यों के आधार पर जानने का प्रयास करते हैं कि प्रत्येक राशि के लिए शुक्र के वृश्चिक राशि में गोचर के सम्भावित परिणाम क्या रह सकते हैं…

किन्तु ध्यान रहे, ये समस्त फल सामान्य हैं | व्यक्ति विशेष की कुण्डली का व्यापक अध्ययन करके ही किसी निश्चित परिणाम पर पहुँचा जा सकता है | अतः कुण्डली का विविध सूत्रों के आधार पर व्यापक अध्ययन कराने के लिए किसी Astrologer के पास ही जाना उचित रहेगा |

मेष : आपका द्वितीयेश और सप्तमेश होकर शुक्र का गोचर आपके अष्टम भाव में हो रहा है | इस अवधि में एक ओर जहाँ किसी प्रकार से भी गुप्त विरोधियों की ओर से सावधान रहने की आवश्यकता है | आप स्वयं भी इस दौरान ऐसा कोई कार्य न करें जिसके कारण आपकी मान प्रतिष्ठा को किसी प्रकार की हानि होने की सम्भावना हो | वहीं दूसरी ओर आपके कार्य की दृष्टि से तथा आर्थिक दृष्टि से यह गोचर अनुकूल प्रतीत होता है | किन्तु पैसे के लेन देन के प्रति सावधान रहने की आवश्यकता है | आपकी वाणी प्रभावशाली बनी रहेगी | Opposite Sex की ओर इस अवधि में आपका झुकाव बढ़ सकता है | आगे बढ़ने से पूर्व पार्टनर के सम्बन्ध में पूरी जानकारी अवश्य हासिल कर लें | साथ ही पार्टनरशिप में कार्य आरम्भ करना चाहते हैं तो उसके लिए भी यह गोचर अनुकूल नहीं प्रतीत होता | यदि आप महिला हैं तो आपको विशेष रूप से स्वास्थ्य के प्रति सावधान रहने की आवश्यकता है |

वृषभ : आपका राश्यधिपति तथा षष्ठेश होकर शुक्र आपके सप्तम भाव में गोचर करने जा रहा है | आपके उत्साह और मनोबल में वृद्धि के साथ ही आपका व्यक्तित्व भी इस अवधि में प्रभावशाली रहने की सम्भावना है | साथ ही यदि आप कलाकार हैं या सौन्दर्य से सम्बन्धित किसी कार्य जैसे ब्यूटी पार्लर आदि का कार्य है तो आपके लिए यह गोचर विशेष रूप से भाग्यवर्द्धक प्रतीत होता है | आय के नवीन स्रोत आपके तथा आपके जीवन साथी के समक्ष उपस्थित हो सकते हैं | यदि किसी के साथ Romantic Relationship में हैं तो उसमें विघ्न उपस्थित हो सकता है | विवाहित हैं तो दाम्पत्य जीवन में भी किसी मित्र के कारण तनाव उत्पन्न होने के संकेत हैं | सुख सुविधाओं के साधनों में वृद्धि के योग हैं |

मिथुन : आपका पंचमेश और द्वादशेश होकर शुक्र का गोचर आपकी राशि से छठे भाव में हो रहा है | एक ओर आपके लिए उत्साह में वृद्धि के योग प्रतीत होते हैं तो वहीं दूसरी ओर आपके लिए यह गोचर चुनौतियों से भरा हुआ भी हो सकता है | उन मित्रों को पहचानकर उनसे दूर होने की आवश्यकता है जो आपसे प्रेम दिखाते हैं लेकिन मन में ईर्ष्या का भाव रखते हैं | यदि आप कलाकार अथवा वक्ता हैं तो आपके कार्य की दृष्टि से अनुकूल समय प्रतीत होता है | किसी कोर्ट केस का निर्णय आपके पक्ष में आ सकता है | साथ ही विदेश यात्राओं के भी योग प्रतीत होते हैं | इन यात्राओं के दौरान अपने स्वास्थ्य के प्रति विशेष रूप से सावधान रहने की आवश्यकता है |

कर्क : आपका चतुर्थेश और एकादशेश होकर शुक्र का गोचर आपकी राशि से पंचम भाव में हो रहा है | सन्तान के साथ यदि कुछ समय से किसी प्रकार की अनबन चल रही है तो उसके दूर होने की सम्भावना इस अवधि में की जा सकती है | मान सम्मान तथा आय में वृद्धि के संकेत हैं | नौकरी के लिए इन्टरव्यू दिया है तो उसमें भी सफलता की सम्भावना है | आप इस अवधि में नया घर अथवा वाहन भी खरीद सकते हैं अथवा खरीदने की योजना बना सकते हैं | अपने वर्तमान घर को भी Renovate करा सकते हैं | सन्तान प्राप्ति के भी योग प्रतीत होते हैं | सन्तान के लिए भी यह गोचर समय अनुकूल प्रतीत होता है | आपके व्यक्तित्व में सकारात्मक परिवर्तन होने की सम्भावना है | आप अथवा आपकी सन्तान उच्च शिक्षा, नौकरी अथवा कला के प्रदर्शन के लिए विदेश यात्रा भी कर सकते हैं |

सिंह : आपका तृतीयेश और दशमेश होकर शुक्र का गोचर आपकी राशि से चतुर्थ  भाव में हो रहा है | उत्साह में वृद्धि का समय प्रतीत होता है | आप कोई नया वाहन अथवा घर खरीदने की योजना बना सकते हैं | कार्य में उन्नति तथा आय में वृद्धि के संकेत हैं | किसी महिला मित्र के माध्यम से कोई नया कार्य भी आपको प्राप्त हो सकता है और इस कार्य में आप बहुत समय तक व्यस्त रहते हुए धनलाभ भी कर सकते हैं | परिवार में आनन्द का वातावरण रहेगा | किसी कन्या का विवाह भी इस अवधि में सम्भव है | नौकरी में पदोन्नति की सम्भावना है | मान सम्मान और पुरूस्कार आदि का लाभ भी हो सकता है | सुख सुविधाओं के साधनों में वृद्धि के संकेत हैं |

कन्या : आपका द्वितीयेश और भाग्येश होकर शुक्र आपकी राशि से तीसरे भाव में हो रहा है | एक ओर जहाँ आपके छोटे भाई बहनों के लिए कार्य की दृष्टि से समय अनुकूल प्रतीत होता है वहीं दूसरी ओर आपके लिए भी कार्य में वृद्धि तथा आय में वृद्धि के संकेत प्रतीत होते हैं | आपको इस अवधि में कुछ ऐसे नवीन प्रोजेक्ट्स भी प्राप्त हो सकते हैं जिनके कारण आपकी प्रशंसा होगी और भविष्य में उन प्रोजेक्ट्स का लाभ आपको प्राप्त होगा | आपकी प्रभावशाली वाणी का लाभ भी आपको प्राप्त हो सकता है | आपका कार्य कहीं विदेश से सम्बन्ध रखता है अथवा आप किसी प्रकार की Alternative Therapy से सम्बन्ध रखते हैं या दस्तकार हैं तो आपके लिए यह गोचर भाग्यवर्द्धक प्रतीत होता है |

तुला : लग्नेश और अष्टमेश होकर शुक्र आपकी राशि से दूसरे भाव में गोचर कर रहा है | आर्थिक रूप से स्थिति में दृढ़ता आने के साथ ही आपके लिए कार्य से सम्बन्धित लम्बी विदेश यात्राओं के योग भी प्रतीत होते हैं | नवीन प्रोजेक्ट्स इस अवधि में प्राप्त होते रह सकते हैं जिनके कारण आप बहुत समय तक व्यस्त रहकर अर्थ लाभ भी कर सकते हैं | आपकी वाणी तथा व्यक्तित्व का प्रभाव दूसरों पर पड़ेगा और जिसके कारण आपकी प्रशंसा भी होगी तथा आपको किसी प्रकार का पुरूस्कार आदि भी प्राप्त हो सकता है | धार्मिक तथा आध्यात्मिक गतिविधियों में आपकी रूचि में वृद्धि हो सकती है | आप सपरिवार कहीं घूमने जाने की योजना भी बना सकते हैं | किन्तु साथ ही विरोधियों की ओर से सावधान रहने की भी आवश्यकता है |

वृश्चिक : आपके लिए आपका सप्तमेश और द्वादशेश होकर शुक्र आपकी लग्न में ही गोचर कर रहा है | आप इस अवधि में अपने शारीरिक सौन्दर्य को निखारने में अधिक व्यस्त रह सकते हैं | Romantically यदि कहीं Involve हैं तो उस सम्बन्ध में अन्तरंगता के संकेत प्रतीत होते हैं | विवाहित हैं तो दाम्पत्य जीवन में भी माधुर्य तथा अन्तरंगता बने रहने के संकेत हैं | Opposite Sex के प्रति आपका रुझान इस अवधि में बढ़ सकता है | विदेश यात्राओं में वृद्धि के संकेत भी प्रतीत होते हैं | इन यात्राओं में किसी के प्रति आप आकर्षित हो सकते हैं जो विवाह सम्बन्ध में भी परिणत हो सकता है | किन्तु स्वास्थ्य की ओर से सावधान रहने की आवश्यकता है |

धनु : आपका षष्ठेश और एकादशेश होकर शुक्र का गोचर आपके बारहवें भाव में हो रहा है | आपके लिए यात्राओं में वृद्धि के संकेत प्रतीत होते हैं | इन यात्राओं से एक ओर आपके कार्य में प्रगति की तथा आर्थिक स्थिति में दृढ़ता आने की सम्भावना है तो वहीं दूसरी ओर इन यात्राओं में पैसा भी अधिक खर्च हो सकता है | साथ ही इन यात्राओं के दौरान अपने स्वास्थ्य तथा Important Documents का भी ध्यान रखने की भी आवश्यकता है | वाहन आदि चलाते समय भी किसी प्रकार की दुर्घटना आदि से सावधान रहने की आवश्यकता है | महिलाओं को अधिक रक्तस्राव की समस्या हो सकती है अतः अपनी Gynaecologist से नियमित चेकअप अवश्य कराती रहें |

मकर : आपका योगकारक आपकी राशि से आपकी राशि से लाभ स्थान में गोचर कर रहा है | उत्साह तथा कार्य में वृद्धि के साथ ही धनलाभ के भी संकेत हैं | यदि आपका कोई कोर्ट केस चल रहा है तो उसके अनुकूल दिशा में प्रगति की सम्भावना है | यदि आप किसी प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं तो उसमें भी आपको सफलता प्राप्त हो सकती है | कार्य तथा आय में वृद्धि के साथ ही मान सम्मान में भी वृद्धि की सम्भावना है | रुके हुए कार्य पूर्ण होने की सम्भावना है | जो लोग अभी तक आपकी बात नहीं समझ पा रहे थे वे अब आपके सुझावों का अनुमोदन कर सकते हैं, जिसका लाभ आपको अपने कार्य में निश्चित रूप से प्राप्त हो सकता है | अविवाहित हैं तो जीवन साथी की तलाश भी इस अवधि में पूर्ण हो सकती है | प्रेम सम्बन्ध विवाह में परिणत हो सकता है अथवा कोई नया प्रेम सम्बन्ध भी स्थापित हो सकता है | स्वास्थ्य की दृष्टि से भी यह गोचर अनुकूल प्रतीत होता है |

कुम्भ : आपका योगकारक शुक्र आपकी राशि से दशम भाव में गोचर कर रहा है | आपके कार्य में हर प्रकार से लाभ के संकेत हैं | नौकरी में हैं तो पदोन्नति के साथ स्थानान्तरण के भी संकेत हैं | आपका अपना व्यवसाय है तो उसमें भी प्रगति की सम्भावना है | कलाकारों को किसी प्रकार का पुरूस्कार आदि भी प्राप्त हो सकता है | सहकर्मियों का सहयोग आपको प्राप्त रहेगा जिसके कारण आपके कार्य समय पर पूर्ण होते रहेंगे | परिवार में आनन्द का वातावरण बना रह सकता है | आप अपने लिए नया घर अथवा वाहन भी खरीद सकते हैं, अथवा खरीदने की योजना बना सकते हैं | जिस घर में अभी निवास करते हैं उसे Renovate भी करा सकते हैं | सामाजिक गतिविधियों में वृद्धि के साथ ही मान प्रतिष्ठा में वृद्धि के भी संकेत हैं |

मीन : आपके लिए तृतीयेश और अष्टमेश होकर शुक्र का गोचर आपके नवम भाव में हो रहा है | आपके लिए यह गोचर अत्यन्त भाग्यवर्धक प्रतीत होता है | एक ओर परिवार में सौहार्द का वातावरण बना रहेगा वहीं दूसरी ओर आपके कार्य में भी प्रगति की सम्भावना की जा सकती है | आप इस अवधि में नया घर अथवा वाहन भी खरीद सकते हैं | अथवा जिस घर में आप रहते हैं उसे ही Renovate और Decorate करा सकते हैं | परिवार में माँगलिक कार्यों की भी सम्भावना है | कार्य से सम्बन्धित विदेश यात्राओं के भी योग बन रहे हैं | इन यात्राओं में आपको सफलता प्राप्त हो सकती है | आपके छोटे भाई अथवा बहन का विवाह इस अवधि में हो सकता है | किन्तु छोटे भाई बहनों के साथ व्यर्थ की बहस से बचने का प्रयास आवश्यक है | साथ ही धार्मिक और आध्यात्मिक गतिविधियों में आपकी रूचि बढ़ सकती है |

अन्त में, ग्रहों के गोचर अपने नियत समय पर होते ही रहते हैं – यह एक ऐसी खगोलीय घटना है जिसका प्रभाव मानव सहित समस्त प्रकृति पर पड़ता है | वास्तव में सबसे प्रमुख तो व्यक्ति का अपना कर्म होता है | तो, कर्मशील रहते हुए अपने लक्ष्य की ओर हम सभी अग्रसर रहें इसी कामना के साथ एक बार पुनः छठ पर्व की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएँ…

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2019/10/30/venus-transit-in-scorpio/

 

 

 

 

 

भाई भाई के मध्य भाई दूज

भाई दूज भाई भाई के मध्य भी हो तो कैसा रहे

कल यों ही दो मित्रों की बातें सुनकर मन में कुछ विचार उत्पन्न हुआ जो मित्रों के साथ साझा करने की सोची | एक मित्र दूसरे मित्र से बोल रहा था कि भाई कल दिल्ली वापस आ रहा हूँ और तब हम दोनों भाई मिलकर भाई दूज मनाएँगे | मन में विचार आया कि बात तो सही है, बहन भाई की मङ्गलकामना से भाई का तिलक कर सकती है तो दो भाई आपस में एक दूसरे की मङ्गलकामना से भाई दूज का तिलक क्यों नहीं कर सकते ? मित्रों के साथ इस विचार को साझा किया तो मज़ाक़ मज़ाक़ में शुरू हुई बात ने एक गम्भीर मन्त्रणा का रूप ले लिया जिसे देखकर अच्छा भी लगा और बात को आगे बढ़ाने का मन भी हुआ | अधिकाँश मित्रों ने पुराणों का तर्क देकर इस पर्व को भाई बहन के मध्य ही रहने देने की बात कही – क्योंकि पौराणिक आख्यान यही कहते हैं |

एक मित्र ने बड़ा तर्कसंगत उत्तर लिखा “पुरुष में अहंकार होता है जिससे भाई भाई लड़ते रहते हैं | पिता की संपत्ति हड़पने के लिये गला काटने को तैयार रहते हैं | ऐसे भाई दूसरे भाई की रक्षा क्या करेंगे ? वहीं बहन, यमुना की तरह कालिया से त्रासित होकर भी श्यामल रंग होने के बावजूद भाई के कुशलता की कामना करती है | सहोदर का स्नेह प्राचीन काल से भाई-बहन के बीच ही रहा है, भाई भाई तो महाभारत करवा देते हैं |”

धन्यवाद प्राणनाथ मिश्रा जी, भाई-भाई के मध्य भाई दूज की बात से हम इसी बिन्दु पर पहुँचना चाहते थे | यदि भाई भी भाई को और मित्र भी मित्र को भाई मानकर टीका करने लग जाएँ तो शायद ये “महाभारत” फिर से लिखने का कारण ही न बने | क्योंकि धार्मिक भाव से एक दूसरे के प्रति स्नेहशील रहेंगे दोनों | जैसे रक्षाबंधन को ही लीजिये, पौराणिक काल से यजमान और पुरोहित एक दूसरे को रक्षा सूत्र बाँधते हैं, शत्रु को मित्र बनाने के लिए रक्षा सूत्र बाँधा जाता है, आचार्य रवीन्द्रनाथ टैगोर ने तो बंग भंग के विरोध में लोगों को एकजुट करने के लिए राखी बाँधने का आन्दोलन चलाया था – यानी किसी तर्क और नीति संगत बात को जन आन्दोलन का रूप देने के लिए – ताकि जन साधारण उसका महत्त्व समझ सके – रक्षा बन्धन जैसा कार्य किया जा सकता है | बंगाल के हिन्दू-मुसलमानों को आपसी भाईचारे का संदेश देने के लिए टैगोर ने राखी का उपयोग किया था | रवीन्द्रनाथ टैगोर चाहते थे कि हिंदू और मुसलमान एक दूसरे को राखी बाँधकर शपथ लें कि वे जीवन भर एक-दूसरे की सुरक्षा का एक ऐसा रिश्ता बनाए रखेंगे जिसे कोई तोड़ न सके |

पर्यावरण और प्रकृति की सुरक्षा के विषय में चिन्ता करने वाले लोग वृक्षों की रक्षा के लिए रक्षा बन्धन के दिन तथा अन्य अवसरों पर भी “वृक्षाबन्धन” करते हैं | वट सावित्री अमावस्या को वटवृक्ष की पूजा, इसके अतिरिक्त पीपल के वृक्ष की, आँवले के वृक्ष और तुलसी के वृक्ष इत्यादि की पूजा इस का तो प्रतीक हैं | किसी भी अच्छे प्रयास को यदि धर्म के साथ जोड़ दिया जाता है तो उसका प्रभाव निश्चित रूप से मानव मात्र पर पड़ता है, क्योंकि स्वभावतः मनुष्य धर्मभीरु होता है | इसी प्रकार से यदि भाई दूज जैसे पवित्र और हर्षपूर्ण अवसर का भी ऐसा ही सदुपयोग किया जाए और इसे भाई-बहन के स्नेह के प्रतीक के साथ ही जन साधारण के मध्य तथा प्रकृति के प्रति स्नेह के प्रतीक के रूप में मनाया जाए तो हमारे विचार से इसका महत्त्व और भी बढ़ जाएगा |