हरियाली तीज

सावन का महीना आते ही अपने पुराने दिनों की याद ताज़ा हो आती है | कई रोज़ पहले से पिताजी उत्साह में भर घर सर पर उठा लिया करते थे “अरे भई मास्टरनी जी (हमारी माँ को पिताजी मास्टरनी जी बुलाते थे) पूनम की चाचियों के चूड़ियों के नाप तो लाकर दो | और हाँ वो लाली और सरसुती की चूड़ियों का माप भी ले आना | अच्छा छोड़ो आपको तो फुर्सत ही कहाँ इन सब कामों के लिए, हम ही जाकर ले आते हैं…” और पहुँच जाते पहले बिब्बी यानी अपनी बड़ी बेटी हमारी बड़ी बहन के पास और उनकी एक चूड़ी ले आते, फिर सरसुती (सरस्वती) यानी हमारी बुआ की चूड़ी ली जाती और फिर दोनों चाचियों की एक एक चूड़ी ले आते और हमें साथ में ले पहुँच जाते चूड़ी वाली दूकान पर | उन दिनों शहर में एक ही बड़ी दूकान ऐसी थी जिस पर चूड़ी के साथ साथ लड़कियों की ज़रूरत का हर सामान मिल जाया करता था | बस अपनी पसन्द से चूड़ियाँ ख़रीद लाते | फिर सुन्दरलाल ताऊ जी की दूकान से घेवर और फेनी लाए जाते और माँ घर पर ही उन्हें पागती | फिर तीज से एक दो रोज़ पहले चारों घरों में चूड़ी और घेवर फेनी पहुँचाए जाते | माँ को तो उत्साह था ही इन सब कामों का – आख़िर तीज तो होता ही औरतों का त्यौहार है, पर पिताजी का भी उत्साह देखते ही बनता था | साथ में चाचियाँ, बिब्बी और बुआ भी साल भर इंतज़ार करती थीं इस अवसर का और जब उन्हें उनकी चूड़ियाँ और माँ के हाथों का पगा घेवर फेनी मिल जाता तो सबकी ख़ुशी देखते ही बनती थी |

उधर मामा जी आते संभल से माँ के लिए और हम सबके लिए चूड़ी कपड़े घेवर फेनी वगैरा लेकर – यानी सिधारा लेकर | कितनी धूम रहती थी त्यौहार की | सादे लोग थे, सादे तरीक़े से त्यौहार मनाते थे | न अधिक कुछ लिया दिया जाता था न किसी तरह का कोई दिखावा ही होता था | लड़कियों को अपनी पसन्द की थोड़ी चूड़ियाँ मिल गईं और एक जोड़ा कपड़े और एक जोड़ी सैंडल मिल गए तो मज़ा आ गया | लड़कों को भी उनकी पसन्द के कपड़े और जूते मिल गए तो और क्या चाहिए | न शगुन के लिफ़ाफ़े लिए दिए जाते थे न तरह तरह की गिफ्ट्स | घर में ही पकवान बनाए जाते थे | पर उस सादगी में भी जो मस्ती आती थी – त्यौहार का जो मज़ा आता था – वो आज बहुतेरे ताम झाम के बाद भी नहीं आने पाता | इसी सब में इतनी चहल पहल हो जाती थी – और कई दिनों तक रहा करती थी | सारी चहल पहल के बीच मीठी नोक झोंक भी चलती रहती थी | और साल भर त्यौहार लगे ही रहते थे तो साल भर ही इस तरह के उत्सव चलते रहते थे |

मसलन, माँ घेवर फेनी पागने बैठतीं तो पिताजी भी साथ देने के लिए बैठ जाते और बार बार कुछ ऐसा कर बैठते कि माँ का काम बिगड़ जाता | माँ नकली गुस्सा दिखातीं “मैंने बोला न हट जाओ, काम बिगाड़ने पर लगे हो… हटो यहाँ से…” और पिताजी का हाथ खींच कर उन्हें वहाँ से हटाने की कोशिश करतीं तो पिताजी भी भूरी आँखों से हँसते हुए बोलते “लो जी बिटिया रानी देख लो… शराफ़त का तो ज़माना ही नहीं है… अरे हम तो इनकी मदद कर रहे थे और ये हैं कि हमें रसोई से धक्का ही दिए दे रही हैं… चलो जी कैरम निकालो… हम दोनों बैठकर कैरम खेलते हैं…” और उसी तरह मीठी सी हँसी हँसते हुए बाहर आ जाते और माँ लग जातीं अपने काम में तसल्ली से | उसके बाद जब चाची के पास उनका सामान लेकर जाते तब माँ और पिताजी दोनों अपनी नोक झोंक की बातें उन्हें सुनाते और वो हँसती रहतीं | भला आज के रेडीमेड के ज़माने में इन सब ठिठोलियों का मज़ा कहाँ ? और फिर आज समय भी किसके पास है इस तरह की हँसी ठिठोलियों के लिए ?

खैर, तो बात चल रही सावन की और हरियाली तीज की | यों तो सारा सावन ही बागों में और घर में लगे नीम और आम के पेड़ों पर झूले लटके रहते थे और लड़कियाँ गीत गा गाकर उन पर झूला करती थीं | पर तीज के दिन तो एक एक घर में सारे मुहल्ले की महिलाएँ और लड़कियाँ हाथों पैरों पर मेंहदी की फुलवारी खिलाए, हाथों में भरी भरी चूड़ियाँ पहने सज धज कर इकट्ठी हो जाया करती थीं दोपहर के खाने पीने के कामों से निबट कर और फिर शुरू होता था झोंटे देने का सिलसिला | दो महिलाएँ झूले पर बैठती थीं और बाक़ी महिलाएँ गीत गाती उन्हें झोटे देती जाती थीं और झूला झूलने के साथ साथ चुहलबाज़ी भी चलती रहती | सावन के गीतों की वो झड़ी लगती थी कि समय का कुछ होश ही नहीं रहता था | पुरुष भी कहाँ पीछे रहने वाले थे ? वे भी जबरदस्ती करके इस हुल्लड़ में शामिल हो जाया करते और झोटे देते देते हल्की फुल्की चुहल भी चलती रहती | और किसी की नई नई शादी हुई हो तब तो फिर उस भाभी या उस जीजा के ही पीछे सारे लड़के लड़कियाँ पड़ जाया करते और बदले में बड़े बुजुर्गों की मीठी झिड़की भी सुना करते “अरे क्यों तंग कर रहे हो बेचारों को…” वक़्त जैसे ठहर जाया करता था इन मादक दृश्यों का गवाह बनने के लिये |

बहरहाल, सबसे पहले तो इस पर्व की बधाई | श्रावण मास में जब समस्त चराचर जगत वर्षा की रिमझिम फुहारों में सराबोर हो जाता है, इन्द्रदेव की कृपा से जब मेघराज मधु के समान जल का दान पृथिवी को देते हैं – और उस अमृतजल का पान करके जब प्यासी धरती की प्यास बुझने लगती है – तब हरे घाघरे में लिपटी धरती अपनी इस प्रसन्नता को वनस्पतियों के लहराते नृत्य के माध्यम से अभिव्यक्त करने लगती है – जिसे देख जन जन का मानस मस्ती में झूम झूम उठता है – तब उस उल्लास का अभिनन्दन करने के लिये – उस मादकता की जो विचित्र सी अनुभूति होती है उसकी अभिव्यक्ति के लिये – “हरियाली तीज” अथवा “मधुस्रवा तीज” का पर्व मनाया जाता है | “मधुस्रवा अथवा मधुश्रवा” शब्द का अर्थ ही है मधु अर्थात अमृत का स्राव यानी वर्षा करने वाला | अब गर्मी से बेहाल हो चुकी धरती के लिए भला जल से बढ़कर और कौन सा अमृत हो सकता है ? वैसे भी जल को अमृत ही तो कहा जाता है |

तो एक बार पुनः अमृत की वर्षा करने वाली इस मधुश्रवा तीज की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ प्रस्तुत हैं इसी अवसर पर पुछले वर्ष लिखी गई कुछ पंक्तियाँ…

आओ मिलकर झूला झूलें ।

ऊँची पेंग बढ़ाकर धरती के संग आओ नभ को छू लें ।।

कितने आँधी तूफाँ आएँ, घोर घनेरे बादल छाएँ ।

सबको करके पार, चलो अब अपनी हर मंज़िल को छू लें ।।

हवा बहे सन सन सन सन सन, नभ से अमृत बरसा जाए ।

इन अमृत की बून्दों से आओ मन के मधुघट को भर लें ।।

ऊदे भूरे मेघ मल्हार सुनाते, सबका मन हर्षाते ।

मस्त बिजुरिया संग मस्ती में भर आओ हम नृत्य रचा लें  ।।

हरा घाघरा पहने नभ के संग गलबहियाँ करती धरती ।

आओ हम भी निज प्रियतम संग मन के सारे तार जुड़ा लें ।|

बरखा रानी छम छम छम छम पायल है झनकाती आती ।

कोयलिया की पंचम के संग हम भी पियु को पास बुला लें ।।

सावन है दो चार दिनों का, नहीं राग ये हर एक पल का ।

जग की चिंताओं को तज कर मस्ती में भर आज झूम लें ।।

झूला झूलो

Advertisements

मधुस्रवा तीज की हार्दिक शुभकामनाएँ

झूला

क्यों ना हरेक मन पे छाए जवानी

ये बरखा का मौसम सजीला रसीला, घटाओं में मस्ती हवाओं में थिरकन |

वो बलखाती बूँदों का फूलों से मिलना, वो शाख़ों का लहराके हर पल मचलना ||

नशे में है डूबी, क़दम लड़खड़ाती, वो मेघों की टोली चली आ रही है |

कि बिजली के हाथों से ताधिन ताधिन्ता, वो मादल बजाती बढ़ी आ रही है ||

पपीहा सदा ही पियू को पुकारे, तो कोयल भी संग में है सुर को मिलाती |

जवानी की मस्ती में मतवाला भँवरा, कली जिसपे अपना है सर्वस लुटाती ||

मौसम में ठण्डक, तपन बादलों में, वो अम्बुवा की बौरों से झरता पसीना |

सावन की रिमझिम फुहारों के संग ही, लो मन में भी अमृत की धारा बरसती ||

है पगलाई बौराई सारी ही धरती, चढ़ा है नशा पत्ते पत्ते भे भारी |

कि बिखराके सुध बुध को तन मन थिरकता, तो क्यों ना हरेक मन पे छाए जवानी ||

सावन

 

मेघों ने बाँसुरी बजाई

मौसम ने अपनी ही एक पुरानी रचना याद दिला दी:-

मेघों ने बाँसुरी बजाई, झूम उठी पुरवाई रे |

बरखा जब गा उठी, प्रकृति भी दुलहिन बन शरमाई रे ||

उमड़ा स्नेह गगन के मन में, बादल बन कर बरस गया

प्रेमाकुल धरती ने नदियों की बाँहों से परस दिया |

लहरों ने एकतारा छेड़ा, कोयलिया इतराई रे

बरखा जब गा उठी, प्रकृति भी दुलहिन बन शरमाई रे ||

बूँदों के दर्पण में कली कली निज रूप निहार रही

धरती हरा घाघरा पहने नित नव कर श्रृंगार रही |

सजी लताएँ, हौले हौले डोल उठी अमराई रे

बरखा जब गा उठी, प्रकृति भी दुलहिन बन शरमाई रे ||

अँबुवा की डाली पे सावन के झूले मन को भाते

हर इक राधा पेंग बढ़ाए, और हर कान्हा दे झोंटे |

हर क्षण, प्रतिपल, दसों दिशाएँ लगती हैं मदिराई रे

बरखा जब गा उठी, प्रकृति भी दुलहिन बन शरमाई रे ||

15

 

 

 

बहारें

दो तीन दिनों से भारी उमस और बीच बीच में घिर आई घटाओं को देखकर ऐसा लग रहा था जैसे तेज़ बारिश होगी | पर लगान वाला क़िस्सा हो रहा था… मेघराज झलक दिखलाकर अपनी प्यारी सखी मस्त हवा के पंखों पर सवार हो न जाने कहाँ उड़ जाते थे… पर आख़िरकार आज सुबह कुछ अमृत की बूँदें अपने अमृतघट से छलका ही दीं… मौसम कुछ ख़ुशनुमा हो गया… और इस भीगे मौसम में याद हो आई अपने बचपन की…

भले ही दिल्ली की इन गगनचुम्बी इमारतों में कोयल की पंचम या पपीहे की पियू पियू की पुकारें सुनाई नहीं देतीं… भले ही भँवरे की खरज की गुंजार को कान तरस जाते हैं… भले ही उन रंग बिरंगे छोटे बड़े पंछियों का सितार के तारों की झनकार सी मधुर आवाज़ों में सुरीला राग छिड़ना अब कम हो गया हो… फिर भी बरखा की रिमझिम वो पुरानी यादें तो ताज़ा करा ही देती है…

वो तीन चार महीने की अच्छी धुआंधार बारिश… वो पतनालों से गिरते पानी का किसी गड्ढे में इकट्ठा हो जाना और उसमें कागज़ की नाव बनाकर छोड़ना और ख़ुशी से तालियाँ बजाकर उछलना… स्कूल कॉलेज जाते छाते लेकर तो भी क्या मज़ाल कि भीगने से बच ही जाएँ… मेघराज अपना प्रेम कुछ इस अन्दाज़ में उंडेलते थे कि तन के साथ साथ मन भी भीज भीज जाता था… और भीगने से बचना ही कौन चाहता था…

वो घर से बैग में नमक छिपाकर ले जाना और रास्ते में किसी पेड़ से कच्ची अमियाँ तोड़कर हिलमिल कर नमक के साथ चटखारे लेकर खाते जाना… वो घर वापसी में छाते एक तरफ़ रख पीपल के चबूतरे पर बैठकर आपस में बतियाते हुए अपने बालों के रिबन खोल देना और गीली हवा के साथ अपनी जुल्फों को मस्ती में बहकने देना…

घर पहुँचते ही माँ की मीठी सुरीली रसभरी आवाज़ कानों में पड़ना “पूनम, आ गईं बेटा, आओ देखो हमने कितनी तरह की पकौड़ियाँ बनाई हैं, जल्दी से आ जाओ…” और बैग पटक गीले कपड़ों में ही रसोई में घुस जाना… भले ही पकौड़ियों के साथ माँ की मीठी फटकार भी क्यों न सुननी पड़ जाए “कितनी बार कहा बरसाती ख़रीद लो, पर तुम क्या कभी कुछ सुनोगी ?” फिर पापा की तरफ़ मुख़ातिब हो जाना “और तुम भी… कुछ नहीं कहते इसे… इतना सर चढ़ा रखा है… बीमार पड़ेगी ऐसे भीग कर तो मत बोलना…” और भूरी आँखों वाले पापा का मीठी हँसी हँसकर अपनी बिटिया को गले से लगाकर बोलना “अरी भागवान, चिन्ता मत करो, हमारी बिटिया को कुछ नहीं होगा…” और इसी तरह हँसते बतियाते दिन भर के हमारे कारनामों की जानकारी ले लेना… क्या कुछ याद करें… क्या कुछ भूलें… बहरहाल, उन्हीं दिनों की याद में प्रस्तुत हैं कुछ पंक्तियाँ…

हीरों के हारों सी चमकें फुहारें, और वीणा के तारों सी झनकें फुहारें |

धवल मोतियों सी जो झरती हैं बूँदें, तो पाँवों में पायल सी खनकें फुहारें ||

कोयल की पंचम में मस्ती लुटातीं, तो पपिहे की पीहू में देतीं पुकारें |

कली अनछुई को रिझाने को देखो षडज में ये भँवरे की देतीं गुंजारें ||

मेघों के डमरू की धुन सुनके मस्ती में बहकी हैं जातीं ये चंचल बयारें |

दमकती है बिजली तो भयभीत गोरी सी काँपी हैं जातीं ये चंचल बयारें ||

दिल की उमस से पिघलती हैं बूँदें, और मल्हारें गाती बरसती हैं बूँदें |

धड़कन सी देखो धड़कती हुई और मचलती हुई ये बरसती हैं बूँदें ||

मस्ती भरा मद टपकता है जिनसे, वो आमों की डालों पे लटकी हैं बौरें |

हरेक दिल में मदमस्त जादू जगाती और खुशबू उड़ाती ये लटकी हैं बौरें ||

कहो कैसे कोई उदासी में डूबे, जो मस्ती भरे गीत गाती बहारें |

कि रिमझिम के मीठे नशीले सुरों में हैं कितनी ही तानें सजाती बहारें ||

10

 

रात भर छाए रहे हैं

रात भर छाए रहे हैं, मेघ बौराए रहे हैं

देख बिजली का तड़पना, मेघ इतराए रहे हैं |

बाँध कर बूँदों की पायल, है धरा भी तो मचलती

रस कलश को कर समर्पित, मेघ हर्षाए रहे हैं ||

पहन कर परिधान सतरंगी, धरा भी है ठुमकती

रास धरती का निरख कर, मेघ ललचाए रहे हैं |

तन मुदित, हर मन मुदित, और मस्त सारी चेतना है

थाप देकर धिनक धिन धिन, मेघ लहराए रहे हैं ||

सुर से वर्षा के उमंगती रागिनी मल्हार की है

और पवन की बाँसुरी सुन, मेघ पगलाए रहे हैं |

मस्त नभ निज बाँह भरकर चूमता है इस धरा को

करके जल थल एक देखो, मेघ इठलाए रहे हैं ||

Radiant Cloudy Sky over Sea Water