Category Archives: हिन्दी कविता

प्यार भरे कुछ दीप जलाओ

प्यार भरे कुछ दीप जलाओ

दीपमालिका का प्रकाशमय पर्व बस आने ही वाला है… कल करवाचौथ के साथ उसका आरम्भ तो हो ही जाएगा… यों तो श्रद्धापर्व का श्राद्ध पक्ष बीतते ही नवरात्रों के साथ त्यौहारों की मस्ती और भागमभाग शुरू हो जाती है… तो आइये हम सभी स्नेहपगी बाती के प्रकाश से युक्त मन के दीप प्रज्वलित करते हुए मतवाले गीतों से कण कण को पुलकित करते हुए स्वागत करें प्रकाशोत्सव का…

माटी के ये दीप जलाने से क्या होगा

जला सको तो प्यार भरे कुछ दीप जलाओ |

वीराने में फूल खिलाने से क्या होगा

खिला सको तो हर घर में कुछ पुष्प खिलाओ ||

माटी का दीपक तो क्षणभँगुर होता है

किन्तु प्रेम का दीपक अजर अमर होता है |

स्नेहरहित बाती उकसाने से क्या होगा

बढ़ा सको तो पहले उसमें स्नेह बढ़ाओ ||

वीराने में खिला पुष्प किसने देखा है

मन के आँगन में हर पल मेला रहता है |

बिना खाद पौधा लगवाने से क्या होगा

मिला सको तो प्रेम प्रीत की खाद मिलाओ ||

टूटे तारों की वीणा से कब निकला है

कजरी बिरहा या फिर मेघ मल्हार निराला |

इन टूटे तारों को छूने से क्या होगा

जुड़ा सको तो झनकाते कुछ तार जुड़ाओ ||

किसी कथा से कोई उपन्यास बनता है

लेकिन कौन उसे कब पूरा सुन पाता है |

कोरा एक निबन्ध बनाने से क्या होगा

सुना सको तो मतवाले कुछ गीत सुनाओ ||

Advertisements

पुष्प बनकर क्या करूँगी

पुष्प बनकर क्या करूँगी, पुष्प का सौरभ मुझे दो |
दीप बनकर क्या करूँगी, दीप का आलोक दे दो ||
हर नयन में देखना चाहूँ अभय मैं,
हर भवन में बाँटना चाहूँ हृदय मैं |
बंध सके ना वृन्त डाल पात से जो,
थक सके ना धूप वारि वात से जो |
भ्रमर बनकर क्या करूँगी, भ्रमर का गुँजार दे दो ||
उठ सके हर कोई ऊँचा उस गगन से,
लख सकें कमनीयता सब निज नयन से |
जल सके ना सूर्य के भी ताप से जो,
खो सके ना चन्द्र के उल्लास में जो |
विहग बनकर क्या करूँगी, विहग का आभास दे दो ||
मध्यधारों को भी तर जाए यहाँ जो,
तट से टकरा कर भी गिर पाए नहीं जो |
कितने आकर्षण मिलें उसको जगत में,
मोह में ना बंध सके उनके कभी जो |
लहर बनकर क्या करूँगी, नाव का आधार दे दो ||
दुःख में सुख में और भय में या अभय में
या जगत के कर्णभेदी कोलाहल में
ध्वनि न पड़ पाए कभी भी मन्द जिसकी
ताल लय से हो विमुख पाए नहीं जो |
गीत बनकर क्या करूँगी, गीत का आलाप दे दो ||

 

 

 

जीवन की रामकहानी

जीवन की रामकहानी

कितने ही दिन मास वर्ष युग कल्प थक गए कहते कहते

पर जीवन की रामकहानी कहते कहते अभी शेष है ||

हर क्षण देखो घटता जाता साँसों का यह कोष मनुज का

और उधर बढ़ता जाता है वह देखो व्यापार मरण का ||

सागर सरिता सूखे जाते, चाँद सितारे टूटे जाते

पर पथराई आँखों में कुछ बहता पानी अभी शेष है ||

एक ईंट पर खड़ा महल है, तो दूजी पर कड़ी कब्र है

एक बार है लाश जी रही, एक बार मर रहा जीव है ||

एक लहर जो चली कूल से, नाव तलक आ पार खो गया

जन्म मरण की इस द्विविधा में जीत हार तो अभी शेष है ||

एक दिये से सुबह जल उठी, एक दिये से रात ढल गई

एक हवा से चमन खिल उठा, एक हवा से कली बिखर गई ||

किसी डाल पर पुष्प खिल गए, कोई सुमन संग धूल बन गई

संहारों और निर्माणों में जीवन का सच अभी शेष है ||

आज, आज का वर्तमान, पर कल का है अतीत कहलाता

और भविष्यत, सिर्फ़ भूत का मूक गीत ही तो है गाता ||

जीवन की चुटकी भर हलचल में हर एक पल मरण घुला है

पर हर बुझी हुई धड़कन में पीर पुरानी अभी शेष है ||

 

 

भरी भीड़ में मन बेचारा

पितृपक्ष चल रहा है | सभी हिन्दू धर्मावलम्बी अप्बे दिवंगत पूर्वजों के प्रति श्रद्धा सुमन समर्पित कर रहे हैं | हमने भी प्रतिपदा को माँ का श्राद्ध किया और अब दशमी को पिताजी का करेंगे | कुछ पंक्तियाँ इस अवसर पर अनायास ही प्रस्फुटित हो गईं… सुधी पाठकों के लिए समर्पित हैं…

भरी भीड़ में मन बेचारा

खड़ा हुआ कुछ सहमा कुछ सकुचाया सा

द्विविधाओं की लहरों में डूबता उतराता सा…
घिरा हुआ कुछ कुछ जाने कुछ अजाने / कुछ चाहे कुछ अनचाहे / नातों से…

कभी झूम उठता है देखकर इतने अपनो को

होता है गर्वित और हर्षित / देखकर उनके स्नेह को

सोचने लगता है / नहीं है कोई उससे अधिक धनवान इस संसार में…
होता है स्पन्दित / बज उठता है मन का एकतारा

जब सहलाते हैं कितने ही स्पर्श प्रेम से / अनुराग से…
किन्तु फिर तभी उपजती है कहीं अवचेतन में

एक अपरिचित सी आशंका / कहीं ये सब स्वप्नमात्र तो नहीं…

हो जाता है प्रफुल्लित गर्व से

जब कोई करता है गुणगान / उछाह में भर
लेकिन साथ ही होती है एक अजीब सी सिहरन भी / अविश्वास की…
क्योंकि कहीं गहरे / बहुत गहराई में है भान
मुखौटे चढ़ाए हुए उन “अपनों” की प्रकृति का…
तभी तो बहाता है अश्रु / घिरा हुआ अपनों की भीड़ में भी…
हो जाता है उदास / “अपनों” के स्नेहिल स्पर्शों से भी…
और तब बस याद आता है एक ही ठौर
और व्याकुल मन छिप जाता है चुपके से

कहीं पीछे उस ठौर के द्वार के
जो है वात्सल्य के आँचल से ढकी
ममतामयी गोद जनयित्री की…
जहाँ पहुँच मिलता है मन को आश्वासन

विश्वास से परिपूर्ण नेत्रों का जनक के भी…
नहीं हैं जो आज शरीर रूप में निकट मेरे…
किन्तु तब भी मन को है बस एक ही विश्वास

कि निहार रहे हैं एकटक मुझे स्नेह से / कहीं दूर बैठे

और करते हैं मान मेरे हर प्रयास पर…

बनते हैं अवलम्ब मेरा / हर पल / हर घड़ी

ताकि बढ़ती रहूँ मैं निज पथ पर आगे / और आगे

और प्राप्त कर सकूँ लक्ष्य को अपने / बिना किसी बाधा के…

हिंदी दिवस

हिंदी दिवस की सभी को हार्दिक शुभकामनाएँ

आप सब सोचेंगे कि पूर्णिमा को अब स्मरण हुआ “हिंदी” दिवस का… पर व्यस्तता ही कुछ ऐसी थी… माँ के श्राद्ध का तर्पण… भोजन… ऊपर से “अतिथि देवो भव”… तो अब साँझ को इस सबसे अवकाश पाकर मोबाइल ऑन किया तो देखा हिंदी दिवस के उपलक्ष्य में अनगिनती शुभकामना सन्देश मेरी अभद्रता पर उपहास सा करते हुए मुँह भी चिढ़ा रहे थे और साथ ही स्वागत भी कर रहे थे… तो सर्वप्रथम सभी को हिंदी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ…

हममें से अधिकाँश लोगों को सम्भवतः ज्ञात होगा कि 1918 में इंदौर में आयोजित हिंदी साहित्य सम्मलेन में महात्मा गाँधी ने हिंदी को आम जनमानस की भाषा बताते हुए इसे राष्ट्रभाषा घोषित किये जाने की बात कही थी | उस समय के प्रसिद्ध गाँधीवादी विचारधारा के पत्रकार और लेखक काका केलकर और मैथिलीशरण गुप्त जैसे अनेकों दिग्गज भी इसी पक्ष में थे | ऐसे ही महानुभावों के प्रयासों के फलस्वरूप देश आज़ाद होने के बाद चौदह सितम्बर सन 1949 में भारत की संविधान सभा ने देवनागरी लिपि में लिखी हुई हिंदी भाषा को राष्ट्रभाषा घोषित किया और उसके बाद हर क्षेत्र में हिंदी के प्रचार प्रसार के लिए राष्ट्रभाषा प्रचार समिति, वर्धा के अनुरोध पर 1953 से सारे देश में चौदह सितम्बर को हिंदी दिवस के रूप में मनाया जाने लगा |

हममें से बहुत से लोग यह भी जानते होंगे कि चीन की मंदारिन भाषा, स्पैनिश और अंग्रेजी के बाद हिंदी ही ऐसी भाषा है जो सबसे अधिक प्रयोग में आती है | विश्व के तीस से अधिक देशों में हिंदी पढ़ाई लिखाई जाती है और लगभग सौ विश्वविद्यालयों में हिंदी के अध्यापन की व्यवस्था है | अमेरिका में बहुत से शैक्षणिक संस्थानों में हिंदी का पठन पाठन होता है | यहाँ तक कि फ़िजी में हिंदी को आधिकारिक भाषा का दर्ज़ा दिया गया है | इनके अतिरिक्त मॉरीशस, फिलीपींस, नेपाल, गुयाना, सुरिनाम, त्रिनिदाद और तिब्बत में हिंदी बोली और समझी जाती है |

ये सब लिखने का विशेष अभिप्राय है | अभी हाल ही में महिलओं के एक कार्यक्रम में आमन्त्रित किया गया था | कार्यक्रम के बाद जलपान के समय महिलाएँ आपस में बात करने लगीं | कुछ महिलाओं की समस्या थी कि उनके बच्चे जिन विद्यालयों में पढने जाते हैं वहाँ विद्यालय परिसर में बच्चे केवल अंग्रेज़ी में ही बात कर सकते हैं | यदि किसी बच्चे को हिंदी में वार्तालाप करते हुए पकड़ लिया तो उसे सज़ा देने के साथ ही उसके माता पिता को भी बुलाकर इस बात की शिकायत की जाती है | मैंने उन महिलओं से पूछा कि आपके घर के बुज़ुर्ग किस भाषा में बात करते हैं ? उनका उत्तर था “हिन्दुस्तानी” में | तब मैंने उनसे आगे पूछा “आप स्वयं किस भाषा में सोचती हैं ?” पहले तो वे मेरा प्रश्न ही नहीं समझ पाईं कि सोचने की भी क्या कोई भाषा हो सकती है ? फिर जब उन्हें समझाया कि वे जिस भाषा में सोचेंगी उसी में यदि संवाद भी करेंगी तभी उनके संवाद में प्रभावात्मकता उत्पन्न हो सकेगी, अन्यथा तो उनकी कही बात केवल “किताबी” बनकर रह जाएगी | बंगाली बंगला में सोच सकते हैं, दक्षिण भारतीय अपनी बोलियों में सोच सकते हैं, एक अँगरेज़ अंग्रेजीं में सोच सकता है, चीन के निवासी – जर्मनी के निवासी – रूस के निवासी – यानी हर देश के निवासी – हर भाषा भाषी – अपनी ही भाषा में सोच सकते हैं और उसी भाषा में विचारों का सम्प्रेषण भी पूर्ण प्रभावात्मकता के साथ कर सकते हैं | इसलिए क्यों नहीं अपने बच्चों को उन विद्यालयों में अध्ययन के लिए भेजती हैं जहाँ उनकी अपनी भाषा में सोचने और बोलने की आज़ादी उन्हें प्राप्त हो सके |

अपनी सोसायटी में ही देखते हैं कि माताएँ प्ले स्कूल्स से जब अपने बच्चों को घर वापस लेकर आती हैं तो उन दुधमुहों से “इंग्लिश” में गिटर पिटर करती चलती हैं | “बेटा, डोंट डू दिस… दादी गुस्सा करेंगी…” या “डोंट ड्रिंक ठण्डा पानी, सारी रात कफिंग करोगे…” या “ओ माई सन… भूख लगी है… मम्मा विल गिव यू कुछ इंटरेस्टिंग सा…” वगैरा… वगैरा… उस समय मन होता है कि उनसे पूछें कि उनका दिमाग किस “बोली” में सोच रहा है और क्या वे उसी “भाषा” में बात कर रही हैं…? और उनके ऐसा करने के पीछे एक विशेष कारण जो हमें समझ में आया वो ये कि आज़ादी के बहत्तर वर्ष बाद भी हमें अपने आपको “हिन्दीभाषी” बताने में शर्म आती है | लोग क्या कहेंगे | असल में हम सबकी सोच ऐसी बन चुकी है कि यदि अंग्रेजी में बात नहीं करेंगे तो गँवार समझे जाएँगे |

अंग्रेज़ी या अन्य भाषाओं से किसी को परहेज़ नहीं है | बल्कि वास्तविकता तो यह है कि अनेक देशों के साथ संवाद के लिए और विज्ञान तथा तकनीकी आदि विषयों के अध्ययन के लिए अंग्रेज़ीं अन्तर्राष्ट्रीय विचार विनिमय की भाषा है | अब आप यही देख लीजिये कि ब्लॉग पर अपना हिंदी भाषा में लिखा लेख पोस्ट करने के लिए  शीर्षक में अंग्रेज़ी का ही सहारा लेना पड़ता है, क्योंकि हिंदी का शीर्षक लिखने पर हिंदी के अक्षरों के बाद में विचित्र सी आकृतियाँ भी आ जाती हैं…

किन्तु साथ ही सच्चाई यह भी है कि भारत जैसे विशाल, विविधतापूर्ण और उदात्त विचारधारा वाले देश में – जहाँ अनेकों धर्मों और सम्प्रदायों की मान्यताएँ, अनेकों प्रान्तों और अंचलों के रीति रिवाज़ और पर्व त्यौहार परस्पर इस तरह घुले मिले हैं कि उनकी विविधता तो परिलक्षित होती है लेकिन कहीं विरोध नहीं प्रतीत होता – वहाँ हिंदी भाषा भी इतनी उदात्त है कि न जाने कितनी भाषाएँ इसमें अब तक समाकर इसे अपनी पहचान बना चुकी हैं और जिनके कारण हिंदी भी समृद्ध हुई है | जिस तरह इस देश में सबको अंगीकार करने की भावना है उसी प्रकार हिंदी भाषा में समस्त भाषाओं को अपने में आत्मसात करके अपना गौरव और अधिक बढ़ाने की सामर्थ्य है | इसलिए हमें तो अपने “हिंदीभाषी” होने पर गर्व का अनुभव होना चाहिए |

अस्तु,

“विविध धर्म बहुभाषाओं का देश हमारा,

मिलकर चलता साथ साथ ये देश हमारा |

हम सब इसके गुलशन की खिलती फुलवारी,

रंग बिरंगे पुष्पों से सजती है क्यारी ||

नृत्य गान के अनगिन सुर तालों का मिश्रण

इसकी चेतनता में भरता है उछाह जो |

अनगिनती भाषाओं से युत हिंदी ऐसी

अजब अनोखे बच्चे ज्यों हों माँ की गोदी ||”

ऐसे अजब अनोखी बोली रूपी बच्चों से गौरवान्वित अपनी मातृभाषा हिंदी के वार्षिक दिवस की सभी को हार्दिक शुभकामनाएँ…

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2019/09/14/hindi-diwas/

 

 

 

तुम अच्छी हो

तुम अच्छी हो – श्रेष्ठ औरों से

सीमित है मेरा संसार, एक छोटे से अन्धकारपूर्ण कक्ष तक…
जब नहीं होता समाधान किसी समस्या का मेरे पास
बैठ जाती हूँ अपने इसी अँधेरे कक्ष में
आँसू की गर्म बूँदें ढुलक आती हैं मेरे गालों पर
मेरी छाती पर, मेरे हृदय पर…
जानती हूँ मैं, कोई नहीं है वहाँ मेरे लिये
जानती हूँ मैं, कोई महत्व नहीं सत्ता का मेरी
जानती हूँ मैं, कुछ भी नहीं है मेरे वश में…
तब आती है हल्की सी परछाईं समर्पण की
रगड़ती हुई रीढ़ को मेरी
शान्त करती हुई माँसपेशियों को मेरी
और किसी की स्नेहसिक्त वाणी देती है मुझे आश्वासन
“चिन्ता मत करो
मैं ही लाई हूँ तुम्हें यहाँ
मैं ही निकालूँगी तुम्हें यहाँ से…”
कौन है यह ? मेरी परम प्रिय आत्मा…
जब सारा संसार फेर लेता है आँखों को मेरी ओर से
जब सारा संसार उठा लेता है विश्वास मुझ पर से
पुनः सुनाई देती है वही स्नेहसिक्त ध्वनि
“तुम अच्छी हो, श्रेष्ठ औरों से…
समय आ गया है त्यागने का सारे दुःख दर्द
समझो आँसू की उन गर्म बूँदों को
जो गिर पड़ी हैं हम दोनों के मध्य
और गिराओ उन्हें
और तब तुम हो जाओगी एक
मेरे साथ….”

 

इस जीवन को

आज भगवान् श्री कृष्ण का जन्म महोत्सव है | देश के सभी मन्दिर और भगवान् की मूर्तियों को सजाकर झूले लगाए गए हैं | न जाने क्यों, इस अवसर पर अपनी एक पुरानी रचना यहाँ प्रस्तुत कर रहे हैं, क्योंकि हमारे विचार से मानव में ही समस्त चराचर का साथी बन जाने की अपार सम्भावनाएँ निहित हैं, और यही युग प्रवर्तक परम पुरुष भगवान श्री कृष्ण के महान चरित्र और उपदेशों का सार भी है…

इस जीवन को मैं केवल सपना क्यों समझूँ,
हर भोर उषा की किरण जगाती है मुझको |
हर शाम निशा की बाहों में मुस्काता है
चंदा, तब मादकता छा जाती है मुझको ||
हो समझ रहा कोई, जग मिथ्या छाया है
है सत्य एक बस ब्रह्म, और सब माया है |
पर मैं इस जग को केवल भ्रम कैसे समझूँ
क्षण क्षण कण कण है आकर्षित करता मुझको ||
कल कल छल छल स्वर में गाती है जब नदिया
प्राणों की पायल तब करती ता ता थैया |
पर्वत की ऊँची छोटी चढ़ थकती आँखें
तब मधुर कल्पना कर जाती मोहित मुझको ||
जब कोई भूखा नंगा मिल जाता पथ पर
लगता, खुद ब्रह्म खोजता है मरघट भू पर |
चंचल शिशु तुतलाए नैनों मुझको पढ़ता
जग का नश्वर बन्धन महान लगता मुझको ||
क्या ब्रह्म कभी साथी बन पाया है नर का ?
क्या देख भूख का ताण्डव मन रोया उसका ?
मैं इसी हेतु निज शीश झुकाती मानव को
वह सकल चराचर का साथी लगता मुझको ||