Category Archives: एकादशी

देवोत्थान एकादशी और तुलसी विवाह

हिन्दू धर्म में एकादशी तिथि का विशेष महत्त्व है | Astrologers तथा पौराणिक मान्यताओं के अनुसार प्रत्येक वर्ष चौबीस एकादशी होती है, और अधिमास हो जाने पर ये छब्बीस हो जाती हैं | इनमें से आषाढ़ शुक्ल एकादशी को जब सूर्य मिथुन राशि में संचार करता है तब उसे देवशयनी एकादशी के नाम से जाना जाता है | इस एकादशी को पद्मनाभा भी कहा जाता है | तथा उसके लगभग चार माह बाद सूर्य के तुला राशि में आ जाने पर आने वाली कार्तिक शुक्ल एकादशी देव प्रबोधिनी या देवोत्थान एकादशी के नाम से जानी जाती है | मान्यता है कि इन चार महीनों में – जिन्हें चातुर्मास कीं संज्ञा दी गई है – भगवान विष्णु क्षीर सागर में शयन हेतु प्रस्थान कर जाते हैं | भगवान विष्णु की इस निद्रा को योग निद्रा भी कहा जाता है | इस अवधि में यज्ञोपवीत, विवाह, गृह प्रवेश आदि संस्कार वर्जित होते हैं | इस वर्ष कल यानी गुरूवार सात नवम्बर को प्रातः 9:55 पर एकादशी तिथि आरम्भ हो जाएगी, किन्तु दशमीवेधी होने के कारण एकादशी का व्रत शुक्रवार नौ नवम्बर को ही रखा जाएगा | इस दिन उदयकाल में एकादशी तिथि होगी और दिन में बारह बजकर तेईस मिनट तक रहेगी |

कार्तिक शुक्ल द्वादशी तिथि का आरम्भ कल दिन में बारह बजकर चौबीस मिनट पर होगा और नौ तारीख को दोपहर दो बजकर अड़तीस मिनट तक रहेगी | अर्थात सूर्योदय काल में नौ तारीख को द्वादशी होने के कारण इसी दिन तुलसी विवाहतुलसी विवाह का कार्यक्रम आरम्भ हो जाएगा जो कार्तिक शुक्ल पूर्णिमा यानी बारह नवम्बर को सम्पन्न होगा | नौ तारीख को ही प्रदोष का व्रत भी है | आँवला, वट वृक्ष, पीपल के वृक्ष तथा तुलसी आदि की पूजा केवल धार्मिक रीति रिवाज़ भर ही नहीं हैं अपितु इनके माध्यम से प्रकृति के प्रति सम्मान और प्रेम की भावना में वृद्धि के निमित्त इन पर्वों का आयोजन वैदिक सभ्यता का प्रमुख अंग रहा है | वृक्षों की पूजा अर्चना करने के बाद अथवा तुलसी विवाह के जैसे धार्मिक व्यवहार करने के बाद वृक्षों को किसी भी प्रकार कष्ट पहुँचाने का कोई प्रयास भी नहीं कर सकेगा – मूलभूत भावना यही थी इन पर्वों के आयोजन के पीछे |

भारतीय संस्कृति में व्रतादि का विधान पूर्ण वैज्ञानिक आधार पर मौसम और प्रकृति को ध्यान में रखकर किया गया है | चातुर्मास अर्थात आषाढ़ शुक्ल एकादशी से लेकर श्रावण, भाद्रपद, आश्विन तथा कार्तिक शुक्ल एकादशी तक चार महीने वर्षा के माने जाते हैं | भारत कृषि प्रधान देश है इसलिए वर्षा के ये चार महीने कृषि के लिए बहुत उत्तम माने गए हैं | किसान विवाह आदि समस्त सामाजिक उत्तरदायित्वों से मुक्त रहकर इस अवधि में पूर्ण मनोयोग से कृषि कार्य कर सकता था | आवागमन के साधन भी उन दिनों इतने अच्छे नहीं थे | साथ ही चौमासे के कारण सूर्य चन्द्र से प्राप्त होने वाली ऊर्जा भी मन्द हो जाने से जीवों की पाचक अग्नि भी मन्द पड़ जाती है | अस्तु, इन्हीं सब बातों को ध्यान में रखते हुए जो व्यक्ति इन चार महीनों में जहाँ होता था वहीं रहकर अध्ययन अध्यापन करते हुए आध्यात्मिक उन्नति का प्रयास करता था तथा खान पान पर नियन्त्रण रखता था ताकि पाचन तन्त्र उचित रूप से कार्य कर सके | और वर्षा ऋतु बीत जाते ही देव प्रबोधिनी एकादशी से समस्त कार्य पूर्ववत आरम्भ हो जाते थे |

सुप्तेत्वयिजगन्नाथ जगत्सुप्तंभवेदिदम् ।

विबुद्धेत्वयिबुध्येतजगत्सर्वचराचरम् ॥

हे जगन्नाथ ! आपके सो जाने पर यह सारा जगत सो जाता है तथा आपके जागने पर समस्त चराचर पुनः जागृत हो जाता है तथा फिर से इसके समस्त कर्म पूर्ववत आरम्भ हो जाते हैं…

इस दिन केरल में गुरुवयूर मन्दिर में इस दिन विशेष अर्चना की जाती है तथा इसे गुरुवयूर एकादशी के नाम से ही जाना जाता है | कुछ स्थानों पर इसे योगेश्वर अथवा रुक्मिणी द्वादशी भी कहा जाता है और विष्णु भगवान् के कृष्ण रूप की उपासना उनकी पटरानी रुक्मिणी देवी के साथ की जाती है | ऐसा इसलिए क्योंकि रुक्मिणी वास्तव में प्रेम-भक्ति और समर्पण का एक अद्भुत सामन्जस्य थीं | कृष्ण को देखना तो दूर उनसे मिली तक नहीं थीं, केवल उनके विषय में सुन भर रखा था और इतने से ही उनके लिए मन में प्रेम बसा लिया, और प्रेम भी इतना प्रगाढ़ कि उनके प्रति मन ही मन पूर्ण रूप से समर्पित हो गईं – पूर्ण रूप से प्रेम मिश्रित भक्ति भाव का समर्पण था यह | सम्भवतः इसीलिए कुछ स्थानों पर भगवान् श्री कृष्ण के साथ उनकी पट्टमहिषी रुक्मिणी की पूजा भी की जाती है |

कार्तिक शुक्ल एकादशी से पूर्णिमा तक की पाँच तिथियाँ भीष्म पंचक के नाम से भी जानी जाती हैं | मान्यता है कि जब महाभारत युद्ध के बाद पाण्डवों की जीत हो गयी, तब श्रीकृष्ण पाण्डवों को भीष्म पितामह के पास ले गये और उनसे अनुरोध किया कि वह पाण्डवों को ज्ञान प्रदान करें | शर शैया पर लेटे हुए सूर्य के उत्तरायण होने की प्रतिक्षा कर रहे भीष्म ने कृष्ण के अनुरोध पर कृष्ण सहित पाण्डवों को राज धर्म, वर्ण धर्म एवं मोक्ष धर्म का ज्ञान दिया | भीष्म द्वारा ज्ञान देने का क्रम एकादशी से लेकर पूर्णिमा तिथि तक पाँच तक चलता रहा | भीष्म जब ज्ञान दे चुके तब श्रीकृष्ण ने कहा कि “आपने जिन पाँच दिनों में ज्ञान दिया है ये दिन आज से सबके लिए मंगलकारी रहेंगे तथा इन्हें ‘भीष्म पंचक’ के नाम से जाना जाएगा |” इन्हें “पंच भिखा” भी कहा जाता है |

अस्तु, देव प्रबोधिनी एकादशी तथा तुलसी विवाह के महत्त्व के समझते हुए हम सभी के मनों में प्रकृति के प्रति सम्मान के भाव में वृद्धि हो इसी भावना के साथ सभी को इन दोनों पर्वों की अनेकशः हार्दिक शुभकामनाएँ…

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2019/11/07/devotthan-ekadashi-and-tulsi-vivah/

देवशयनी एकादशी

देवशयनी एकादशी, आषाढ़ी एकादशी, विष्णु एकादशी, पद्मनाभा एकादशी

हिन्दू धर्म में एकादशी तिथि का विशेष महत्त्व है | प्रत्येक वर्ष चौबीस एकादशी होती है, और अधिमास हो जाने पर ये छब्बीस हो जाती हैं | इनमें से आषाढ़ शुक्ल एकादशी को देवशयनी एकादशी के नाम से जाना जाता है | साथ ही आषाढ़ मास में होने के कारण इसे आषाढ़ी एकादशी भी कहते हैं | इसी दिन से पंढरपुर यात्रा संपन्न होती है और पंढरपुर में भगवान श्री कृष्ण के ही एक रूप विट्ठल महाराज के मंदिर में इस दिन विशेष पूजा अर्चना की जाती है | इस एकादशी को पद्मनाभा एकादशी भी कहा जाता है | तथा उसके लगभग चार माह बाद सूर्य के तुला राशि में आ जाने पर आने वाली कार्तिक शुक्ल एकादशी देव प्रबोधिनी या देवोत्थान एकादशी के नाम से जानी जाती है | इस वर्ष शुक्रवार 12 जुलाई को 25:03 (अर्द्धरात्र्योत्तर यानी बारह जुलाई को एक बजकर तीन मिनट) के लगभग एकादशी तिथि (देवशयनी एकादशी) का आगमन होगा और 13 जुलाई को रात्रि बारह बजकर तीस मिनट के लगभग द्वादशी तिथि का आगमन हो जाएगा, अतः एकादशी का उपवास बारह तारीख को ही रखा जाएगा |

“आषाढ़ शुक्लपक्षे तु शयनी हरिवासर: |

दीपदानेन पलाशपत्रे भुक्त्याव्रतेन च

चातुर्मास्यं नयन्तीह ते नरा मम वल्लभा: ||” – पद्मपुराण उत्तरखण्ड / 54/24, 32

मान्यता है कि इन चार महीनों में – जिन्हें चातुर्मास कीं संज्ञा दी गई है – भगवान विष्णु क्षीर सागर में शयन हेतु प्रस्थान कर जाते हैं | भगवान विष्णु की इस निद्रा को योग निद्रा भी कहा जाता है | इस अवधि में यज्ञोपवीत, विवाह, गृह प्रवेश आदि संस्कार वर्जित होते हैं |

भारतीय संस्कृति में व्रतादि का विधान पूर्ण वैज्ञानिक आधार पर मौसम और प्रकृति को ध्यान में रखकर किया गया है | चातुर्मास अर्थात आषाढ़ शुक्ल एकादशी से लेकर श्रावण, भाद्रपद, आश्विन तथा कार्तिक शुक्ल एकादशी तक चार महीने – यानी आषाढ़ मास की देवशयनी एकादशी से लेकर कार्तिक मास में देवोत्थान एकादशी तक के चार महीने वर्षा के माने जाते हैं | इस प्रकार इस वर्ष 13 जुलाई से लेकर 8 नवम्बर तक का समय चातुर्मास के अन्तर्गत रहेगा | भारत कृषि प्रधान देश है इसलिए वर्षा के ये चार महीने कृषि के लिए बहुत उत्तम माने गए हैं | किसान विवाह आदि समस्त सामाजिक उत्तरदायित्वों से मुक्त रहकर इस अवधि में पूर्ण मनोयोग से कृषि कार्य कर सकता था | आवागमन के साधन भी उन दिनों इतने अच्छे नहीं थे | साथ ही चौमासे के कारण सूर्य चन्द्र से प्राप्त होने वाली ऊर्जा भी मन्द हो जाने से जीवों की पाचक अग्नि भी मन्द पड़ जाती है | साथ ही वर्षा के कारण जो स्वच्छ और ताज़ा हवा प्राप्त होती है वह समस्त प्रकृति को एक अनोखे आनंद से भर देती है | ऐसे सुहावने मौसम में भला किसका मन होगा जो सामाजिक उत्तरदायित्वों के विषय में सोच विचार करे | अस्तु, इन्हीं सब बातों को ध्यान में रखते हुए जो व्यक्ति इन चार महीनों में जहाँ होता था वहीं आनंदपूर्वक निवास करते हुए अध्ययन अध्यापन करते हुए आध्यात्मिक उन्नति का प्रयास करता था तथा खान पान पर नियन्त्रण रखता था ताकि पाचन तन्त्र उचित रूप से कार्य कर सके | और वर्षा ऋतु बीत जाते ही देव प्रबोधिनी एकादशी से समस्त कार्य पूर्ववत आरम्भ हो जाते थे |

सुप्तेत्वयिजगन्नाथ जगत्सुप्तंभवेदिदम् । विबुद्धेत्वयिबुध्येतजगत्सर्वचराचरम् ॥

हे जगन्नाथ ! आपके सो जाने पर यह सारा जगत सो जाता है तथा आपके जागने पर समस्त चराचर पुनः जागृत हो जाता है तथा फिर से इसके समस्त कर्म पूर्ववत आरम्भ हो जाते हैं…

इसके अतिरिक्त चातुर्मास का प्रथम माह श्रावण भगवान् शंकर के लिए समर्पित होता है | दूसरा माह भाद्रपद पर्वों का महीना होता है – गणेश चतुर्थी और श्री कृष्ण जन्माष्टमी जैसे बड़े पर्व इसी मास में आते हैं | चातुर्मास का तीसरा महीना होता है आश्विन का महीना – जिसमें नवरात्र और दुर्गा पूजा की धूम रहती है | और अंतिम तथा चतुर्थ माह होता है प्रकाश के महान पर्व से प्रकाशित कार्तिक माह |

आज देवशयनी एकादशी के साथ ही चातुर्मास का आरम्भ हो रहा है… देवशयनी एकादशी सभी के लिए शुभ हो और चातुर्मास में सभी अपने अपने कर्तव्य धर्म का सहर्ष पालन करें… यही शुभकामना अपने साथ ही सभी के लिए…

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2019/07/11/aashaadhi-ekadashi/

 

 

रंग की एकादशी

रंग की एकादशी – कुछ भूली बिसरी यादें

कल रविवार 17 मार्च को फाल्गुन शुक्ल एकादशी है | यों आज रात्रि ग्यारह बजकर चौंतीस मिनट के लगभग वणिज करण, शोभन योग और पुनर्वसु नक्षत्र में एकादशी तिथि का आगमन हो जाएगा, किन्तु उदया तिथि होने के कारण कल एकादशी का उपवास रखा जाएगा | इस प्रकार जैसी कि मान्यता है कि द्वादशी तिथि में एकादशी का परायण उचित रहता है, तो कल सायं आठ बजकर इक्यावन मिनट के लगभग द्वादशी तिथि का भी आगमन हो जाएगा | यह एकादशी आमलकी एकादशी कहलाती है और इस दिन आँवले के वृक्ष की पूजा अर्चना का विधान है | किन्तु एक अन्य महत्त्व भी इस एकादशी का है | इसे “रंग की एकादशी” भी कहा जाता है | बृज में जहाँ होलाष्टक यानी फाल्गुन शुक्ल अष्टमी से होली के उत्सव का आरम्भ हो जाता है वहीं काशी विश्वनाथ मन्दिर में फाल्गुन शुक्ल एकादशी से इस उत्सव का आरम्भ माना जाता है | होलाष्टक के विषय में जहाँ मान्यता है कि फाल्गुन शुक्ल अष्टमी को भगवान कृष्ण प्रथम बार राधा जी के परिवार से मिलने बरसाने गए थे तो वहाँ लड्डू बाँटे गए थे, वहीं काशी विश्वनाथ में रंग की एकादशी के विषय में मान्यता है कि इसी दिन भगवान शिव ने माता पार्वती को अपने घर लिवा लाने के लिए पर्वतराज हिमालय की नगरी की ओर प्रस्थान किया था |

होलाष्टक के विषय में एक और भी मान्यता है कि तारकासुर का उत्पात जब बहुत अधिक बढ़ गया तो ऐसा माना गया कि केवल शिव और पार्वती से उत्पन्न सन्तान ही  उसका वध करने में सक्षम होगी | किन्तु शिवपत्नी सती ने जब से अपने पिता के यज्ञ का विध्वंस करने के लिए उसमें आत्माहुति दी थी तब से शिव घोर तपस्या में लीन हो गए थे | किसी भी उपाय से जब उनका तप भंग नहीं किया जा सका तो देवताओं ने कामदेव की सहायता ली और उन्होंने प्रेम का बाण उन पर चला दिया | जिसके कारण शिवजी का तीसरा नेत्र खुल गया और उन्होंने कामदेव को भस्म कर दिया | माना जाता है कि यह घटना फाल्गुन शुक्ल अष्टमी को ही घटित हुई थी | तब कामदेव की पत्नी रति ने शिव को तपस्या से प्रसन्न किया और उन्होंने कामदेव को रति के साथ छाया रूप में विचरण करने का वरदान दिया | रति की तपस्या के वे आठ दिन होलाष्टक कहलाए | तभी भगवान शिव का ध्यान पार्वती की तपस्या पर गया और वे फाल्गुन शुक्ल एकादशी को उनसे विवाह करने निकल पड़े |

बहरहाल, मान्यताएँ कुछ भी हों, कथाएँ कितनी भी हों, सत्य बस यही है कि होली का उत्साहपूर्ण रंगपर्व ऐसे समय आरम्भ होता है जब सर्दी धीरे धीरे पीछे खिसक रही होती है और गर्मी चुपके से अपने पैर आगे बढ़ाने की ताक में होती है | साथ में वसन्त की खुमारी हर किसी के सर चढ़ी होती है | फिर भला हर कोई मस्ती में भर झूम क्यों न उठेगा | कोई विरह वियोगी ही होगा जो ऐसे मदमस्त कर देने वाले मौसम में भी एक कोने में सूना सूखा और चुपचाप खड़ा रह जाएगा |

हमें याद आता है हमारे शहर में मालिनी नदी के पार छोटी सी बस्ती थी | रंगपंचमी यानी फाल्गुन शुक्ल पंचमी से रात को भोजन आदि से निवृत होकर सब लोग चौपाल में इकट्ठा हो जाते थे | उन दिनों रात का भोजन अधिकांशतः दिन छिपते ही हो जाया करता था | रात को सारंगी और बाँसुरी से काफी पीलू के सुर उभरने शुरू होते, धीरे धीरे खड़ताल खड़कनी शुरू होती, चिमटे चिमटने शुरू होते, मँजीरे झनकने की आवाज़ें कानों में आतीं और साथ में धुनुकनी शुरू होतीं ढोलकें धमार, चौताल, ध्रुपद या कहरवा की लय पर – फिर धीरे धीरे कंठस्वर उनमें मिल जाते और आधी रात के भी बाद तक काफी, बिरहा, चैती, फाग, धमार, ध्रुपद, रसिया और उलटबांसियों के साथ ही स्वांग का जो दौर चलता तो अपने अपने घरों में बिस्तरों में दुबके लोग भी अपना सुर मिला देते | हमारे पिताजी को अक्सर वे लोग साथ में ले जाया करते थे तो जब पिताजी वापस लौटते थे तो वही सब गुनगुनाते कब में घर की सीढ़ियाँ चढ़ जाते थे उन्हें कुछ होश ही नहीं रहता था | और ऐसा नहीं था कि उस चौपाल में गाने बजाने वाले लोग कलाकार होते थे | सीधे सादे ग्रामीण किसान होते थे, पर होली की मस्ती जो कुछ उनसे प्रदर्शन करा देती थी वह लाजवाब होता था और इस तरह फ़जां में घुल मिल जाता था कि रात भर ठीक से नींद पूरी न होने पर भी किसी को कोई शिकायत नहीं होती थी, उल्टे फिर से उसी रंग और रसभरी रात का इंतज़ार होता था | तो ऐसा असर होता है इस पर्व में |

और रंग की एकादशी से तो सारे स्कूल कालेजों और शायद ऑफिसेज़ की भी होली की छुट्टियाँ ही हो जाया करती थीं | फिर तो हर रोज़ बस होली का हुडदंग मचा करता था | रंग की एकादशी को हर कोई स्कूल कॉलेज ज़रूर जाता था – अपने दोस्तों और टीचर्स के साथ होली खेले बिना भला कैसा रहा जा सकता था ? और टीचर्स भी बड़े जोश के साथ अपने स्टूडेंट्स के साथ उस दिन होली खेलते थे |

घरों में होली के पकवान बनने शुरू हो जाया करते थे | जो होली के दिन तक भी पूरे नहीं हो पाते थे | होलिकादहन के स्थल पर जो अष्टमी के दिन होलिका और प्रहलाद के प्रतीकस्वरूप दो दण्ड स्थापित किये गए थे अब उनके चारों ओर वृक्षों से गिरे हुए सूखे पत्तों, टहनियों, लकड़ियों आदि के ढेर तथा बुरकल्लों की मालाओं आदि को इकठ्ठा किया जाने का कार्यक्रम शुरू हो जाता था | ध्यान ये रखा जाता था कि अनावश्यक रूप से किसी पेड़ को न काटा जाए | हाँ शरारत के लिए किसी दोस्त के घर का मूढा कुर्सी या चारपाई या किसी के घर का दरवाज़ा होली की भेंट चढ़ाने में किसी को कोई आपत्ति नहीं होती थी | और ये कार्य लड़कियाँ नहीं करती थीं | विशेष रूप से हर लड़का हर दूसरे लड़के के घर के दरवाज़े और फर्नीचर पर अपना मालिकाना हक समझता था और होलिका माता को अर्पण कर देना अपना परम कर्त्तव्य तथा पुण्य कर्म समझता था | और इसी गहमागहमी में आ जाता था होलिकादहन का पावन मुहूर्त |

गन्ने के किनारों पर जौ की बालियाँ लपेट कर घर के पुरुष प्रज्वलित होलिका की परिक्रमा करते हुए आहुति देते थे और होलिका की अग्नि में भुने हुए इस गन्ने को प्रसादस्वरूप वितरित करते थे | अगली सुबह होलिका की अग्नि से हर घर का चूल्हा जलता था | रात भर होलिका की अग्नि पर टेसू के फूलों का रंग पकता था जो सुबह सुबह कुछ विशिष्ट परिवारों में भेजा जाता था और बाक़ी बचा रंग बड़े बड़े ड्रमों में भरकर होली के जुलूस में ले जाया जाता था और हर आते जाते को उस रंग से सराबोर किया जाता था | गुनगुना मन को लुभाने वाली ख़ुशबू वाला टेसू के फूलों का रंग जब घर में आता तो पूरा घर ही एक नशीली सी ख़ुशबू से महक उठता |

दोपहर को इधर सब नहा धोकर तैयार होते और उधर होली पर बना देसी घी का सूजी का गरमा गरमा हलवा प्रसाद के रूप में हर घर में पहुँचा दिया जाता | हलवे का प्रसाद ग्रहण करके और भोजनादि से निवृत्त होकर नए वस्त्र पहन कर शाम को सब एक दूसरे के घर होली मिलने जाते | अब त्यौहार आता अपने समापन की ओर | नजीबाबाद जैसे सांस्कृतिक विरासत के धनी शहर में भला कोई पर्व संगीत और साहित्य संगोष्ठी से अछूता रहा जाए ऐसा कैसे सम्भव था ? तो रात को संगीत और कवि गोष्ठियों का आयोजन होता जो अगली सुबह छह सात बजे जाकर सम्पन्न होता | रात भर चाय, गुझिया, समोसे, दही भल्ले पपड़ी चाट के दौर भी चलते रहते | यानी रंग की पञ्चमी से जो होली के गान का आरम्भ होता उसका उत्साह बढ़ते बढ़ते होलाष्टक तक अपने शैशव को पार करता हुआ रंग की एकादशी को किशोरावस्था को प्राप्त होकर होली आते आते पूर्ण युवा हो जाता था |

याद आते हैं वे दिन… याद आते हैं वे लोग… उन्हीं दिनों और उन्हीं लोगों का स्मरण करते हुए, सभी को कल रंग की एकादशी के साथ ही अग्रिम रूप से होली की रंग भरी… उमंग भरी… हार्दिक शुभकामनाएँ…

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2019/03/16/ekadashi-of-colours-some-memories/

 

 

एकादशी व्रत 2019

आने वाले तीन दिन बाद सन् 2018 को विदा करके सन् 2019 में विश्व प्रवेश करेगा | नववर्ष की अग्रिम शुभकामनाओं सहित प्रस्तुत है वर्ष 2019 में आने वाले हिन्दू पर्व और त्योहारों की तिथियाँ… सबसे पहले एकादशी…

हिन्दू धर्म में एकादशी का विशेष महत्त्व है | पद्मपुराण के अनुसार भगवान् श्री कृष्ण ने धर्मराज युधिष्ठिर को एकादशी व्रत का आदेश दिया था और इस व्रत का माहात्म्य बताया था | प्रत्येक वर्ष चौबीस एकादशी होती है, और अधिमास हो जाने पर ये छब्बीस हो जाती हैं | किस एकादशी के व्रत का क्या महत्त्व है तथा किस प्रकार इस व्रत को करना चाहिए इस सबके विषय में विशेष रूप से पद्मपुराण में विस्तार से उल्लेख मिलता है | यदि दो दिन एकादशी तिथि हो तो स्मार्त (गृहस्थ) लोग पहले दिन व्रत रख कर उसी दिन पारायण कर सकते हैं, किन्तु वैष्णवों के लिए एकादशी का पारायण दूसरे दिन द्वादशी तिथि में ही करने की प्रथा है | हाँ, यदि द्वादशी तिथि सूर्योदय से पूर्व समाप्त होकर त्रयोदशी तिथि आ रही हो तो पहले दिन ही उन्हें भी पारायण करने का विधान है | सभी जानते हैं कि एकादशी को भगवान् विष्णु के साथ त्रिदेवों की पूजा अर्चना की जाती है | यों तो सभी एकादशी महत्त्वपूर्ण होती हैं, किन्तु कुछ एकादशी जैसे षटतिला, निर्जला, देवशयनी, देवोत्थान, तथा मोक्षदा एकादशी का व्रत वे लोग भी करते हैं जो अन्य किसी एकादशी का व्रत नहीं करते | इन सभी एकादशी के विषय में हम समय समय पर लिखते रहे हैं | आज प्रस्तुत है सन् 2019 के लिए एकादशी की तारीखों की एक तालिका – उनके नामों तथा जिस हिन्दी माह में वे आती हैं उनके नाम सहित…

मंगलवार     01 जनवरी   पौष कृष्ण सफला एकादशी

गुरूवार       17 जनवरी   पौष शुक्ल पुत्रदा एकादशी

गुरूवार       31 जनवरी   माघ कृष्ण षटतिला एकादशी

शनिवार      16 फरवरी    माघ शुक्ल जया एकादशी

शनिवार      02 मार्च     फाल्गुन कृष्ण विजया एकादशी

रविवार       17 मार्च     फाल्गुन शुक्ल आमलकी एकादशी

रविवार       31 मार्च     चैत्र कृष्ण पापमोचिनी एकादशी स्मार्त

सोमवार      01 अप्रेल     चैत्र कृष्ण पापमोचिनी एकादशी

सोमवार      15 अप्रेल     चैत्र शुक्ल कामदा एकादशी स्मार्त

मंगलवार     16 अप्रेल     चैत्र शुक्ल कामदा एकादशी

मंगलवार    30 अप्रेल     वैशाख कृष्ण वरूथिनी एकादशी

बुधवार       15 मई      वैशाख शुक्ल मोहिनी एकादशी

गुरूवार       30 मई      ज्येष्ठ कृष्ण अपरा एकादशी

गुरूवार       13 जून      ज्येष्ठ शुक्ल निर्जला / भीम एकादशी

शनिवार      29 जून      आषाढ़ कृष्ण योगिनी एकादशी

शुक्रवार      12 जुलाई    आषाढ़ शुक्ल देवशयनी एकादशी

रविवार       28 जुलाई    श्रावण कृष्ण कामिका एकादशी

रविवार       11 अगस्त   श्रावण शुक्ल पुत्रदा एकादशी

सोमवार      26 अगस्त   भाद्रपद कृष्ण अजा एकादशी

मंगलवार     27 अगस्त   भाद्रपद कृष्ण अजा एकादशी

सोमवार      09 सितम्बर भाद्रपद शुक्ल परिवर्तिनी एकादशी

बुधवार       25 सितम्बर आश्विन कृष्ण इन्दिरा एकादशी

बुधवार       09 अक्टूबर   आश्विन शुक्ल पापाकुंशा एकादशी

गुरूवार       24 अक्टूबर   कार्तिक कृष्ण रमा एकादशी

शुक्रवार      08 नवम्बर   कार्तिक शुक्ल देवोत्थान एकादशी

शुक्रवार      22 नवम्बर   मार्गशीर्ष कृष्ण उत्पन्ना एकादशी स्मार्त

शनिवार      23 नवम्बर   मार्गशीर्ष कृष्ण उत्पन्न एकादशी

रविवार       08 दिसम्बर मार्गशीर्ष शुक्ल मोक्षदा एकादशी

रविवार       22 दिसम्बर मार्गशीर्ष कृष्ण सफला एकादशी

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2018/12/28/ekadashi-vrat-2019/

देव प्रबोधिनी एकादशी

देवोत्थान एकादशी

हिन्दू धर्म में एकादशी तिथि का विशेष महत्त्व है | Astrologers तथा पौराणिक मान्यताओं के अनुसार प्रत्येक वर्ष चौबीस एकादशी होती है, और अधिमास हो जाने पर ये छब्बीस हो जाती हैं | इनमें से आषाढ़ शुक्ल एकादशी को जब सूर्य मिथुन राशि में संचार करता है तब उसे देवशयनी एकादशी के नाम से जाना जाता है | इस एकादशी को पद्मनाभा भी कहा जाता है | तथा उसके लगभग चार माह बाद सूर्य के तुला राशि में आ जाने पर आने वाली कार्तिक शुक्ल एकादशी देव प्रबोधिनी या देवोत्थान एकादशी के नाम से जानी जाती है | मान्यता है कि इन चार महीनों में – जिन्हें चातुर्मास कीं संज्ञा दी गई है – भगवान विष्णु क्षीर सागर में शयन हेतु प्रस्थान कर जाते हैं | भगवान विष्णु की इस निद्रा को योग निद्रा भी कहा जाता है | इस अवधि में यज्ञोपवीत, विवाह, गृह प्रवेश आदि संस्कार वर्जित होते हैं | इस वर्ष कल यानी रविवार 18 नवम्बर को 13:34 पर एकादशी तिथि आरम्भ हो गई थी, किन्तु दशमीवेधी थी | अतः आज यानी सोमवार 19 नवम्बर को उदया तिथि में होने के कारण आज ही एकादशी का व्रत है |

भारतीय संस्कृति में व्रतादि का विधान पूर्ण वैज्ञानिक आधार पर मौसम और प्रकृति को ध्यान में रखकर किया गया है | चातुर्मास अर्थात आषाढ़ शुक्ल एकादशी से लेकर श्रावण, भाद्रपद, आश्विन तथा कार्तिक शुक्ल एकादशी तक चार महीने वर्षा के माने जाते हैं | भारत कृषि प्रधान देश है इसलिए वर्षा के ये चार महीने कृषि के लिए बहुत उत्तम माने गए हैं | किसान विवाह आदि समस्त सामाजिक उत्तरदायित्वों से मुक्त रहकर इस अवधि में पूर्ण मनोयोग से कृषि कार्य कर सकता था | आवागमन के साधन भी उन दिनों इतने अच्छे नहीं थे | साथ ही चौमासे के कारण सूर्य चन्द्र से प्राप्त होने वाली ऊर्जा भी मन्द हो जाने से जीवों की पाचक अग्नि भी मन्द पड़ जाती है | अस्तु, इन्हीं सब बातों को ध्यान में रखते हुए जो व्यक्ति इन चार महीनों में जहाँ होता था वहीं रहकर अध्ययन अध्यापन करते हुए आध्यात्मिक उन्नति का प्रयास करता था तथा खान पान पर नियन्त्रण रखता था ताकि पाचन तन्त्र उचित रूप से कार्य कर सके | और वर्षा ऋतु बीत जाते ही देव प्रबोधिनी एकादशी से समस्त कार्य पूर्ववत आरम्भ हो जाते थे |

सुप्तेत्वयिजगन्नाथ जगत्सुप्तंभवेदिदम् ।

विबुद्धेत्वयिबुध्येतजगत्सर्वचराचरम् ॥

हे जगन्नाथ ! आपके सो जाने पर यह सारा जगत सो जाता है तथा आपके जागने पर समस्त चराचर पुनः जागृत हो जाता है तथा फिर से इसके समस्त कर्म पूर्ववत आरम्भ हो जाते हैं…

इस दिन तुलसी विवाह का भी आयोजन किया जाता है | केरल में गुरुवयूर मन्दिर में इस दिन विशेष अर्चना की जाती है तथा इसे गुरुवयूर एकादशी के नाम से ही जाना जाता है | कुछ स्थानों पर इसे योगेश्वर अथवा रुक्मिणी द्वादशी भी कहा जाता है और विष्णु भगवान् के कृष्ण रूप की उपासना उनकी पटरानी रुक्मिणी देवी के साथ की जाती है | ऐसा इसलिए क्योंकि रुक्मिणी वास्तव में प्रेम-भक्ति और समर्पण का एक अद्भुत सामन्जस्य थीं | कृष्ण को देखना तो दूर उनसे मिली तक नहीं थीं, केवल उनके विषय में सुन भर रखा था और इतने से ही उनके लिए मन में प्रेम बसा लिया, और प्रेम भी इतना प्रगाढ़ कि उनके प्रति मन ही मन पूर्ण रूप से समर्पित हो गईं – पूर्ण रूप से प्रेम मिश्रित भक्ति भाव का समर्पण था यह | सम्भवतः इसीलिए कुछ स्थानों पर भगवान् श्री कृष्ण के साथ उनकी पट्टमहिषी रुक्मिणी की पूजा भी की जाती है |

कार्तिक शुक्ल एकादशी से पूर्णिमा तक की पाँच तिथियाँ भीष्म पंचक के नाम से भी जानी जाती हैं | मान्यता है कि जब महाभारत युद्ध के बाद पाण्डवों की जीत हो गयी, तब श्रीकृष्ण पाण्डवों को भीष्म पितामह के पास ले गये और उनसे अनुरोध किया कि वह पाण्डवों को ज्ञान प्रदान करें | शर शैया पर लेटे हुए सूर्य के उत्तरायण होने की प्रतिक्षा कर रहे भीष्म ने कृष्ण के अनुरोध पर कृष्ण सहित पाण्डवों को राज धर्म, वर्ण धर्म एवं मोक्ष धर्म का ज्ञान दिया | भीष्म द्वारा ज्ञान देने का क्रम एकादशी से लेकर पूर्णिमा तिथि तक पाँच तक चलता रहा | भीष्म जब ज्ञान दे चुके तब श्रीकृष्ण ने कहा कि “आपने जिन पाँच दिनों में ज्ञान दिया है ये दिन आज से सबके लिए मंगलकारी रहेंगे तथा इन्हें ‘भीष्म पंचक’ के नाम से जाना जाएगा |” इन्हें “पंच भिखा” भी कहा जाता है |

अस्तु, देव प्रबोधिनी एकादशी की सभी को हार्दिक शुभकामनाएँ…

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2018/11/18/devotthan-ekadashi/

 

देवशयनी एकादशी

देवशयनी एकादशी, आषाढ़ी एकादशी, पद्मनाभा एकादशी

हिन्दू धर्म में एकादशी तिथि का विशेष महत्त्व है | प्रत्येक वर्ष चौबीस एकादशी होती है, और अधिमास हो जाने पर ये छब्बीस हो जाती हैं | इनमें से आषाढ़ शुक्ल एकादशी को देवशयनी एकादशी के नाम से जाना जाता है | इस एकादशी को पद्मनाभा एकादशी और आषाढ़ी एकादशी भी कहा जाता है | तथा उसके लगभग चार माह बाद सूर्य के तुला राशि में आ जाने पर आने वाली कार्तिक शुक्ल एकादशी देव प्रबोधिनी या देवोत्थान एकादशी के नाम से जानी जाती है |

“आषाढ़ शुक्लपक्षे तु शयनी हरिवासर: |

दीपदानेन पलाशपत्रे भुक्त्याव्रतेन च

चातुर्मास्यं नयन्तीह ते नरा मम वल्लभा: ||” – पद्मपुराण उत्तरखण्ड / 54/24, 32

मान्यता है कि इन चार महीनों में – जिन्हें चातुर्मास कीं संज्ञा दी गई है – भगवान विष्णु क्षीर सागर में शयन हेतु प्रस्थान कर जाते हैं | भगवान विष्णु की इस निद्रा को योग निद्रा भी कहा जाता है | इस अवधि में यज्ञोपवीत, विवाह, गृह प्रवेश आदि संस्कार वर्जित होते हैं |

भारतीय संस्कृति में व्रतादि का विधान पूर्ण वैज्ञानिक आधार पर मौसम और प्रकृति को ध्यान में रखकर किया गया है | चातुर्मास अर्थात आषाढ़ शुक्ल एकादशी से लेकर श्रावण, भाद्रपद, आश्विन तथा कार्तिक शुक्ल एकादशी तक चार महीने वर्षा के माने जाते हैं | भारत कृषि प्रधान देश है इसलिए वर्षा के ये चार महीने कृषि के लिए बहुत उत्तम माने गए हैं | किसान विवाह आदि समस्त सामाजिक उत्तरदायित्वों से मुक्त रहकर इस अवधि में पूर्ण मनोयोग से कृषि कार्य कर सकता था | आवागमन के साधन भी उन दिनों इतने अच्छे नहीं थे | साथ ही चौमासे के कारण सूर्य चन्द्र से प्राप्त होने वाली ऊर्जा भी मन्द हो जाने से जीवों की पाचक अग्नि भी मन्द पड़ जाती है | अस्तु, इन्हीं सब बातों को ध्यान में रखते हुए जो व्यक्ति इन चार महीनों में जहाँ होता था वहीं रहकर अध्ययन अध्यापन करते हुए आध्यात्मिक उन्नति का प्रयास करता था तथा खान पान पर नियन्त्रण रखता था ताकि पाचन तन्त्र उचित रूप से कार्य कर सके | और वर्षा ऋतु बीत जाते ही देव प्रबोधिनी एकादशी से समस्त कार्य पूर्ववत आरम्भ हो जाते थे |

सुप्तेत्वयिजगन्नाथ जगत्सुप्तंभवेदिदम् । विबुद्धेत्वयिबुध्येतजगत्सर्वचराचरम् ॥

हे जगन्नाथ ! आपके सो जाने पर यह सारा जगत सो जाता है तथा आपके जागने पर समस्त चराचर पुनः जागृत हो जाता है तथा फिर से इसके समस्त कर्म पूर्ववत आरम्भ हो जाते हैं…

आज देवशयनी एकादशी के साथ ही चातुर्मास का आरम्भ हो रहा है… देवशयनी एकादशी सभी के लिए शुभ हो और चातुर्मास में सभी अपने अपने कर्तव्य धर्म का सहर्ष पालन करें… यही शुभकामना अपने साथ ही सभी के लिए… पूरा पढ़ने के लिए क्लिक करें…

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2018/07/23/devashayani-ekadashi/

 

निर्जला एकादशी

आज गंगा दशहरा और कल निर्जला एकादशी | गंगा दशहरा वास्तव में दशदिवसीय पर्व है जो ज्येष्ठ शुक्ल प्रतिपदा से आरम्भ होकर ज्येष्ठ शुक्ल दशमी को सम्पन्न होता है | इस वर्ष पञ्चमी तिथि का ह्रास होने के कारण नौ दिवस का पर्व रहा – चार जून से आज बारह जून तक | बारह हिन्दी मासों में कृष्ण पक्ष और शुक्ल पक्ष की कुल मिलाकर चौबीस एकादशी आती हैं | अधिक मास होने पर इनकी सनखया छब्बीस भी हो जाती है – जैसे इस वर्ष हो गई है | हिन्दू सम्प्रदाय में एकादशी व्रत का बहुत महत्त्व माना गया है | इनमें ज्येष्ठ मास की शुक्ल पक्ष की एकादशी निर्जला एकादशी कहलाती है | इस उपवास में जल भी ग्रहण न करने का संकल्प लिया जाता है इसीलिए इसे निर्जला एकादशी कहते हैं | पद्मपुराण में प्रसंग आता है कि महर्षि वेदव्यास ने हब पाँचों पाण्डवों को चतुर्विध पुरुषार्थ – धर्म-अर्थ-काम-मोक्ष – का फल देने वाले एकादशी व्रत का संकल्प कराया तो भीम ने कहा “पितामह, आप पक्ष में एक बार भोजन त्यागने की बात कहते हैं, किन्तु मैं तो एक दिन क्या, एक समय भी भोजन किये बिना नहीं रह सकता | मेरे उदर में स्थित “वृकाग्नि” को शान्त रखने के लिए मुझे दिन में कई बार भोजन करना पड़ता है | तो मैं भला ये व्रत कैसे कर पाऊँगा ? और यदि यह व्रत नहीं करूँगा तो इसके पुण्य से वंचित रह जाऊँगा |”

पितामह महाबुद्धे कथयामि तवाग्रतः, एकभक्ते न शक्नोमि उपवासे कुतः प्रभो

वृको हि नाम यो वह्नि: स सदा जठरे मम, अतिबेलं यदाSश्नामि तदा समुपशाम्यति

नैकं शक्नोम्यहं कर्तुमुपवासं महामुने || – पद्मपुराण उत्तरखण्ड 52 / 16-18

तब मुनि वेदव्यास ने भीम का मनोबल बढाते हुए उन्हें समझाया कि “हे कुन्तीपुत्र ! धर्म की यही विशेषता होती है कि वह केवल सबका धारण ही नहीं करता अपितु व्रत-उपवास के नियमों को सबके द्वारा सरलता से पालन करने योग्य भी बनाता है | तुम केवल एक ज्येष्ठ मास के शुक्ल पक्ष में जब सूर्य वृषभ अथवा मिथुन राशिगत हो उस समय की एकादशी का व्रत पालन करो और वह भी निर्जल | केवल इसी व्रत के पालन से तुम्हें समस्त एकादशी के व्रत का फल प्राप्त हो जाएगा |”

वृषस्थे मिथुनस्थे वा यदा चैकादाशी भवेत्, ज्येष्ठमासे प्रयत्नेन सोपोष्योदकवर्जिता  – पद्मपुराण 52 / 20

इसी कारण से इस एकादशी को भीमसेनी एकादशी भी कहा जाता है | इसी अध्याय में आगे कहा गया है –

ज्येष्ठे मासि तु वै भीम ! या शुक्लैकादशी शुभा

निर्जला समुपोष्यात्र जल्कुम्भान्सशर्कारान् |

प्रदाय विप्रमुखेभ्यो मोदते विष्णुसन्निधौ

ततः कुम्भा: प्रदातव्या ब्राह्मणानां च भक्तित: || – पद्मपुराण 52 / 61,62

अर्थात निर्जला एकादशी के दिन जल और शर्करा से युक्त घट का दान करने से भगवान् विष्णु का सान्निध्य प्राप्त होता है | इस तथा इसी प्रकार के अन्य पौराणिक उपाख्यानों के कारण हिन्दू समाज में मान्यता आज तक भी विद्यमान है कि यदि हम “ॐ नमो भगवते वासुदेवाय” का जाप करते हुए निर्जला एकादशी के व्रत का पालन करेंगे और गऊ, वस्त्र, छत्र, फल, मीठा शरबत तथा कलश आदि का दान करेंगे तो हमें भगवान् विष्णु का सान्निध्य प्राप्त होगा | हर गली मोहल्ले के चोराहे पर, घरों के दरवाजों पर, सोसायटीज़ के गेट्स पर आज के दिन लोग तरह तरह के शर्बतों से भरे बर्तन रख कर या तरबूज़ आदि लेकर बैठे मिल जाएँगे और हर राहगीर की प्यास बुझाते मिल जाएँगे |

जेठ की तपती दोपहर

ज्येष्ठ माह की तपती दोपहरी में शीतल तथा शीतलता प्रदान करने वाली वस्तुएँ दान करना वास्तव में एक स्वस्थ प्रथा है | लेकिन क्या इसका पालन केवल एक ही दिन होना चाहिए – वह भी इस भावना से कि ऐसा करके हमें पुण्य प्राप्त होगा ? अपने आस पास में देखती सुनती हूँ कि अपने घरों में काम कर रही बाई या हमारे ही निवास का प्रबन्ध करने के लिए भवन निर्माण में लगे मज़दूर जब गर्मी से बेहाल हो जाते हैं तो उन्हें ठण्डे मीठे फल खिलाना या रूहआफ्ज़ा पिलाना तो दूर की बात है, उनके पानी माँगने पर उन्हें बोल दिया जाता है कि ठण्डा पानी तो नहीं है भाई, नलके से सादा ही पानी ले लो |

क्या ही अच्छा ही यदि ये समस्त कार्य हम धर्म के भय या मोक्ष अथवा ईश्वरप्राप्ति के लालच से न करके मानवता के नाते करें… क्योंकि हर जीव ईश्वर का ही तो प्रतिरूप है… जब भी ऐसा हो जाएगा तो “निर्जला एकादशी” केवल एक दिन का पर्व भर बनकर नहीं रह जाएगी… हर दिन हर दीन हीन को गर्मी से राहत दिलाने के लिए शीतल पेय दान के रूप में उपलब्ध हो सकेगा…

http://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2018/06/23/nirjala-ekadashi/