Category Archives: Astrologer in Delhi

कन्या और तुला राशि के जातकों के लिए शनि का मकर में गोचर

कल के लेख में शनि के मकर राशि में गोचर के सिंह राशि के जातकों पर सम्भावित प्रभावों के विषय में चर्चा की थी, आज कन्या और तुला राशि के जातकों पर शनि के मकर में गोचर के सम्भावित प्रभावों पर संक्षेप में दृष्टिपात…

किन्तु ध्यान रहे, ये सभी परिणाम सामान्य हैं | किसी कुण्डली के विस्तृत फलादेश के लिए केवल एक ही ग्रह के गोचर को नहीं देखा जाता अपितु उस कुण्डली का विभिन्न सूत्रों के आधार पर विस्तृत अध्ययन आवश्यक है…

कन्या राशि : आपके लिए पंचमेश तथा षष्ठेश होकर शनि का गोचर आपके पञ्चम भाव में ही हो रहा है जहाँ से आपके सप्तम भाव, एकादश भाव तथा द्वितीय भाव पर इसकी दृष्टियाँ हैं | इस गोचर के साथ ही पिछले ढाई वर्षों से चली आ रही ढैया भी समाप्त होने जा रही है – जिसने सम्भव है आपको हिला कर रख दिया होगा | लेकिन अब धीरे धीरे परिस्थितियों के सामान्य होने की सम्भावना की जा सकती है | यदि आपने कोई कोर्स बीच में छोड़ दिया है तो दोबारा से आप उसे आरम्भ कर सकते हैं और आपको उसमें सफलता भी प्राप्त होगी | आपकी गम्भीरता में वृद्धि होगी और आप कोई महत्त्वपूर्ण निर्णय इस अवधि में ले सकते हैं | किन्तु यदि वाहन अथवा घर खरीदना चाहते हैं तो उसके लिए मई 2020 से सितम्बर 2020 तक का समय अनुकूल नहीं रहेगा |

पञ्चम भाव से सन्तान का विचार किया जाता है | आपकी सन्तान के लिए यह गोचर अनुकूल रहने की सम्भावना है |कन्या आपकी सन्तान का हर क्षेत्र में प्रदर्शन उत्तम रहने की सम्भावना है | सन्तान की ओर से सन्तोष और सुख दोनों ही प्राप्त होने की सम्भावना है | सन्तान का विवाह भी इस अवधि में सम्भव है | किन्तु आपके लिए ससुराल अथवा ननसाल पक्ष के साथ सम्बन्धों में कुछ दरार उत्पन्न हो सकती है | विद्यार्थियों तथा प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे छात्र छात्राओं के लिए शनि का यह गोचर अनुकूल फल देने वाला प्रतीत होता है | विद्यार्थियों को उनके मनपसन्द विद्यालयों में एडमीशन भी मिल सकता है |

स्वास्थ्य का जहाँ तक प्रश्न है तो मिश्रित फलों की सम्भावना की जा सकती है | एक ओर किसी पुरानी बीमारी से मुक्ति प्राप्त हो सकती है, तो वहीं दूसरी ओर स्वास्थ्य सम्बन्धी कोई नवीन समस्या भी उत्पन्न हो सकती है | नियमित चेकअप तथा खान पान में नियन्त्रण के साथ ही योग व्यायाम और ध्यान प्राणायाम का अभ्यास आपके लिए आवश्यक है |

अविवाहित हैं तो इस अवधि में आपका विवाह सम्बन्ध कहीं निश्चित हो सकता है अथवा प्रेम सम्बन्ध स्थापित हो सकता है, किन्तु विवाह में शीघ्रता उचित नहीं रहेगी | विवाहित हैं तो जीवन साथी के साथ ईमानदार तथा सहृदय रहने की आवश्यकता है, अन्यथा सम्बन्धों में दरार पड़ते देर नहीं लगेगी |

तुला राशि : आपके लिए चतुर्थेश और पंचमेश होकर शनि योगकारक बन जाता है तथा आपके चतुर्थ भाव में ही गोचर कर रहा है जहाँ से आपके छठे भाव, दशम भाव तथा आपकी लग्न पर इसकी दृष्टि रहेगी | एक ओर तो आपके लिए यह शुभ संकेत है, किन्तु दूसरी ओर आपकी शनि की ढाई साल की ढैया भी आरम्भ हो रही है – जो चिन्ता का विषय हो सकती है – विशेष रूप से मई 2020 से सितम्बर 2020 के मध्य – जब शनि वक्री होगा | उस समय आपको अपने स्वास्थ्य पर विशेष रूप से ध्यान देने की आवश्यकता होगी | साथ ही आपका अहम आपके बनाते बनाते कार्यों में आड़े आ सकता है, अतः इस ओर से भी सावधान रहकर अपने व्यवहार को सन्तुलित रखने की आवश्यकता होगी | शनि के वक्री होने पर माता जी के साथ भी विवाद सम्भव है | यदि ऐसा लगे तो अच्छा यही रहेगा कि आप इतने समय के लिए दूरी बना लें ताकि विवाद अधिक बढ़ने न पाए |

इस अवधि में आपके समक्ष व्यापार के अनेक नवीन अवसर उपस्थित हो सकते हैं | किन्तु यदि किसी प्रोजेक्ट में तुलापैसा Invest करना हो सोच समझकर तथा सम्बन्धित कार्यों के जानकारों से अच्छी तरह सलाह मशविरा करके है आगे बढें | किसी के कहने मात्र से पैसा कहीं Invest न करें | कार्य से सम्बन्धित छोटी छोटी विदेश यात्राओं के भी अवसर उपलब्ध हो सकते हैं | आप नया घर अथवा वाहन अथवा दोनों ही खरीद सकते हैं और ये आपके लिए शुभ भी रह सकते हैं | कोर्ट कचहरी के मामलों से बचने की आवश्यकता है |

स्वास्थ्य का जहाँ प्रश्न है तो यों सामान्य रूप से स्वास्थ्य ठीक ही रहने की सम्भावना है | किन्तु इसके लिए आपको आलस्य का त्याग करके व्यायाम और योग का अभ्यास करते रहना होगा | साथ ही किसी भी प्रकार की ऐसी स्थिति से बचने का प्रयास करें जिनके कारण आपको मानसिक तनाव हो सकता है | अपनी माता जी तथा सन्तान के स्वास्थ्य का भी ध्यान रखने की आवश्यकता होगी |

अनुकूल जीवन साथी की खोज में हैं तो वह खोज इस अवधि में पूर्ण हो सकती है | सम्भव है किसी सहकर्मी अथवा किसी निकट के सम्बन्ध में ही आपका विवाह सम्पन्न हो जाए | विवाहित हैं तो जीवन साथी के साथ व्यर्थ के विवाद बचने का प्रयास करें | साथ ही जीवन साथी के स्वास्थ्य का भी ध्यान रखने की आवश्यकता है |

अन्त में बस इतना ही कि यदि कर्म करते हुए भी सफलता नहीं प्राप्त हो रही हो तो किसी अच्छे ज्योतिषी के पास दिशानिर्देश के लिए अवश्य जाइए, किन्तु अपने कर्म और प्रयासों के प्रति निष्ठावान रहिये – क्योंकि ग्रहों के गोचर तो अपने नियत समय पर होते ही रहते हैं, केवल आपके कर्म और उचित प्रयास ही आपको जीवन में सफल बना सकते हैं…

आगे वृश्चिक राशि पर शनि के मकर में गोचर के सम्भावित प्रभावों पर बात करेंगे…

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2020/01/15/saturn-transit-in-capricorn-7/

संक्रान्ति 2020 और मकर संक्रान्ति

ॐ घृणि: सूर्य आदित्य नम: ॐ

माघ कृष्ण पञ्चमी यानी पन्द्रह जनवरी को सूर्योदय से पूर्व दो बजकर नौ मिनट (चौदह जनवरी को अर्द्धरात्र्योत्तर) के लगभग भगवान भास्कर गुरुदेव की धनु राशि से निकल कर महाराज शनि की मकर राशि में गमन करेंगे और इसके साथ उत्तर दिशा की ओर उनका प्रस्थान आरम्भ हो जाएगा | पुण्यकाल प्रातः सूर्योदय के समय यानी सात बजकर पन्द्रह मिनट से आरम्भ होकर सूर्यास्त यानी सायं पौने छह बजे तक रहेगा | संक्रान्ति शब्द का अर्थ है संक्रमण करना – प्रस्थान करना | इस प्रकार किसी भी ग्रह का एक राशि से दूसरी राशि पर गोचर अथवा संक्रमण संक्रान्ति ही होता है | किन्तु सूर्य का संक्रमण सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण माना जाता है | नवग्रहों में सूर्य को राजा माना जाता है तथा सप्ताह के दिन रविवार का स्वामी रवि अर्थात सूर्य को ही माना जाता है | सूर्य का शाब्दिक अर्थ है सबका प्रेरक, सबको प्रकाश देने वाला, सबका प्रवर्तक होने के कारण सबका कल्याण करने वाला | यजुर्वेद में सूर्य को “चक्षो सूर्योSजायत” कहकर सूर्य को ईश्वर का नेत्र माना गया है | सूर्य केवल स्थूल प्रकाश का ही संचार नहीं करता, अपितु सूक्ष्म अदृश्य चेतना का भी संचार करता है | यही कारण है कि सूर्योदय के साथ ही समस्त जड़ चेतन जगत में चेतनात्मक हलचल बढ़ जाती है | इसीलिए ऋग्वेद में आदित्यमण्डल के मध्य में स्थित सूर्य को सबका प्रेरक, अन्तर्यामी तथा परमात्मस्वरूप माना गया है – सूर्यो आत्मा जगतस्य…”

वेद उपनिषद आदि में सूर्य के महत्त्व के सम्बन्ध में अनेकों उक्तियाँ उपलब्ध होती हैं | जैसे सूर्योपनिषद का एक मन्त्र है “आदित्यात् ज्योतिर्जायते | आदित्याद्देवा जायन्ते | आदित्याद्वेदा जायन्ते | असावादित्यो ब्रह्म |” अर्थात आदित्य से प्रकाश उत्पन्न होता है, आदित्य से ही समस्त देवता उत्पन्न हुए हैं, आदित्य ही वेदों का भी कारक है और इस प्रकार आदित्य ही ब्रह्म है | अथर्ववेद के अनुसार “संध्यानो देवः सविता साविशदमृतानि |” अर्थात् सविता देव में अमृत तत्वों का भण्डार निहित है | तथा “तेजोमयोSमृतमयः पुरुषः |” अर्थात् यह परम पुरुष सविता तेज का भण्डार और अमृतमय है | इत्यादि इत्यादि

छान्दोग्योपनिषद् में सूर्य को प्रणव माना गया है | ब्रह्मवैवर्तपुराण में सूर्य को परमात्मा कहा गया है | गायत्री मन्त्र में तो है ही भगवान् सविता की महिमा का वर्णन – सूर्य का एक नाम सविता भी है – सविता सर्वस्य प्रसविता – सबकी सृष्टि करने वाला – यही त्रिदेव के रूप में जगत की रचना, पालन तथा संहार का कारण है | आत्मा का कारक, प्राणों का कारक, जीवनी शक्ति का – ऊर्जा का कारक सूर्य ही माना जाता है | यही कारण है कि सूर्य की संक्रान्ति का सबसे अधिक महत्त्व माना जाता है | सूर्योपासना से न केवल ऊर्जा, प्रकाश, आयु, आरोग्य, ऐश्वर्य आदि की उपलब्धि होती है बल्कि एक साधक के लिए साधना का मार्ग भी प्रशस्त होता है |

सूर्य को एक राशि से दूसरी राशि पर जाने में पूरा एक वर्ष का समय लगता है – और यही अवधि सौर मास कहलाती है | वर्ष भर में कुल बारह संक्रान्तियाँ होती हैं | आन्ध्र प्रदेश, तेलंगाना, कर्नाटक, महाराष्ट्र, तमिलनाडु, केरल, उडीसा, पंजाब और गुजरात में संक्रान्ति के दिन ही मास का आरम्भ होता है | जबकि बंगाल और असम में संक्रान्ति के दिन महीने का अन्त माना जाता है | यों तो सूर्य की प्रत्येक संक्रान्ति महत्त्वपूर्ण होती है, किन्तु मेष, कर्क, धनु और मकर की संक्रान्तियाँ विशेष महत्त्व की मानी जाती हैं | इनमें भी मकर और कर्क की संक्रान्तियाँ विशिष्ट महत्त्व रखती हैं – क्योंकि इन दोनों ही संक्रान्तियों में ऋतु परिवर्तन होता है | कर्क की संक्रान्ति से सूर्य का दक्षिण की ओर गमन आरम्भ हो जाता है जिसे दक्षिणायन कहा जाता है और मकर संक्रान्ति से सूर्य का उत्तर दिशा की ओर प्रस्थान आरम्भ हो जाता है – जिसे उत्तरायण कहा जाता है | मकर संक्रान्ति से शीत का प्रकोप धीरे धीरे कम होना आरम्भ हो जाता है और जन साधारण तथा समूची प्रकृति सूर्य से ऊर्जा प्राप्त कर उल्लसित हो नृत्य करना आरम्भ कर देती है | पृथिवी को सूर्य का प्रकाश अधिक मात्रा में मिलना आरम्भ हो जाता है जिसके कारण दिन की अवधि भी बढ़ जाती है और शीत के कारण आलस्य को प्राप्त हुई समूची प्रकृति पुनः कर्मरत हो जाती है | इसलिए इस पर्व को अन्धकार से प्रकाश की ओर गमन करने का पर्व तथा प्रगति का पर्व भी कहा जाता है |

कुछ लोग इसे बसन्त के आगमन के तौर पर भी देखते हैं, जिसका मतलब होता है फसलों की कटाई और पेड़-पौधों के पल्लवित होने की शुरूआत | इसलिए देश के अलग-अलग राज्यों में इस त्योहार को विभिन्न नामों से मनाया जाता है |

इस वर्ष मकर संक्रान्ति पर कुछ विशेष योग भी बन रहे हैं – जैसे गुरु और मंगल स्वराशिगत हैं, साथ ही शोभन योग तथा बुधादित्य योग है | ये सभी योग बहुत शुभ माने जाते हैं |

अस्तु, सभी को मकर संक्रान्ति, पोंगल, लोहड़ी तथा माघ बिहू की शुभकामनाओं के साथ प्रस्तुत है वर्ष 2020 के लिए बारह संक्रान्तियों की सूची… उनके पुण्यकाल सहित…

बुधवार, 15 जनवरी    माघ कृष्ण पञ्चमी / मकर संक्रान्ति                          सूर्य का मकर राशि में गोचर सूर्योदय से पूर्व 2:09 पर, पुण्यकाल प्रातः सवा सात बजे से सायं पौने छह बजे तक |

गुरुवार, 13 फरवरी    फाल्गुन कृष्ण पञ्चमी / कुम्भ संक्रान्ति                      सूर्य का कुम्भ राशि में गोचर अपराह्न 3:04 पर, पुण्यकाल प्रातः 9:22 से सायं 3:18 तक |

शनिवार, 14 मार्च     चैत्र कृष्ण षष्ठी / मीन संक्रान्ति

सूर्य का मीन राशि में गोचर प्रातः 11:54 पर, पुण्यकाल प्रातः 11:54 से सायं 6:29 तह |

सोमवार, 13 अप्रैल    वैशाख कृष्ण षष्ठी / मेष संक्रान्ति

सूर्य का मेष राशि में गोचर रात्रि 8:24 पर, पुण्यकाल दिन में 12:21 से सायं 6:45 तक

गुरुवार, 14 मई       ज्येष्ठ कृष्ण सप्तमी / वृषभ संक्रान्ति

सूर्य का वृषभ राशि में गोचर सायं 5:16 पर | पुण्यकाल प्रातः 10:19 से सायं 5:33 तक

रविवार, 14 जून       आषाढ़ कृष्ण नवमी / मिथुन संक्रान्ति

सूर्य का मिथुन राशि में गोचर रात्रि 11:54 पर | पुण्यकाल प्रातः 5:22 से सायं 7:20 तक

गुरुवार, 16 जुलाई     श्रावण कृष्ण एकादशी / कर्क संक्रान्ति

सूर्य का कर्क राशि में गोचर प्रातः 10:47 पर | पुण्यकाल प्रातः 5:33 से प्रातः 11:03 तक

रविवार, 16 अगस्त    भाद्रपद कृष्ण द्वादशी / सिंह संक्रान्ति

सूर्य का सिंह राशि में गोचर सायं 7:11 पर | पुण्यकाल दिन में 12:25 से सायं 6:59 तक

बुधवार, 16 सितंबर    आश्विन (प्रथम) कृष्ण चतुर्दशी / कन्या संक्रान्ति

सूर्य का कन्या राशि में गोचर सायं 7:08 पर | पुण्यकाल दिन में सवा बारह बजे से सायं 6:24 तक

शनिवार, 17 अक्टूबर   आश्विन (द्वितीय) शुक्ल प्रतिपदा / तुला संक्रान्ति

सूर्य का तुला राशि में गोचर प्रातः 7:05 पर | पुण्यकाल प्रातः 6:23 से दिन में ग्यारह बजकर दस मिनट तक

सोमवार, 16 नवंबर    कार्तिक शुक्ल प्रतिपदा/द्वितीया / वृश्चिक संक्रान्ति

सूर्य का वृश्चिक राशि में गोचर प्रातः 6:54 पर | पुण्यकाल प्रातः 6:44 से सात बजकर दस मिनट तक केवल छब्बीस मिनट के लिए

मंगलवार, 15 दिसंबर   मार्गशीर्ष शुक्ल प्रतिपदा / धनु संक्रान्ति

सूर्य का धनु राशि में गोचर रात्रि 9:32 पर | पुण्यकाल दिन में 12:16 से सायं 5:26 तक

भगवान भास्कर का प्रत्येक राशि में संक्रमण समस्त चराचर प्रकृति को ऊर्जा प्रदान करते हुए जन साधारण के जीवन को ज्ञान, सुख-समृद्धि, उल्लास तथा स्नेह की ऊर्जा से परिपूर्ण करे…

पोंगल

माघ बिहू

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2020/01/14/makar-sankranti/

 

संकष्टी चतुर्थी

संकष्टी चतुर्थी

आज माघ शुक्ल चतुर्थी तिथि है – विघ्न विनाशक गणपति की उपासना का पर्व जिसे लम्बोदर संकष्टी चतुर्थी – आँचलिक बोली में संकट चतुर्थी – वक्रतुंडी चतुर्थी – तिलकुटा चौथ – कहा जाता है – का पावन पर्व है (सायं पाँच बजकर तैंतीस मिनट तक तृतीया है और उसके बाद चतुर्थी तिथि का आरम्भ हो रहा है जो कल दिन में दो बजकर पचास मिनट तक रहेगी) | तिथि के आरम्भ में बव करण और आयुष्मान योग होगा तथा सूर्य और चन्द्र क्रमशः उत्तराषाढ़ और मघा नक्षत्रों पर एक दूसरे से नवम-पञ्चम भावों में अत्यन्त शुभ स्थिति में रहेंगे | व्रत के पारायण के लिए दिल्ली में आज चन्द्रोदय आठ बजकर तैंतीस मिनट पर ही | साथ ही आज लोहड़ी का उल्लासमय पर्व भी है | अस्तु, सभी को संकष्टी चतुर्थी तथा लोहड़ी की हार्दिक शुभकामनाएँ..

लगभग समूचे देश में विघ्नहर्ता सुखकर्ता भगवान् गणेश की उपासना का पर्व संकष्टी चतुर्थी बड़ी आस्था और श्रद्धा के साथ मनाया जाता है | मान्यता है कि इसी दिन भगवान् शंकर ने अपने पुत्र गणेश के शरीर पर हाथी का सिर लगाया था और माता पार्वती अपने पुत्र को इसी रूप में पाकर अत्यन्त प्रसन्न हो गई थीं | इस दिन स्थान स्थान पर गणपति की प्रतिमाओं की स्थापना करके नौ दिनों तक उनकी पूजा अर्चना की जाती है और दसवें दिन पूर्ण श्रद्धा भक्ति भाव से उन प्रतिमाओं का विसर्जन किया जाता है |

इन कथाओं का यद्यपि कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है, किन्तु हमें यह नहीं भूलना चाहिये कि आस्था विज्ञान पर भारी होती है और आस्थापूर्वक की गई उपासना से वास्तव में मनुष्य में इतनी सामर्थ्य आ जाती है कि अपने लक्ष्य की प्राप्ति की दिशा में वह पूर्ण मनोयोग से तत्पर हो जाता है | यही कारण है कि समस्त ज्योतिषी भी जब किसी समस्या के निदान के लिए कोई उपाय बताते हैं तो आस्थापूर्वक मन्त्रजाप की सलाह अवश्य देते हैं |

संकष्टी चतुर्थी के दिन तिल गुड़ से गणपति की उपासना की जाती है | इसका कारण सम्भवतः यह रहा होगा कि कडकडाती ठण्ड में तिल और गुड़ का सेवन सर्दी से बचने का भी एक उपाय होता है | हर ऋतु में हर मौसम में हर प्रान्त में ईश्वरोपासना के समय वही वस्तु अर्पण की जाती है जो या तो उस मौसम और उस प्रान्त में सरलता से उपलब्ध होती है या उस मौसम में होने वाले रोगों के प्रकोप से बचाने में सहायक होती है | इसलिए तिल गुड़ से गणपति की उपासना का यही औचित्य प्रतीत होता है |

अस्तु! ऋद्धि सिद्धि दाता गणपति के प्रति आस्थापूर्वक नमन करते हुए प्रस्तुत हैं विघ्नविनाशक की अंगपूजा के सहित गणपतेरेकविंशतिनामस्तोत्रम् और मंगलम् | गणपति की अंगपूजा करके उनके इक्कीस नामों का स्मरण करना चाहिए | जल में दुग्ध, अक्षत, सिंदूर आदि मिलाकर दूर्वा से गणपति के सभी अंगों की क्रमशः पूजा का विधान इस प्रकार है…

अंगपूजा :

ॐ गणेशाय नमः – पादौ पूजयामि

ॐ विघ्नराजाय नमः – जानुनी पूजयामि

ॐ आखुवाहनाय नमः – उरु: पूजयामि

ॐ हेरम्बाय नमः – कटि पूजयामि

ॐ कामरीसूनुवे नमः – नाभिं पूजयामि

ॐ लम्बोदराय नमः – उदरं पूजयामि

ॐ गौरीसुताय नमः – स्तनौ पूजयामि

ॐ गणनाथाय नमः – हृदयं पूजयामि

ॐ स्थूलकंठाय नमः – कण्ठं पूजयामि

ॐ पाशहस्ताय नमः – स्कन्धौ पूजयामि

ॐ सिद्धिबुद्धिसहिताय नमः – हस्तान् पूजयामि

ॐ स्कन्दाग्रजाय नमः – वक्त्रं पूजयामि

ॐ विघ्नहर्ताय नमः – ललाटं पूजयामि

ॐ सर्वेश्वराय नमः – शिर: पूजयामि

ॐ गणाधिपतये नमः – सर्वांगाणि पूजयामि

गणपतेरेकविंशतिनामस्तोत्रम्

ॐ सुमुखाय नमः ॐ गणाधीशाय नमः ॐ उमा पुत्राय नमः

ॐ गजमुखाय नमः ॐ लम्बोदराय नमः ॐ हर सूनवे नमः

ॐ शूर्पकर्णाय नमः ॐ वक्रतुण्डाय नमः ॐ गुहाग्रजाय नमः

ॐ एकदन्ताय नमः ॐ हेरम्बराय नमः ॐ चतुर्होत्रै नमः

ॐ सर्वेश्वराय नमः ॐ विकटाय नमः ॐ हेमतुण्डाय नमः

ॐ विनायकाय नमः ॐ कपिलाय नमः ॐ वटवे नमः

ॐ भाल चन्द्राय नमः ॐ सुराग्रजाय नमः ॐ सिद्धि विनायकाय नमः

मंगलम्

स जयति सिन्धुरवदनो देवो यत्पादपंकजस्मरणम् |

वासरमणिरिव तमसां राशीन्नाशयति विघ्नानाम् ||

सुमुखश्‍चैकदन्तश्‍च कपिलो गजकर्णकः |

लम्बोदरश्‍च विकटो विघ्ननाशी: विनायकः ||

धूम्रकेतुर्गणाध्यक्षो भालचन्द्रो गजाननः |

द्वादशैतानि नामानि यः पठेच्छृणुयादपि ||

विद्यारम्भे विवाहे च प्रवेशे निर्गमे तथा |

संग्रामे संकटे चैव विघ्नस्तस्य न जायते ||

शुक्लाम्बरधरं देवं शशिवर्णं चतुर्भुजम् |

प्रसन्नवदनं ध्यायेत्सर्वविघ्नोपशान्तये ||

व्यासं वसिष्‍ठनप्तारं शक्तेः पौत्रमकल्मषम् |

पराशरात्मजं वन्दे शुकतातं तपोनिधिम् ||

व्यासाय विष्‍णुरूपाय व्यासरूपाय विष्‍णवे |

नमो वै ब्रह्मनिधये वासिष्‍ठाय नमो नमः ||

अचतुर्वदनो ब्रह्मा द्विबाहुरपरो हरिः |

अभाललोचनः शम्भुर्भगवान् बादरायणः ||

सभी का जीवन मंगलमय रहे और सभी आस्थापूर्वक लक्ष्यप्राप्ति की दिशा में अग्रसर रहें, इसी कामना के साथ सभी को संकष्टी चतुर्थी और लोहड़ी की एक बार पुनः हार्दिक शुभकामनाएँ…

Happy Lohri

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2020/01/13/sankashti-chaturthi/

 

कर्क राशि के लिए शनि के मकर में गोचर के सम्भावित प्रभाव

शनि का मकर में गोचर

कल के लेख में शनि के मकर राशि में गोचर के मिथुन राशि के जातकों पर सम्भावित प्रभावों के विषय में चर्चा की थी, आज कर्क राशि के जातकों पर शनि के मकर में गोचर के सम्भावित प्रभावों पर संक्षेप में दृष्टिपात…

किन्तु ध्यान रहे, ये सभी परिणाम सामान्य हैं | किसी कुण्डली के विस्तृत फलादेश के लिए केवल एक ही ग्रह के गोचर को नहीं देखा जाता अपितु उस कुण्डली का विभिन्न सूत्रों के आधार पर विस्तृत अध्ययन आवश्यक है | अस्तु, आज कर्क राशि

कर्क राशि के जातकों के लिए उनका सप्तमेश और अष्टमेश होकर शनि का गोचर उनके सप्तम भाव में हो रहा है, जहाँ से उनके नवम भाव, लग्न और चतुर्थ भाव पर शनि की दृष्टियाँ रहेंगी | यदि आपने अपने आलस्य का त्याग कर दिया तो आपको अपने कार्यों में सफलता की सम्भावना की जा सकती है | आप इसी वर्ष यानी 2020 में ही अपने व्यापार से सम्बन्धित कुछ महत्त्वपूर्ण निर्णय ले सकते हैं जो आपके लिए लाभदायक भी सिद्ध हो सकते हैं | यदि आपका कार्य किसी प्रकार भी विदेश से सम्बन्ध रखता है तो उसमें भी आपके लिए लाभ की सम्भावना की जा सकती है | किसी महिला मित्र के माध्यम से आपको कोई महत्त्वपूर्ण प्रोजेक्ट प्राप्त हो सकता है जिसके कारण आप दीर्घ समय तक व्यस्त रहते हुए अर्थ लाभ कर सकते हैं | किसी नई नौकरी की तलाश में हैं तो वह भी इस अवधि में आपको प्राप्त हो सकती है | आपके स्वभाव में भी इस अवधि में गम्भीरता आने की सम्भावना है जिसके कारण आप स्वयं ही समस्त निर्णय और कार्य सोच समझ कर ही करेंगे तथा लक्ष्य के प्रति एकाग्र रहेंगे |

आप अपने लिए नया घर अथवा वाहन भी खरीद सकते हैं | ऐसा भी सम्भव है आप जिस घर में अभी रहते हैं उसे ही Renovate करा लें | इस कार्य में आपके परिवार का सहयोग भी आपको उपलब्ध रह सकता है | कार्यस्थल पर सहयोग का वातावरण बना रहने की सम्भावना है | परिवार में बच्चे के जन्म की भी सम्भावना है | ड्राइविंग के समय सावधान रहने की आवश्यकता है | किसी के साथ भी व्यर्थ के विवाद में न उलझें अन्यथा धनहानि की सम्भावना से भी इन्कार नहीं किया जा सकता |

अपने तथा अपनी माता जी के स्वास्थ्य की ओर से सावधान रहने की आवश्यकता है | कोई पुरानी बीमारी फिर से उभर सकती है अतः नियमित चेकअप आपके लिए आवश्यक है | यदि आप गर्भवती महिला हैं तो आपके लिए तो निश्चित रूप से नियमित चेकअप तथा डॉ के दिशा निर्देशों का पालन करने की आवश्यकता है |

शनि का गोचर आपके सप्तम भाव में हो रहा है और सप्तम भाव विवाह तथा जीवन साथी के लिए देखा जाता है | यदि आप अविवाहित हैं और जीवन साथी की तलाश में हैं तो आपको अनुकूल जीवन साथी मिलने की सम्भावना है – किन्तु माता पिता तथा परिवार की सहमति से ही यह कार्य करेंगे तो आपके हित में रहेगा | विवाहित हैं तो दाम्पत्य जीवन में माधुर्य तथा हर्षोल्लास बना रहने की सम्भावना है | जीवन साथी के साथ देश विदेश घूमने का भी आनन्द ले सकते हैं |

अन्त में बस इतना ही कि यदि कर्म करते हुए भी सफलता नहीं प्राप्त हो रही हो तो किसी अच्छे ज्योतिषी के पास दिशानिर्देश के लिए अवश्य जाइए, किन्तु अपने कर्म और प्रयासों के प्रति निष्ठावान रहिये – क्योंकि ग्रहों के गोचर तो अपने नियत समय पर होते ही रहते हैं, केवल आपके कर्म और उचित प्रयास ही आपको जीवन में सफल बना सकते हैं…

आगे सिंह राशि पर शनि के मकर में गोचर के सम्भावित प्रभावों पर बात करेंगे…

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2020/01/11/saturn-transit-in-capricorn-5/

बुध का मकर में गोचर

माघ कृष्ण तृतीया यानी सोमवार तेरह जनवरी को प्रातः 11:35 के लगभग विष्टि करण और आयुष्मान योग में बुध का गोचर मकर राशि में हो जाएगा | बुध इस समय उत्तराषाढ़ नक्षत्र पर है तथा अस्त है | यहाँ से 19 जनवरी को बुध श्रवण नक्षत्र और 27 जनवरी को धनिष्ठा नक्षत्र पर भ्रमण करता हुआ अन्त में तीस जनवरी को 26:54 (अर्द्धरात्र्योत्तर दो बजकर चौवन मिनट) के लगभग अस्त अवस्था में ही कुम्भ राशि में प्रस्थान कर जाएगा | मकर राशि के लिए बुध षष्ठेश और नवमेश है तथा बुध की मिथुन राशि के लिए मकर राशि अष्टम भाव है और कन्या राशि के लिए पञ्चम भाव है | इन्हीं सब तथ्यों के आधार पर आइये जानने का प्रयास करते हैं कि बुध के मकर राशि में गोचर के विभिन्न राशियों पर क्या सम्भावित प्रभाव हो सकते हैं…

किन्तु ध्यान रहे, ये समस्त परिणाम सामान्य हैं | किसी कुण्डली के विस्तृत फलादेश के लिए केवल एक ही ग्रह के गोचर को देखकर भ्रम में पड़ जाना उचित नहीं होता, अपितु उस कुण्डली का विभिन्न सूत्रों के आधार पर विस्तृत अध्ययन आवश्यक है |

मेष : आपका तृतीयेश और षष्ठेश का गोचर आपके कर्म स्थान में हो रहा है | आपके लिए यह गोचर मिश्रित फल देने वाला प्रतीत होता है | नौकरी में हैं तो पदोन्नति की भी सम्भावना है | उत्साह में वृद्धि का समय भी प्रतीत होता है | किन्तु परिवार के लोगों विशेषकर छोटे भाई बहनों के साथ किसी प्रकार का विवाद भी सम्भव है | अच्छा रहेगा यदि अपने पिता अथवा परिवार के अन्य किसी बुज़ुर्ग की मध्यस्थता से इस विवाद को आपस में ही सुलझा लें | पॉलिटिक्स से सम्बद्ध लोगों के लिए यह गोचर विशेष रूप से अनुकूल प्रतीत होता है | माँसपेशियों तथा जोड़ों में दर्द की समस्या हो सकती है अतः योग का अभ्यास नियमित रूप से करने की आवश्यकता है |

वृषभ : आपका द्वितीयेश और पंचमेश आपकी राशि से नवम भाव में गोचर कर रहा है | आपके लिए विशेष रूप से भाग्यवर्द्धक समय प्रतीत होता है | आपकी निर्णायक क्षमता में वृद्धि के साथ ही कार्य में प्रगति की तथा आर्थिक स्थिति में दृढ़ता की सम्भावना भी है | आप इस अवधि में तीर्थयात्रा आदि का कार्यक्रम भी बना सकते हैं | परिवार के लोगों का सहयोग आपको प्राप्त रहेगा | उच्च शिक्षा के लिए भी प्रयास कर सकते हैं | आपकी सन्तान के लिए भी यह गोचर अनुकूल प्रतीत होता है | सन्तान यदि नौकरी की तलाश में है तो उसके मन के अनुकूल कोई नौकरी भी उसे प्राप्त हो सकती है |

मिथुन : आपका लग्नेश तथा चतुर्थेश आपकी राशि से अष्टम भाव में गोचर कर रहा है | एक ओर जहाँ आपके लिए एक और उत्साह में वृद्धि के योग हैं, आपकी निर्णायक और प्रतियोगी क्षमताओं में वृद्धि के योग प्रतीत होते हैं, वहीं पारिवारिक स्तर पर कुछ समस्याओं अथवा विवादों का सामना भी इस अवधि में करना पड़ सकता है – विशेष रूप से सन्तान के साथ व्यर्थ के विवाद से बचने की आवश्यकता है, अन्यथा इसका विपरीत प्रभाव आपके स्वास्थ्य पर भी पड़ सकता है | स्वास्थ्य का ध्यान रखने की आवश्यकता है | आपकी सन्तान और जीवन साथी के लिए यह गोचर अनुकूल प्रतीत होता है |

कर्क : आपके लिए द्वादशेश और तृतीयेश होकर बुध आपकी राशि से सप्तम भाव में गोचर कर रहा है | परिवार में प्रेम और सौहार्द का तथा आनन्द का वातावरण विद्यमान रहने की सम्भावना है | यदि अविवाहित हैं तो इस अवधि में कहीं आपका विवाह सम्बन्ध भी निश्चित हो सकता है | विवाहित हैं तो जीवन साथी के साथ सम्बन्धों में माधुर्य बना रह सकता है | आप अपने लिए नया घर खरीदने की योजना भी बना सकते हैं | परिवार में किसी नवीन सदस्य के आगमन के कारण परिवार में उत्साह तथा मंगलकार्यों का वातावरण बना रह सकता है जिसके कारण बहुत से सम्बन्धियों और मित्रों के साथ मिलना हो सकता है | आपके लिए भी यात्राओं में वृद्धि की सम्भावना है |

सिंह : आपके लिए द्वितीयेश और एकादशेश होकर बुध का गोचर आपकी राशि से छठे भाव में हो रहा है | इस अवधि में आपकी वाणी प्रभावशाली बनी रहेगी और आपकी निर्णायक क्षमता स्पष्ट बनी रहेगी जिसका लाभ आपको अपने कार्यक्षेत्र में प्राप्त हो सकता है | आप अपने लक्ष्य के प्रति दृढ संकल्प रहेंगे | किन्तु साथ ही आपकी पेमेण्ट कहीं रुक सकती है, जिसके लिए आपको अधिकारी वर्ग के साथ कुछ विवाद भी करना पड़ सकता है | किन्तु कुछ देर से ही सही, आपकी पेमेण्ट आपको प्राप्त अवश्य हो जाएगी | साथ ही अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखने की भी आवश्यकता है | सरदर्द, जोड़ों तथा माँसपेशियों में दर्द की समस्या हो सकती है | डॉक्टर के बताए विटामिन्स आदि समय पर लेते रहेंगे और व्यायाम को अपनी दिनचर्या का अंग बना लेंगे तो बहुत सी समस्याओं से बचे रह सकते हैं |

कन्या : आपका राश्यधिपति तथा दशमेश बुध का गोचर आपकी राशि से पंचम भाव में हो रहा है | आपके लिए कार्य की दृष्टि से तथा आर्थिक दृष्टि से यह गोचर अत्यन्त अनुकूल प्रतीत होता है | आप इस अवधि में अपने कार्य से सम्बन्धित किसी प्रकार का Short Term Advance Course भी कर सकते हैं | इसके अतिरिक्त अपनी सन्तान को भी किसी कोर्स के लिए भेज सकते हैं | सन्तान की ओर से कोई शुभ समाचार भी इस अवधि में प्राप्त हो सकता है | साथ ही यदि आप लेखक अथवा वक्ता हैं तो आपको सिमेनार्स आदि में अपना शोध पत्र प्रस्तुत करने का अवसर प्राप्त हो सकता है | आपके रुके हुए कार्य इस अवधि में पूर्ण होकर आपको उनका अनुकूल पारिश्रमिक भी इस अवधि में प्राप्त होने की सम्भावना है |

तुला : आपका द्वादशेश और भाग्येश आपके चतुर्थ भाव में हो रहा है | आपको अपने कार्य में अपने पिता का सहयोग निरन्तर प्राप्त रहेगा | आपके कार्य में तथा आर्थिक स्थिति में लाभ और वृद्द्धि की सम्भावना इस अवधि में की जा सकती है | कार्य से सम्बन्धित व्यस्तताओं के कारण सम्भव है आप परिवार पर अधिक ध्यान न दे पाएँ | किन्तु आपके लिए इस समय अपने कार्य पर एकाग्रचित्त रहने का समय है जिसका भविष्य में भी आपको लाभ हो सकता है | आपके प्रभावशाली व्यक्तित्व का लाभ आपको अपने कार्य में मिलने की सम्भावना है | कार्य से सम्बन्धित विदेश यात्राओं में भी वृद्धि की सम्भावना है | परिवार में किसी प्रकार के तनाव की सम्भावना है |

वृश्चिक : आपका एकादशेश और अष्टमेश आपकी राशि से तीसरे भाव में गोचर रहा है | आपके लिए कार्य की दृष्टि से यह गोचर अनुकूल प्रतीत होता है | आप कोई नया कार्य भी इस अवधि में आरम्भ कर सकते हैं | साथ ही आप अपने छोटे भाई बहनों की भी किसी प्रकार की सहायता कर सकते हैं | आपका कार्य यदि किसी प्रकार विदेश से सम्बन्ध रखता है तो आपके लिए कार्य से सम्बन्धित विदेश यात्राओं में वृद्धि के भी योग हैं | किसी ऐसे स्थान से भी कार्य और अर्थ का लाभ हो सकता है जहाँ के विषय में आपने कल्पना भी नहीं की होगी | किन्तु इन यात्राओं के दौरान आपको अपने Important Documents को सम्भाल कर रखने की आवश्यकता होगी | आपके भाई बहनों के लिए यह गोचर अनुकूल प्रतीत होता है | धार्मिक गतिविधियों में वृद्धि की सम्भावना है |

धनु : आपका सप्तमेश और दशमेश दूसरे भाव में गोचर कर रहा है | आपके तथा आपके जीवन साथी के लिए कार्य की दृष्टि से यह गोचर अत्यन्त भाग्यवर्धक प्रतीत होता है | आप यदि मीडिया या किसी प्रकार की Alternative Therapy से सम्बन्ध रखते हैं, प्रॉपर्टी से सम्बन्धित किसी व्यवसाय से सम्बन्ध रखते हैं अथवा लेखन के क्षेत्र में हैं या वक्ता हैं तो आपके लिए आर्थिक लाभ तथा पुरूस्कार आदि प्राप्त होने के संकेत हैं | आपके कार्यों की सराहना होगी और आपकी योजनाओं को क्रियान्वित भी किया जा सकता है | नौकरी में पदोन्नति के भी संकेत हैं | राजनीति से जुड़े लोगों के लिए भी यह गोचर भाग्यवर्द्धक प्रतीत होता है |

मकर : आपका षष्ठेश और भाग्येश आपकी लग्न में ही गोचर कर रहा है | आपका अपना व्यवसाय है तो उसमें उन्नति के संकेत हैं | कोई नया कार्य भी इस अवधि में आरम्भ कर सकते हैं | पार्टनरशिप में कार्य आरम्भ करने के लिए भी यह गोचर अनुकूल प्रतीत होता है | नौकरी में हैं तो उसमें भी पदोन्नति की सम्भावना की जा सकती है | नौकरी की तलाश में हैं तो वह भी इस अवधि में पूर्ण हो सकती है | सामाजिक गतिविधियों में वृद्धि की भी सम्भावना है | लोग आपके कार्यों की प्रशंसा करेंगे और अपने कार्य के लिए आपको किसी प्रकार का पुरूस्कार और सम्मान आदि भी प्राप्त हो सकता है | आपके जीवन साथी के लिए भी यह गोचर अनुकूल प्रतीत होता है |

कुम्भ : आपकी राशि से पंचमेश और अष्टमेश का गोचर आपकी राशि से बारहवें भाव में हो रहा है | कार्य के सिलसिले में अथवा उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए विदेश जा सकते हैं | किन्तु सम्भव है ये यात्राएँ आपके लिए मनोनुकूल न रहे | नौकरी में हैं तो किसी अधिकारी के रिटायर होने के कारण आपकी उसके स्थान पर पदोन्नति के साथ ही किसी दूर के शहर में आपका ट्रांसफर भी हो सकता है | किसी मित्र को पैसा उधार देना इस अवधि में उचित नहीं रहेगा | साथ ही आपके स्वयं के स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याओं पर पैसा भी खर्च हो सकता है | अचानक ही किसी ऐसे स्थान पर जाने का कार्यक्रम बन सकता है जहाँ आप बहुत पहले जाना चाहते थे किन्तु जा नहीं पा रहे थे |

मीन : आपकी राशि से चतुर्थेश और सप्तमेश का गोचर आपके एकादश भाव में हो रहा है | आपके लिए यह गोचर अत्यन्त अनुकूल प्रतीत होता है | आपके कार्य तथा आय में वृद्धि की सम्भावना है | नौकरी में हैं तो पदोन्नति की भी सम्भावना है | पॉलिटिक्स में यदि आप हैं तो आपके लिए विशेष रूप से यह गोचर भाग्यवर्द्धक सिद्ध हो सकता है | आप इस अवधि में कोई नया घर भी खरीद सकते हैं | दाम्पत्य जीवन में माधुर्य बना रहने की सम्भावना है | वंश वृद्धि का विचार भी आप इस अवधि में कर सकते हैं |

अन्त में, ग्रहों के गोचर अपने नियत समय पर होते ही रहते हैं | सबसे प्रमुख तो व्यक्ति का अपना कर्म होता है | तो, कर्मशील रहते हुए अपने लक्ष्य की ओर हम सभी अग्रसर रहें यही कामना है…

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2020/01/11/mercury-transit-in-capricorn-2/

 

मिथुन राशि के लिए शनि का मकर में गोचर

कल के लेख में शनि के मकर राशि में गोचर के वृषभ राशि के जातकों पर सम्भावित प्रभावों के विषय में चर्चा की थी, आज मिथुन राशि के जातकों पर शनि के मकर में गोचर के सम्भावित प्रभावों पर संक्षेप में दृष्टिपात…

किन्तु ध्यान रहे, ये सभी परिणाम सामान्य हैं | किसी कुण्डली के विस्तृत फलादेश के लिए केवल एक ही ग्रह के गोचर को नहीं देखा जाता अपितु उस कुण्डली का विभिन्न सूत्रों के आधार पर विस्तृत अध्ययन आवश्यक है | अस्तु, आज मिथुन राशि

आपके लिए आपका अष्टमेश और नवमेश होकर शनि का गोचर आपके अष्टम भाव में ही हो रहा है जहाँ से आपके कर्म स्थान यानी दशम भाव, वाणी और धन भाव यानी दूसरे भाव तथा सन्तान भाव यानी पञ्चम भाव पर इसकी दृष्टियाँ हैं | आपके लिए यह गोचर अनुकूल नहीं प्रतीत होता | अष्टम भाव आयु और मृत्यु का भाव भी कहा जाता है | साथ ही मिथुन राशि वालों के लिए अष्टम की मिथुन राशि वालों के लिए ढाई वर्ष की अष्टम भाव की ढैया भी आरम्भ हो जाएगी | यदि आपने अपनी वाणी पर नियन्त्रण नहीं रखा तो आपके बनते बनते कार्य भी रुक सकते हैं | कार्य में सफलता प्राप्त उच्च अधिकारियों के साथ व्यर्थ का विवाद भी जन्म ले सकता है जिसका विपरीत प्रभाव आपके कार्य पर पड़ सकता है | अचानक ही कार्य में व्यवधान का अनुभव भी हो सकता है | इसलिए आप जो भी कार्य करें सोच समझकर ही करें |

आर्थिक मामलों से सम्बन्धित कोई महत्त्वपूर्ण निर्णय यदि लेना हो तो सम्बन्धित व्यक्तियों से अच्छी तरह सलाह करके ही लें | हाँ, जिन लोगों के कार्य विदेश से सम्बन्ध रखते हैं उनके लिए यह गोचर अनुकूल प्रतीत होता है | साथ ही यदि प्रॉपर्टी से सम्बन्धित कोई केस चल रहा है तो उसमें भी आपके पक्ष में निर्णय आ सकता है | धार्मिक गतिविधियों में वृद्धि तथा धार्मिक स्थलों की तीर्थ यात्राओं के योग भी प्रतीत होते हैं | आपके लिए शनि के मन्त्र का जाप अनुकूल रहेगा | सन्तान के साथ व्यर्थ की बहस सम्बन्धों में दरार उत्पन्न कर सकती है, अतः सावधान रहे |

स्वास्थ्य का ध्यान रखने की आवश्यकता है अन्यथा अचानक ही किसी गम्भीर बीमारी के कारण आपके कार्य में मिथुनव्यवधान भी उपस्थित हो सकता है | खान पान पर नियन्त्रण रखने की बहुत आवश्यकता है | तनाव से बचने का प्रयास करें अन्यथा ब्लड प्रेशर सम्बन्धी समस्या हो सकती है | यदि आप गर्भवती महिला हैं तो आपको विशेष रूप से सावधान रहने की आवश्यकता है |

अविवाहित हैं तो प्रेम सम्बन्ध स्थापित हो सकता है, किन्तु आपके अपने स्वभाव के कारण उसमें दरार भी उत्पन्न हो सकती है | विवाहित हैं तो भी अपने स्वभाव और वाणी पर ध्यान देने की आवश्यकता है | जीवन साथी के साथ ईमानदार रहने की भी आवश्यकता है |

अन्त में बस इतना ही कि यदि कर्म करते हुए भी सफलता नहीं प्राप्त हो रही हो तो किसी अच्छे ज्योतिषी के पास दिशानिर्देश के लिए अवश्य जाइए, किन्तु अपने कर्म और प्रयासों के प्रति निष्ठावान रहिये – क्योंकि ग्रहों के गोचर तो अपने नियत समय पर होते ही रहते हैं, केवल आपके कर्म और उचित प्रयास ही आपको जीवन में सफल बना सकते हैं…

आगे कर्क राशि पर शनि के मकर में गोचर के सम्भावित प्रभावों पर बात करेंगे…

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2020/01/10/saturn-transit-in-capricorn-4/

वृषभ राशि के जातकों के लिए शनि का मकर में गोचर

कल के लेख में शनि के मकर राशि में गोचर के मेष राशि के जातकों पर सम्भावित प्रभावों के विषय में चर्चा की थी, आज वृषभ राशि के जातकों पर शनि के मकर में गोचर के सम्भावित प्रभावों पर संक्षेप में दृष्टिपात…

किन्तु ध्यान रहे, ये सभी परिणाम सामान्य हैं | किसी कुण्डली के विस्तृत फलादेश के लिए केवल एक ही ग्रह के गोचर को नहीं देखा जाता अपितु उस कुण्डली का विभिन्न सूत्रों के आधार पर विस्तृत अध्ययन आवश्यक है | अस्तु, आज वृषभ राशि

आपकी अष्टम भाव की ढैया समाप्त हो रही है जो आपके लिए राहत की बात हो सकती है | बहुत सी समस्याओं के समाप्त होने की सम्भावना की जा सकती है | आपके लिए नवम और दशम भाव का स्वामी होकर शनि योगकारक बन जाता है और इस समय आपके नवम भाव यानी भाग्य स्थान में ही गोचर करेगा जहाँ से आपके एकादश भाव, तृतीय स्थान तथा छठे भावों पर शनि की दृष्टियाँ रहेंगी | नवम भाव पिता का स्थान भी माना जाता है | सम्भव है आरम्भ में पिता के साथ किसी प्रकार का मतभेद हो किसी बात पर, किन्तु धीरे धीरे अनुकूलता की सम्भावना भी की जा सकती है, क्योंकि शनि आपके लिए योगकारक है | आपके लिए कार्य की दृष्टि से यह गोचर भाग्यवर्द्धक माना जा सकता है | यदि किसी नई नौकरी की तलाश में हैं तो वह भी आपको प्राप्त हो सकती है, लेकिन उसके लिए भाग दौड़ अधिक करनी पड़ेगी | कार्य में पदोन्नति तथा आय में वृद्धि की भी सम्भावना है | आलस्य को त्याग कर कार्य करते रहे तो भाग्योदय का समय है, अन्यथा हाथ में आया कार्य भी आपसे दूर जा सकता है |

यदि आप अनुकूल दिशा में प्रयास करते रहे तो आपके रुके हुए कार्य भी इस अवधि में पूर्ण होने की सम्भावना है | सहकर्मियों का सहयोग आपको उपलब्ध रहेगा | कार्यस्थल पर सौहार्द का वातावरण बने रहने की सम्भावना है जिसके कारण आप अपने कार्य समय पर पूर्ण करने में सक्षम होंगे | किन्तु इस अवधि में भाई बहनों के साथ किसी वृषभप्रकार का विवाद भी सम्भव है | विवाद से बचने का एक ही उपाय है – अपनी वाणी पर नियन्त्रण रखें | साथ ही, ध्यान रखें कि जो भी वादा आपने किया है उसे पूर्ण करने का प्रयास करें, अन्यथा आपके सम्मान को ही ठेस पहुँचेगी | बॉस का सहयोग प्राप्त रहेगा, किन्तु उसके साथ किसी प्रकार का पंगा आपके हित में नहीं रहेगा | धार्मिक गतिविधियों में वृद्धि की सम्भावना है | आप सपरिवार किसी धार्मिक स्थल पर तीर्थ यात्रा के लिए भी जा सकते हैं |

स्वास्थ्य का जहाँ तक प्रश्न है तो एक ओर तो किसी पुरानी बीमारी से मुक्ति की सम्भावना की जा सकती है, किन्तु वहीं दूसरी ओर यदि अपना Temperament सही नहीं रखा तो तनाव के कारण नींद में कमी तथा उससे जुड़ी अन्य समस्याएँ भी हो सकती हैं | आलस्य का त्याग कर योग और प्राणायाम पर ध्यान दें |

अविवाहित हैं तो किसी के साथ प्रेम सम्बन्ध बन सकता है, किन्तु विवाह में अभी समय लग सकता है | विवाहित हैं तो दाम्पत्य जीवन में मधुरता बने रहने की सम्भावना की जा सकती है |

अन्त में बस इतना ही कि यदि कर्म करते हुए भी सफलता नहीं प्राप्त हो रही हो तो किसी अच्छे ज्योतिषी के पास दिशानिर्देश के लिए अवश्य जाइए, किन्तु अपने कर्म और प्रयासों के प्रति निष्ठावान रहिये – क्योंकि ग्रहों के गोचर तो अपने नियत समय पर होते ही रहते हैं, केवल आपके कर्म और उचित प्रयास ही आपको जीवन में सफल बना सकते हैं…

आगे मिथुन राशि पर शनि के मकर में गोचर के सम्भावित प्रभावों पर बात करेंगे…

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2020/01/09/saturn-transit-in-capricorn-3/